77. परीक्षण का फल

वर्ष 2007 मेरी ज़िन्दगी में नया मोड़ लेकर आया। उस वर्ष मेरे पति का कार एक्सीडेंट हुआ और वो बिस्तर में पड़ गए। हमारे दोनों बच्चे तब छोटे थे और हमारे परिवार पर मुसीबत का वक्त था। मेरे लिए बहुत मुश्किल हो गयी थी, मुझे समझ नहीं आ रहा था कि हम उस मुसीबत से कैसे निकलें। फिर मैंने सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अंत के दिनों के कार्य को स्वीकारा। परमेश्वर के वचनों को पढ़कर मैंने जाना कि अपने जीवन के लिए हम परमेश्वर के ऋणी हैं, हमारी किस्मत उनके हाथ में है, और अच्छी किस्मत के लिए हमें परमेश्वर में आस्था रखकर उनकी आराधना करनी चाहिए। मुझे वो सहारा मिल गया जिस पर मैं भरोसा कर सकती थी। मैं सभाओं में नियमित रूप से जाने लगी, परमेश्वर के वचनों को पढ़ने और प्रार्थना करने के लिए अपने बच्चों को साथ ले गयी। जल्द ही मैं कलीसिया में अपना कर्तव्य निभाने लगी।

मुझे कलीसिया का अगुआ चुना गया और इस अनुग्रह के लिए मैंने परमेश्वर का धन्यवाद किया। मैंने सोचा, "हालाँकि मैं अपनी आस्था में नयी हूँ, फिर भी कलीसिया की अगुआ चुनी गयी। मुझे सत्य की खोज में निष्ठावान होना चाहिए। कैसे भी मुझे अपना कर्त्तव्य अच्छी तरह से निभाना चाहिए, तब मुझे ज़रूर बचा लिया जाएगा।" इस सोच ने मुझे कर्तव्य निभाने के लिए प्रोत्साहित किया। अधिकतर समय मैं सुसमाचार के प्रचार और कर्त्तव्य निभाने में बिताने लगी। मेरे दोस्त और रिश्तेदार मेरी आस्था के विरुद्ध थे, पड़ोसी भी मुझे ताने देने और बदनाम करने लगे। तब मैं थोड़ा कमज़ोर पड़ने लगी लेकिन मैं अपना कर्तव्य निभाने से नहीं रुकी। बाद में, मेरे पति ने भी परमेश्वर के अंत के दिनों के कार्य को स्वीकारा और अपना कर्त्तव्य निभाने लगे। इससे मैं बहुत खुश हुई। मैंने सोचा, "जब तक हम अपना कर्तव्य अच्छे से निभाते हैं और परमेश्वर के लिए त्याग करते हैं, हमें उनका आशीर्वाद मिलेगा।" खासकर जब मैंने भाई-बहनों को कहते सुना कि मैंने दुःख झेले और कीमत चुकाई है, और परमेश्वर मेरी रक्षा अवश्य करेंगे, मैं बहुत खुश थी और परमेश्वर की सेवा के लिए और अधिक प्रेरित हुई।

2012 में एक दिन मुझे मेरे स्तन पर एक गाँठ मिली जो दुःख रही थी। मुझे चिंता हुई कि कहीं कुछ गंभीर बात न हो। लेकिन फिर सोचा, "ऐसा नहीं हो सकता। मैं रोज़ कलीसिया में अपना कर्त्तव्य निभाती हूँ। परमेश्वर उसके साथ ऐसा नहीं कर सकते जो उनके लिए सच में त्याग करता हो। परमेश्वर के संरक्षण में, मैं गंभीर रूप से बीमार नहीं हो सकती।" ऐसा सोचते ही मेरी चिंताएं गायब हो गयीं और पहले की तरह मैं कर्त्तव्य निभाती रही। 2013 में विश्वासियों पर सी.सी.पी के अत्याचार काफ़ी बढ़ गए। मुझे और मेरे पति को आसपास के इलाकों में सुसमाचार के प्रचार के लिए जाना-जाता था और गिरफ्तारी का खतरा हमेशा बना रहता था। हमने अपना घर छोड़ दिया और दूर चले गए, ताकि अपने-अपने कर्त्तव्य निभाते रहें। बाद में मैंने पाया कि मेरे स्तन की वो गाँठ बढ़ती जा रही थी और मुझे चिंता हुई कि यह कोई बुरी बीमारी न हो। लेकिन मैंने सोचा कि इतने वर्षों से कुछ बुरा तो हुआ नहीं और वास्तव में परमेश्वर मेरी रक्षा कर रहे हैं। जब तक मैं अपना कर्त्तव्य अच्छी तरह करूँ और ज़्यादा त्याग करती रहूं, परमेश्वर मुझ पर दया करेंगे और मैं गंभीर रूप से बीमार नहीं होउंगी।

2018 में, मैं अस्वस्थ महसूस करने लगी मेरे पति मुझे जांच के लिए ले गए। डॉक्टर ने कहा, मेरे स्तन की गाँठ बत्तख के अंडे जितनी बड़ी हो गयी है और यह बात चिंताजनक है। उन्होंने कहा कि एकदम से ऑपरेशन करना जोख़िम भरा होगा और पहले केमोथेरापी से गाँठ छोटी करनी होगी, फिर ऑपरेशन हो सकेगा। "चिंताजनक" और "केमोथेरापी" जैसे शब्द सुनते ही मैं घबरा गयी। मैंने सोचा, "सिर्फ कैंसर के मरीज़ ही केमोथेरापी करवाते हैं। क्या मुझे कैंसर है? क्या मैं जवानी में ही मर जाऊंगी?" मुझे विश्वास नहीं हो रहा था। मैं अस्पताल के गलियारे में एक बेंच पर गिर पड़ी और फूट-फूटकर रोने लगी।

पति ने मुझे सांत्वना देते हुए कहा, "ज़रूरी नहीं कि यह शुरुआती जांच सही हो। कल दूसरे अस्पताल में हम तुम्हारी एक और जांच करवाएंगे।"

अगले दिन हम दूसरे अस्पताल में गए, जहां मेरी बॉयोप्सी हुई। डॉक्टर ने कहा कि मेरी हालत ख़राब है और यह कैंसर हो सकता है। उन्होंने कहा कि और इंतज़ार न करके दो दिन में ही मेरा ऑपरेशन करना होगा।

उनकी बात सुनकर मैं निढाल हो गयी और मेरा दिल बर्फ़ सा जम गया। मैंने सोचा, "क्या ये सचमुच कैंसर है? कैंसर से लोग मर जाते हैं! मेरे साथ ऐसा कैसे हो सकता है?" फिर मैंने सोचा, "कभी नहीं। जब से मैं विश्वासी बनी हूँ मैंने हमेशा अपना कर्तव्य निभाया है, त्याग किये हैं, पीड़ा सही है और कीमत चुकाई है।" दूसरों के ताने और बदनामी सही है, सी.सी.पी द्वारा सतायी गयी हूँ। मैंने किसी को भी अपने कर्तव्य में अड़ंगा नहीं डालने दिया। मुझे कैंसर कैसे हो सकता है? क्या मेरी रक्षा नहीं होगी और स्वर्ग के राज्य में जाने की मेरी कोई आशा नहीं है? क्या मेरे वर्षों के त्याग सब बेकार हो गये?" मैं बहुत दुखी हो गयी।

उस रात मैं सो न सकी और बिस्तर में करवटें बदलती रही। मैं कुछ भी समझ नहीं पा रही थी। मैंने अपने आप को इतना अधिक खपाया, तो मैं इतनी बीमार कैसे हो गयी? परमेश्वर ने मेरी रक्षा क्यों नहीं की? फिर मैंने दो दिन में होने वाले ऑपरेशन के बारे में सोचा। पता नहीं ऑपरेशन सफल भी होगा या नहीं … मैं बहुत व्यथित थी, मैंने मन ही मन परमेश्वर से प्रार्थना की: "प्रिय परमेश्वर, मैं बहुत दुखी हूँ। पता नहीं मैं इस स्थिति से कैसे उबरूँ। कृपया मेरा मार्गदर्शन करें…" फिर मैंने मनुष्य से परमेश्वर की आखिरी ग्यारह अपेक्षाएं पढ़ीं: "5. यदि तुम हमेशा मेरे प्रति बहुत निष्ठावान रहे हो, मेरे लिए तुममें बहुत प्रेम है, मगर फिर भी तुम बीमारी, दरिद्रता, और अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के द्वारा त्यागे जाने की पीड़ा को भुगतते हो या जीवन में किसी भी अन्य दुर्भाग्य को सहन करते हो, तो क्या तब भी मेरे लिए तुम्हारी निष्ठा और प्यार बना रहेगा? 6. यदि मैने जो किया है उसमें से कुछ भी उससे मिलान नहीं खाता है जिसकी तुमने अपने हृदय में कल्पना की है, तो तुम अपने भविष्य के मार्ग पर कैसे चलोगे? 7. यदि तुम्हें वह कुछ भी प्राप्त नहीं होता है जो तुमने प्राप्त करने की आशा की थी, तो क्या तुम मेरे अनुयायी बने रह सकते हो?" ("वचन देह में प्रकट होता है" में 'एक बहुत गंभीर समस्या : विश्वासघात (2)')। इन अपेक्षाओं पर विचार करके मुझे एहसास हुआ कि इस बीमारी से परमेश्वर मेरी परीक्षा ले रहे हैं, वास्तव में मैं उनकी वफादार हूँ और उनसे सच्चा प्रेम करती हूँ। मैंने अय्यूब की परीक्षाओं के बारे में सोचा। उन्होंने अपनी सारी सम्पत्ति और बच्चे खो दिए। उनके पूरे शरीर पर फोड़े हो गए। हालांकि वे परमेश्वर की इच्छा नहीं समझ सके, मगर उन्होंने परमेश्वर को दोष देने के बजाय खुद को कोसना ठीक समझा और उन्होंने यहोवा परमेश्वर का गुणगान किया। अय्यूब ने परमेश्वर में अपना विश्वास बनाये रखा और आज्ञाकारी बने रहे, वे शैतान के सामने परमेश्वर के गवाह बनकर खड़े हो गए। लेकिन मैंने वर्षों तक आस्था रखी और परमेश्वर के वचनों के पोषण का आनंद उठाया, फिर भी मैं परमेश्वर के कार्य को नहीं समझ सकी। जब मुझे कैंसर होने का पता चला, मुझे लगा मेरा बचाव नहीं हो सकता या स्वर्ग के राज्य का आनंद नहीं ले सकूंगी। मैंने परमेश्वर को गलत समझा और दोष दिया। वर्षों तक परमेश्वर में आस्था रखने और इतने त्याग करने के बाद, मैंने सोचा कि परमेश्वर को मुझे बीमार होने से रोकना चाहिए था। जब परमेश्वर ने मुझे उजागर किया तब मैं समझ सकी कि मैंने सभी त्याग उनकी इच्छा को ध्यान में रखकर नहीं किये थे, न ही परमेश्वर को संतुष्ट करने के लिए सत्य का अभ्यास किया था। वो सब तो आशीष पाने और स्वर्ग के राज्य में जाने के लिए था, मैं परमेश्वर से सौदा कर रही थी। मेरी तथाकथित वफादारी और परमेश्वर के प्रति प्यार सिर्फ़ एक झूठ था। वो सब निष्ठाहीन था और मेरे पास अपने परीक्षण की कोई गवाही नहीं थी। वास्तव में मैंने परमेश्वर को दुःख पहुँचाया और निराश किया था।

फिर मैंने परमेश्वर के वचन पढ़े: "सर्वशक्तिमान की नज़रों में सम्पूर्ण मनुष्यजाति में से किसकी देखभाल नहीं की जाती है? कौन सर्वशक्तिमान द्वारा पूर्वनियति के बीच नहीं रहता है? क्या मनुष्य का जीवन और मरण उसकी अपनी पसंद से होता है? क्या मनुष्य अपने भाग्य को खुद नियंत्रित करता है? बहुत से लोग मृत्यु की कामना करते हैं, फिर भी वह उनसे काफी दूर रहती है; बहुत से लोग ऐसे होना चाहते हैं जो जीवन में मज़बूत हैं और मृत्यु से डरते हैं, फिर भी उनकी जानकारी के बिना, उन्हें मृत्यु की खाई में डुबाते हुए, उनकी मृत्यु का दिन निकट आ जाता है; बहुत से लोग आसमान की ओर देखते हैं और गहरी आह भरते हैं; बहुत से लोग अत्यधिक रोते हैं, क्रन्दन करते हुए सिसकते हैं; बहुत से लोग परीक्षणों के बीच गिर जाते हैं; बहुत से लोग प्रलोभन के बंदी बन जाते हैं। यद्यपि मैं मनुष्य को मुझे स्पष्ट रूप से देखने की अनुमति देने के लिए व्यक्तिगत रूप से प्रकट नहीं होता हूँ, तब भी बहुत से लोग मेरे चेहरे को देख कर भयभीत हो जाते हैं, गहराई तक डरते हैं कि मैं उन्हें मार गिराऊँगा, कि मैं उन्हें नष्ट कर दूँगा। क्या मनुष्य वास्तव में मुझे जानता है या नहीं?" ("वचन देह में प्रकट होता है" में 'संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन' के 'अध्याय 11')। परमेश्वर के वचनों ने दिखाया कि इंसान के शरीर और आत्मा का स्रोत परमेश्वर में निहित है। ज़िन्दगी और मौत परमेश्वर के हाथ में है, उसमें हमारा कोई दखल नहीं है। सृजित प्राणी होने के नाते, हमें परमेश्वर की व्यवस्थाओं के प्रति समर्पित होना चाहिए। ये बात समझ आते ही मुझे मौत से डर लगना बंद हो गया। मैंने मन ही मन संकल्प लिया: "मेरा ऑपरेशन कैसा भी हो, मैं मरूं या जीयूं, मैं अपना जीवन परमेश्वर के हाथ में सौंपती हूँ और उनके शासन के प्रति समर्पित होती हूँ।"

समर्पण करने के बाद, मेरे दिल में असीम शांति की लहर दौड़ गई। ऑपरेशन के लिए ले जाते वक्त मैं लगातार प्रार्थना करती रही। बाद में, डॉक्टर ने कहा कि ऑपरेशन बढ़िया हो गया, लेकिन जो भी हो, निकली हुई गाँठ की जांच करके पता लगाना होगा कि आगे क्या होगा। मैंने सोचा, "परमेश्वर का संरक्षण पाने से ही ऑपरेशन इतना अच्छा हुआ।" मैंने दूसरे मरीज़ों को ऑपरेशन करवाकर आते देखा, वो बदहवास और कमज़ोर थे जबकि मैं ठीक और उत्साहित महसूस कर रही थी। मेरे वार्ड के दूसरे मरीजों ने कहा, लगता ही नहीं कि मैंने ऑपरेशन करवाया है। इसके लिए मैंने मन ही मन परमेश्वर का धन्यवाद किया। मैंने यह भी सोचा, "मैंने अपने स्तन पर वह गाँठ छह साल पहले देखी थी। अगर कैंसर होता तो बहुत पहले बिगड़ गया होता। लेकिन इतने दिनों मैंने तकलीफ महसूस नहीं की। शायद यह कैंसर नहीं है। और अगर है भी, तो परमेश्वर सर्वशक्तिमान हैं, वे इसे ठीक कर देंगे।" मैंने पहले कुछ भाई-बहनों के बारे में सुना था जिन्होंने बहुत बीमार होने पर परमेश्वर में विश्वास किया और उनके चमत्कार देखे। मैंने हमेशा परमेश्वर के लिए त्याग किये, तो वो मेरी रक्षा अवश्य करेंगे।

तीन दिन बाद जब मैं जांच का नतीजा लेने गयी तो मेरी आशा निराशा में बदल गयी। मुझे वास्तव में कैंसर था।

मैं स्तब्ध बैठी रही, बार-बार नतीजे को पढ़ती रही मैं ज़ार-ज़ार रोती रही। बहुत देर बाद मैंने अपने आप को संभाला। मैंने सोचा, "क्या इस बीमारी से परमेश्वर मुझे उजागर करके ख़त्म कर देना चाहते हैं? क्या मैं उनकी सेवा करने के लायक नहीं रही? वर्षों से मैंने परमेश्वर में आस्था रखी, त्याग किये, आंधी तूफ़ान में भी उनके सुसमाचार का प्रचार किया। क्या परमेश्वर को ये सब याद नहीं? क्या यही परमेश्वर में आस्था रखने का नतीजा है?" मैं बहुत दुखी और बेजान हो रही थी।

मैं कुछ भी खाना-पीना नहीं चाहती थी, बात भी नहीं करना चाहती थी। डॉक्टर ने मुझे अच्छी ख़ुराक़ लेने और व्यायाम करने की सलाह दी। मैंने सोचा, "मुझे मौत की सजा दी गयी है, खुराक और व्यायाम का क्या फायदा? आज-कल में मुझे मरना ही तो है।" मैं खिन्न होकर सोचती रही, "बहुत सारे भाई-बहन आस्था रखने से पहले बीमार हुए, लेकिन आस्थावान होने के बाद ठीक हो गए। परमेश्वर में आस्था रखने के बाद मैं हर रोज़ अपना कर्तव्य निभाती रही। फिर मुझे कैंसर कैसे हो गया?" मैं सोचती थी कि त्याग करने से मुझे उद्धार प्राप्त होगा। अब न सिर्फ मेरा बचाव नहीं होगा, मैं कैंसर से मर जाऊंगी।" मेरे अंदर से दोष और परमेश्वर के बारे में गलतफहमी की भावनाएं उमड़ने लगीं। मैंने निराश होकर रोते हुए परमेश्वर से बात की, "प्रिय परमेश्वर, मैं बहुत दुखी हूँ। मैं बीमार हूँ, और आपकी इच्छा नहीं समझ पा रही हूँ। मुझे प्रबुद्ध करके मेरा मार्गदर्शन करें, ताकि मैं आपकी इच्छा को समझ सकूँ।"

फिर मैंने परमेश्वर के ये वचन पढ़े: "सभी लोगों के लिए शुद्धिकरण कष्टदायी होता है, और उसे स्वीकार करना बहुत कठिन होता है— परंतु शुद्धिकरण के दौरान ही परमेश्वर मनुष्य के समक्ष अपना धर्मी स्वभाव स्पष्ट करता है और मनुष्य से अपनी अपेक्षाएँ सार्वजनिक करता है, और अधिक प्रबुद्धता, अधिक वास्तविक काट-छाँट और व्यवहार प्रदान करता है; तथ्यों और सत्य के बीच की तुलना के माध्यम से वह मनुष्य को अपने और सत्य के बारे में बृहत्तर ज्ञान देता है, और उसे परमेश्वर की इच्छा की और अधिक समझ प्रदान करता है, और इस प्रकार उसे परमेश्वर के प्रति सच्चा और शुद्ध प्रेम प्राप्त करने देता है। शुद्धिकरण का कार्य करने में परमेश्वर के ये लक्ष्य हैं। उस समस्त कार्य के, जो परमेश्वर मनुष्य में करता है, अपने लक्ष्य और अपना अर्थ होता है; परमेश्वर निरर्थक कार्य नहीं करता, और न ही वह ऐसा कार्य करता है, जो मनुष्य के लिए लाभदायक न हो। शुद्धिकरण का अर्थ लोगों को परमेश्वर के सामने से हटा देना नहीं है, और न ही इसका अर्थ उन्हें नरक में नष्ट कर देना है। बल्कि इसका अर्थ है शुद्धिकरण के दौरान मनुष्य के स्वभाव को बदलना, उसके इरादों को बदलना, उसके पुराने विचारों को बदलना, परमेश्वर के प्रति उसके प्रेम को बदलना, और उसके पूरे जीवन को बदलना। शुद्धिकरण मनुष्य की वास्तविक परीक्षा और वास्तविक प्रशिक्षण का एक रूप है, और केवल शुद्धिकरण के दौरान ही उसका प्रेम अपने अंतर्निहित कार्य को पूरा कर सकता है" ("वचन देह में प्रकट होता है" में 'केवल शुद्धिकरण का अनुभव करके ही मनुष्य सच्चे प्रेम से युक्त हो सकता है')। परमेश्वर की इच्छा जानने में उनके वचनों ने मेरी बहुत सहायता की। व्यावहारिक परीक्षणों और शुद्धिकरणों का उपयोग करके परमेश्वर मेरी आंतरिक भ्रष्टता, बग़ावत, और कलुषित मंशाओं को उजागर और शुद्ध कर रहे थे ताकि मेरा स्वभाव बदल सके और मुझे बचाया जा सके। परमेश्वर के कार्य का यही लक्ष्य और अर्थ था। मगर मैं सोचती थी परमेश्वर मेरी जान लेना और मुझे खत्म करना चाहते थे, इसलिए मैंने परमेश्वर को गलत समझा और दोष दिया, उन्हें पूरी तरह से त्याग दिया और निराशा में डूब गयी। मैंने अपने त्यागों की कीमत लगाने, उनका श्रेय लेने और परमेश्वर से बहस करने की कोशिश की। मैंने तो अपनी मौत का उपयोग करके भी परमेश्वर का सामना करना चाहा था। मैं सारा विवेक खो बैठी थी! मुझे लगा कि मैं परमेश्वर की इतनी ज़्यादा ऋणी हूँ, तो मैं उनके समक्ष प्रार्थना करने और यह पता लगाने आयी कि क्यों जब मैं बीमार हुई तो परमेश्वर को ग़लत समझने और दोष लगाने के बजाय उनके प्रति समर्पित नहीं हो सकी।

फिर मैंने परमेश्वर के कुछ वचन पढ़े। "बहुत-से लोग केवल इसलिए मुझ पर विश्वास करते हैं कि मैं उनको चंगा कर सकता हूँ। बहुत-से लोग सिर्फ इसलिए मुझ पर विश्वास करते हैं कि मैं उनके शरीर से अशुद्ध आत्माओं को निकालने के लिए अपनी शक्तियों का इस्तेमाल करूँगा, और बहुत-से लोग मुझसे बस शांति और आनंद प्राप्त करने के लिए मुझ पर विश्वास करते हैं। बहुत-से लोग मुझसे सिर्फ और अधिक भौतिक संपदा माँगने के लिए मुझ पर विश्वास करते हैं। बहुत-से लोग मुझसे सिर्फ इस जीवन को शांति से गुज़ारने और आने वाले संसार में सुरक्षित और स्वस्थ रहने के लिए मुझ पर विश्वास करते हैं। बहुत-से लोग केवल नरक की पीड़ा से बचने के लिए और स्वर्ग के आशीष प्राप्त करने के लिए मुझ पर विश्वास करते हैं। बहुत-से लोग केवल अस्थायी आराम के लिए मुझ पर विश्वास करते हैं और आने वाले संसार में कुछ हासिल करने की कोशिश नहीं करते। जब मैंने अपना क्रोध नीचे मनुष्यों पर उतारा और उसका सारा आनंद और शांति छीन ली, तो मनुष्य संदिग्ध हो गया। जब मैंने मनुष्य को नरक का कष्ट दिया और स्वर्ग के आशीष वापस ले लिए, तो मनुष्य की लज्जा क्रोध में बदल गई। जब मनुष्य ने मुझसे खुद को चंगा करने के लिए कहा, तो मैंने उस पर ध्यान नहीं दिया और उसके प्रति घृणा महसूस की; तो मनुष्य मुझे छोड़कर चला गया और बुरी दवाइयों तथा जादू-टोने का मार्ग खोजने लगा। जब मैंने मनुष्य द्वारा मुझसे माँगा गया सब-कुछ वापस ले लिया, तो हर कोई बिना कोई निशान छोड़े गायब हो गया। इसलिए मैं कहता हूँ कि मनुष्य मुझ पर इसलिए विश्वास करता है, क्योंकि मैं बहुत अनुग्रह देता हूँ, और प्राप्त करने के लिए और भी बहुत-कुछ है" ("वचन देह में प्रकट होता है" में 'तुम विश्वास के बारे में क्या जानते हो?')। "ऐसे लोगों के पास परमेश्वर का अनुसरण करने का बहुत ही साधारण लक्ष्य होता है और वो लक्ष्य है आशीषें प्राप्त करना। ऐसे लोग इस तरह की किसी भी बात पर ध्यान नहीं देते जो इस लक्ष्य से मतलब नहीं रखती। उनके लिए, करने का अर्थ आशीषें प्राप्त करने के लिये परमेश्वर पर विश्वास करना सबसे तर्कसंगत लक्ष्य और उनके विश्वास का आधारभूत मूल्य है। और जो चीज़ें इस लक्ष्य को प्राप्त करने में सहायता प्रदान नहीं करतीं वे उनसे प्रभावित नहीं होते हैं। आज जो लोग परमेश्वर पर विश्वास करते हैं उनके साथ ऐसी ही समस्या है। उनके लक्ष्य और प्रेरणा तर्कसंगत दिखाई देते हैं, क्योंकि वे परमेश्वर पर विश्वास समय ही, परमेश्वर के लिए स्वयं को खपाते भी हैं, परमेश्वर के प्रति समर्पित भी होते हैं और अपने कर्तव्य को भी निभाते हैं। वे अपनी जवानी लगा देते हैं, परिवार और भविष्य को त्याग देते हैं, और यहां तक कि सालों अपने घर से दूर व्यस्त रहते हैं। अपने परम लक्ष्य के लिये, वे अपनी रूचियों को बदल डालते हैं, अपने जीवन के दृष्टिकोण को परिवर्तित कर देते हैं, और यहां तक कि अपनी खोज की दिशा तक को बदल देते हैं, फिर भी वे परमेश्वर पर अपने विश्वास के लक्ष्य को नहीं बदल सकते। वे अपने ही आदर्शों के लिये भाग-दौड़ करते हैं; चाहे मार्ग कितना ही दूर हो, और मार्ग में कितनी भी कठिनाइयां और अवरोध क्यों न आएं, वे डटे रहते हैं और मृत्यु के सामने निडर खड़े रहते हैं। इस प्रकार से अपने आप को समर्पित बनाए रखने के लिए उन्हें किस बात से शक्ति प्राप्त होती है? क्या यह उनका विवेक है? क्या यह उनका महान और कुलीन चरित्र है? क्या यह उनका अटल इरादा है जो उन्हें दुष्ट शक्तियों से अंत तक युद्ध करते रहने की प्रेरणा देता है? क्या यह उनका विश्वास है जिसमें वे बिना प्रतिफल के परमेश्वर की गवाही देते हैं? क्या यह उनकी वफादारी है जिसके लिए वे परमेश्वर की इच्छा को प्राप्त करने के लिए सब कुछ देने के लिए भी तैयार रहते हैं? या यह उनकी भक्ति है जिसमें वे हमेशा व्यक्तिगत असाधारण मांगों को त्याग देते हैं? उन लोगों के लिये जिन्होंने कभी भी परमेश्वर के प्रबंधन को जानने के लिए कभी भी इतना कुछ नहीं दिया, यह किसी आश्चर्य से कम नहीं! कुछ देर के लिये आओ इस पर चर्चा न करें कि इन लोगों ने कितना कुछ दिया है। फिर भी उनका व्यवहार इस योग्य है कि हम उसका विश्लेषण करें। उन लाभों के अतिरिक्त जो उनके साथ इतनी निकटता से जुड़े हैं, क्या इन लोगों के लिए जो कभी भी परमेश्वर को नहीं समझ पाते हैं, उसे इतना कुछ देने का क्या कोई अन्य कारण हो सकता है? इसमें, हम एक पहले से ही अज्ञात समस्या को देखते हैं: मनुष्य का परमेश्वर के साथ सम्बन्ध केवल एक नग्न स्वार्थ है। यह आशीष देने वाले और लेने वाले के मध्य का सम्बन्ध है। सीधे-सीधे, यह कर्मचारी और नियोक्ता के मध्य के सम्बन्ध के समान है। कर्मचारी नियोक्ता के द्वारा पुरस्कार प्राप्त करने के लिए ही कार्य करता है। इस प्रकार के सम्बन्ध में, कोई स्नेह नहीं होता है, केवल एक सौदा होता है; प्रेम करने और प्रेम पाने जैसी कोई बात नहीं होती, केवल दान और दया होता है; कोई आपसी समझ नहीं होती केवल दबा हुआ क्रोध और धोखा होता है; कोई अंतरंगता नहीं होती, केवल एक खाई जो कभी भी भरी नहीं जा सकती। जब चीज़ें इस बिन्दु तक आ जाती हैं, तो कौन इस प्रकार की प्रवृत्ति को बदलने में सक्षम है? और कितने लोग इसे वास्तव में समझने के योग्य हैं कि यह सम्बन्ध कितना निराशजनक बन चुका है? मैं मानता हूं कि जब लोग आशीषित होने के आनन्द में अपने आप को लगा देते हैं, तो कोई भी यह कल्पना नहीं कर सकता कि परमेश्वर के साथ इस प्रकार का सम्बन्ध कितना शर्मनाक और भद्दा होगा" ("वचन देह में प्रकट होता है" में 'मनुष्य को केवल परमेश्वर के प्रबंधन के बीच ही बचाया जा सकता है')। परमेश्वर के वचन मेरे हृदय को तलवार की भांति चीर गए, मुझे बहुत शर्म महसूस हुई। जैसा कि परमेश्वर ने कहा था, क्या मेरी आस्था के पीछे का मक़सद भविष्य में आशीष पाना नहीं था? इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि मैं त्याग करते कैसी दिखाई दी, मैं केवल आशीष पाने के लिए परमेश्वर से सौदा कर रही थी। मैं वास्तव में परमेश्वर की आज्ञा का पालन नहीं कर रही थी, न ही एक सृजित प्राणी का कर्तव्य निभा रही थी। जब मैं आस्था में नई थी, मैं सोचती थी कि मुझ पर कोई आपदा नहीं आएगी, मुझे परमेश्वर का आशीष और उनके राज्य में प्रवेश मिलेगा। इसलिये मैंने अपना सर्वस्व त्याग दिया और कुछ भी अपने कर्तव्य के आड़े नहीं आने दिया। अपने बच्चों को स्कूल ले जाने और लाने का भी मेरे पास समय नहीं था। दूसरों के ताने और बदनामी सहना, सीसीपी द्वारा पीछा करके सताया जाना— कुछ भी मेरे और मेरे कर्तव्य के बीच नहीं आया। इन सब से मुझे लगा कि मैं परमेश्वर के प्रति वफादार हूँ वे अवश्य मेरी प्रशंसा करेंगे और मुझे आशीष देंगे। जब मुझे पता चला कि मुझे कैंसर है, मुझे लगा कि यही मेरा अंत है, राज्य में जाने के मेरे सारे सपने धुआं बनकर उड़ गए। मैं गलतफहमियों और शिकायतों से भरी थी, और मैंने परमेश्वर से बहस की, परमेश्वर का सामना करने के लिए मैंने अपनी मौत का उपयोग भी करना चाहा। तथ्यों का सामना करते ही मुझे एहसास हुआ कि मेरा कर्तव्य निभाना, कष्ट उठाना, और खुद को खपाना, सब बदले में एक अच्छी मंज़िल पाने के लिए थे। मेरे और परमेश्वर के बीच का रिश्ता कर्मचारी और नियोक्ता के समान था। मेरे द्वारा चुकाई हर छोटी कीमत के लिए मुझे प्रतिफल चाहिए था। मैं सच में परमेश्वर से प्रेम नहीं करती थी, मैं उनका इस्तेमाल कर रही थी, उनको धोखा देने की कोशिश कर रही थी। जब मेरी आस्था में इस तरह की सोच थी तो परमेश्वर मुझसे नफ़रत ही कर सकते थे। अगर परमेश्वर ने उस बीमारी का उपयोग करके मुझे न जगाया होता, तो मैं आस्था के बारे में अपने ग़लत विचारों से चिपकी रहती और अंत में परमेश्वर मुझे ज़रूर त्याग देते और ख़त्म कर देते। इस एहसास ने मुझे अफ़सोस और पछतावे से भर दिया। मैंने घुटने टेके और परमेश्वर से प्रार्थना की। "प्रिय परमेश्वर, अगर आपने इस बीमारी के ज़रिये मुझे उजागर न किया होता, तो मैंने आस्था को लेकर अपने गलत विचारों को कभी न समझी होती। आपके वचनों के न्याय और खुलासों ने मेरी आत्मा को जगा दिया है। मैं अपनी ग़लत मंशाओं को सुधारना चाहती हूँ और आशीष पाने की अपनी इच्छा त्यागना चाहती हूँ। चाहे मैं ठीक होऊं या नहीं, मैं जियूं या मरूं, मैं आपको समर्पित होना चाहती हूँ।" प्रार्थना के बाद मैंने और अधिक शांति का अनुभव किया, मैं पहले से बहुत बेहतर हालत में थी। बाद के दिनों में, मैं कसरत करती रही और पोषण की खुराकें लेती रही और दिन-प्रतिदिन मेरा स्वास्थ्य सुधरने लगा। कुछ दिनों में ही मुझे अस्पताल से छुट्टी मिल गई।

घर वापस आकर मैंने अपने पति और बच्चों को सुसमाचार का प्रचार करते और अपने कर्तव्य निभाते देखा, मगर मैं अपना कर्तव्य निभाने में असमर्थ बिस्तर में पड़ी रही। मैं थोड़ी उदास होने लगी। मुझे पता नहीं था कि मैं कब पूरी तरह से स्वस्थ होऊंगी या किसी दिन मैं अपना कर्तव्य निभा सकूंगी या नहीं। अगर मैं अपना कर्तव्य न निभा सकी तो क्या मैं बिलकुल बेकार नहीं हो जाऊंगी? और फिर मुझे कैसे बचाया जाएगा? मुझे एहसास हुआ कि आशीष पाने की मेरी इच्छा फिर अपना सिर उठा रही थी। मैंने तुरंत परमेश्वर से प्रार्थना की और उनके ये वचन पढ़े: "इससे पहले लोग किस आधार पर रहते थे? सभी लोग स्वयं के लिए जीते हैं। मैं तो बस अपने लिए सोचूँगा, बाकियों को शैतान ले जाए—यह मानव प्रकृति का निचोड़ है। लोग अपनी ख़ातिर परमेश्वर पर विश्वास करते हैं; वे चीजों को त्यागते हैं, परमेश्वर के लिए स्वयं को खपाते हैं और परमेश्वर के प्रति वफादार रहते हैं—लेकिन फिर भी वे ये सब स्वयं के लिए करते हैं। संक्षेप में, यह सब स्वयं के लिए आशीर्वाद प्राप्त करने के उद्देश्य से किया जाता है। दुनिया में, सब कुछ निजी लाभ के लिए होता है। परमेश्वर पर विश्वास करना आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए है, और आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए ही कोई व्यक्ति सब कुछ छोड़ देता है, और आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए कोई व्यक्ति बहुत दुःख का भी सामना कर सकता है। यह सब मनुष्य की भ्रष्ट प्रकृति का प्रयोगसिद्ध प्रमाण है" ("मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'बाहरी परिवर्तन और स्वभाव में परिवर्तन के बीच अंतर')। परमेश्वर के वचनों ने यह समझने में मेरी मदद की कि अपनी आस्था में परमेश्वर के साथ सौदेबाजी करने, मनचाहा काम न होने पर परमेश्वर के ख़िलाफ़ विद्रोह और विरोध करने का कारण यह था कि सभी तरह के शैतानी विष मेरे मन को नियंत्रित कर रहे थे। "हर व्यक्ति अपनी सोचे और बाकियों को शैतान ले जाये" और "जब तक लाभ न हो तब तक एक उंगली भी न उठाओ" — मैं इन शैतानी फलसफों का पालन करके जीती रही। मैंने सब कुछ अपने लिए किया, स्वयं को लाभ पहुँचाने के लिए किया। मैं बहुत स्वार्थी और नीच थी। अपनी आस्था में भी, मैं सिर्फ़ आशीष और पुरस्कार पाने के लिए संघर्ष करती रही। सत्य को प्राप्त करने या अपने स्वभाव को बदलने पर मैंने बिलकुल भी ध्यान नहीं दिया। जब मुझे वह आशीष नहीं मिला जो मैं चाहती थी, तो मेरी शैतानी प्रकृति भड़क उठी, मैंने परमेश्वर को ग़लत समझा और उसे दोष दिया, मैंने परमेश्वर के लिए जो भी किया था उस पर अफ़सोस किया। पौलुस ने प्रभु के लिए काम किया और बहुत कष्ट उठाये, मगर उसे सत्य से कोई लगाव नहीं था, उसने परमेश्वर को जानने या अपने स्वभाव को बदलने का प्रयत्न नहीं किया। वह अपने कष्ट और त्याग के बदले धार्मिकता का ताज चाहता था। अंत में उसका शैतानी स्वभाव नहीं बदला, तो उसके अहंकार ने सारी समझ को बाहर निकाल दिया, उसने गवाही दी कि वह स्वयं मसीह है और वह लोगों को अपने समक्ष लाया। जिससे परमेश्वर के स्वभाव को ठेस पहुँची और उसको अंतहीन दंड मिला। मुझे पता था कि अगर मैं शैतान के विष के साथ जीती रही, तो मैं पौलुस जैसी हो जाऊंगी। परमेश्वर का विरोध करने के लिए वे मुझे दंड देंगे। मैंने देखा कि सत्य को प्राप्त किए बिना आशीष माँगना कितना खतरनाक था। मैं परमेश्वर के प्रति बहुत कृतज्ञ थी। इस बीमारी का उपयोग करके खुद के बारे में सोचने और जानने का अवसर देने के लिए, मैंने उनका धन्यवाद किया, मैं अपनी आस्था के पालन में अपनी ग़लत सोच को समझ पायी, और जाना कि मैं परमेश्वर के विरोध के रास्ते पर चल रही थी।

फिर मैंने परमेश्वर के वचन पढ़े: "परमेश्वर सर्वदा सर्वोच्च है और हमेशा आदरणीय है, जबकि मनुष्य सर्वदा तुच्छ और हमेशा निकम्मा है। यह इसलिए है क्योंकि परमेश्वर हमेशा मनुष्यों के लिए बलिदान करता रहता है और अपने आप को समर्पित करता है; जबकि, मनुष्य हमेशा लेता है और सिर्फ अपने आप के लिए ही परिश्रम करता है। परमेश्वर सदा मानवजाति के अस्तित्व के लिए परिश्रम करता रहता है, फिर भी मनुष्य ज्योति और धार्मिकता में कभी भी कोई योगदान नहीं देता है। भले ही मनुष्य कुछ समय के लिए परिश्रम करे, लेकिन वह इतना कमज़ोर होता है कि हल्के से झटके का भी सामना नहीं सकता है, क्योंकि मनुष्य का परिश्रम केवल अपने लिए होता है दूसरों के लिए नहीं। मनुष्य हमेशा स्वार्थी होता है, जबकि परमेश्वर सर्वदा स्वार्थविहीन होता है। परमेश्वर उन सब का स्रोत है जो धर्मी, अच्छा, और सुन्दर है, जबकि मनुष्य सब प्रकार की गन्दगी और बुराई का वाहक और प्रकट करने वाला है। परमेश्वर कभी भी अपनी धार्मिकता और सुन्दरता के सार-तत्व को नहीं बदलेगा, जबकि मनुष्य किसी भी समय, किसी भी परिस्थिति में, धार्मिकता से विश्वासघात कर सकता है और परमेश्वर से दूर जा सकता है" ("वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर के स्वभाव को समझना अति महत्वपूर्ण है')। इन वचनों पर विचार करते हुए मैं बहुत भावुक हो गयी। उस मानवजाति को बचाने के लिए परमेश्वर ने इतनी बड़ी कीमत चुकायी है जिसे शैतान ने इतनी गहराई तक भ्रष्ट कर दिया है। दो हज़ार वर्ष पूर्व, मानवजाति को छुटकारा दिलाने के लिये परमेश्वर ने यहूदिया में पहली बार देहधारण किया। उन्होंने ताने और अपमान सहे, यहूदी धर्म के अनुयायियों द्वारा उत्पीड़न और बुरे बर्ताव का सामना किया। अंततः उनको सलीब पर कीलों से ठोक दिया गया, जिससे छुटकारे का कार्य पूरा हो गया। आज, चीन में परमेश्वर दूसरी बार देहधारी बने हैं ताकि मानवजाति को हमेशा के लिए शुद्ध करके बचाया जा सके। सीसीपी. द्वारा उनका पीछा और उत्पीड़न किया गया, उनके पास न तो सिर छिपाने की जगह थी और न आराम करने की, हम विश्वासियों द्वारा गलत समझे जाने, दोष लगाये जाने, अवज्ञा और विरोध का सामना करना पड़ा। फिर भी परमेश्वर मानवजाति को बचाने की कोशिश करने से कभी नहीं रुके इसके बजाय जो कुछ उनसे हो सकता है, वे चुपचाप करते हैं, बदले में कुछ भी नहीं मांगते। हालांकि, मैंने कर्तव्य निभाते वक्त त्याग किए और बदले में आशीष और मंज़िल पाने की कामना की। परमेश्वर से सौदेबाजी करने के लिए मैं अपने ज़मीर के विरुद्ध गयी। मैं कितनी स्वार्थी और नीच थी! मैं किसी तरह की सच्ची विश्वासी नहीं थी। यह महसूस करके, मैं पश्चाताप की इच्छा लेकर परमेश्वर के समक्ष प्रार्थना करने गयी।

एक दिन अपने भक्ति कार्य के दौरान, मैंने परमेश्वर के वचनों में यह पढ़ा: "परमेश्वर पर सच्चे विश्वास का अर्थ यह है : इस विश्वास के आधार पर कि परमेश्वर सभी वस्तुओं पर संप्रभुता रखता है, व्यक्ति परमेश्वर के वचनों और कामों का अनुभव करता है, अपने भ्रष्ट स्वभाव को शुद्ध करता है, परमेश्वर की इच्छा पूरी करता है, और परमेश्वर को जानता है। केवल इस प्रकार की यात्रा को ही 'परमेश्वर पर विश्वास' कहा जा सकता है" ("वचन देह में प्रकट होता है" की 'प्रस्तावना')। "परमेश्वर पर विश्वास करना उसे संतुष्ट करने के वास्ते और उस स्वभाव को जीने के लिए है जो वह अपेक्षा करता है, ताकि इन अयोग्य लोगों के समूह के माध्यम से परमेश्वर के कार्यकलाप और उसकी महिमा प्रदर्शित हो सके। परमेश्वर पर विश्वास करने के लिए यही सही दृष्टिकोण है और यह वो लक्ष्य भी है जिसे तुम्हें खोजना चाहिए। परमेश्वर पर विश्वास करने के बारे में तुम्हारा सही दृष्टिकोण होना चाहिए और तुम्हें परमेश्वर के वचनों को प्राप्त करने का प्रयास करना चाहिए। तुम्हें परमेश्वर के वचनों को खाने और पीने की आवश्यकता है, और तुम्हें सत्य को जीने, और विशेष रूप से उसके व्यवहारिक कर्मों को देखने, सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड में उसके अद्भुत कर्मों को देखने, और साथ ही देह में उसके द्वारा किए जाने वाले व्यवहारिक कार्य को देखने में सक्षम होना चाहिए। अपने वास्तविक अनुभवों के द्वारा, लोग इस बात की सराहना कर सकते हैं कि कैसे परमेश्वर उन पर अपना कार्य करता है, उनके प्रति उसकी क्या इच्छा है। यह सब लोगों के भ्रष्ट शैतानी स्वभाव को दूर करने के लिए है। अपने भीतर की सारी अशुद्धता और अधार्मिकता बाहर निकाल देने, अपने गलत इरादों को निकाल फेंकने, और परमेश्वर में सच्चा विश्वास उत्पन्न करने के बाद— केवल सच्चे विश्वास के साथ ही तुम परमेश्वर को सच्चा प्रेम कर सकते हो" ("वचन देह में प्रकट होता है" में 'जिन्हें पूर्ण बनाया जाना है उन्हें शुद्धिकरण से अवश्य गुज़रना चाहिए')। परमेश्वर के वचन हमें दिखाते हैं कि अपनी आस्था में हम कौन से सही लक्ष्य को प्राप्त करें। हमारे अनुभवों में हम कितने भी अनुशासित, परीक्षित या परिष्कृत हों, हमें विशेषकर शुद्ध और पूर्ण बनाने के लिए परमेश्वर सारी व्यवस्था करते हैं। मुझे मालूम था कि इन सब का अनुभव स्वीकृति और आज्ञाकारिता के साथ करना होगा, अपने भ्रष्ट स्वभाव को ठीक करने के लिए मुझे सत्य की खोज करनी होगी, मुझे परमेश्वर को संतुष्ट करना होगा और सभी चीज़ों में उनके प्रेम का मूल्य चुकाना होगा। यह एकमात्र सही अनुसरण है। अब मैं आशीष पाने के लिए परमेश्वर से और सौदेबाजी नहीं करना चाहती थी। मेरी बीमारी अब बढ़े या कम हो, मैं अंतिम सांस तक परमेश्वर की आराधना करूंगी। अगर परमेश्वर ने मुझे कर्तव्य निभाने का दूसरा अवसर दिया, तो मैं आशीष पाने के लिए उनसे सौदेबाजी नहीं करूंगी। मैं बस अपने कर्तव्य पालन में सत्य की खोज और अपने स्वभाव में बदलाव लाना चाहती थी।

कुछ ही समय बाद परमेश्वर ने मेरी परीक्षा ली।

एक दिन, मेरी बेटी कलीसिया की सभा से वापस आकर बोली बहन वाँग, जो विश्वासियों का सिंचन करती हैं, पुलिस उनका पीछा कर रही है और अभी तक उनकी जगह काम करने वाला कोई नहीं मिला। उसने मुझसे पूछा कि कलीसिया में वो काम कौन कर सकता है। मैंने यह कार्य पहले किया हुआ था और इसे अच्छी तरह से जानती थी, तो मैंने सोचा कि मैं सबसे अधिक उपयुक्त होऊँगी। मगर फिर मैंने सोचा कि तकरीबन बीस दिन पहले ही तो मेरा ऑपरेशन हुआ था। चीरे का घाव अभी पूरी तरह ठीक नहीं हुआ था और मौसम गरम होता जा रहा था। घर पर, मुझे दिन में कई बार चीरे की सफाई करनी होती थी। अगर मैंने यह ज़िम्मेदारी ली और इतनी व्यस्त हो गयी कि अपने घाव को साफ़ न रख सकी, तो यह सूज सकता है। मैं अपने हाथों का ठीक से इस्तेमाल नहीं कर पाती थी, अगर मुझे हर दिन इलेक्ट्रिक स्कूटर पर झटके खाने पड़े तो मेरा घाव ठीक नहीं होगा, और मैं बहुत बीमार हो जाऊँगी। ऐसे में, उस ज़िम्मेदारी को लेकर मैं अपनी सेहत का नुकसान करूंगी। मगर फिर मैंने सोचा, "अभी तक इस ज़िम्मेदारी के लिए कोई उपयुक्त व्यक्ति नहीं मिला है। अगर मैं यह जिम्मेदारी नहीं लूंगी तो क्या परमेश्वर के घर का काम पिछड़ नहीं जायेगा? मुझे क्या करना चाहिए?" तब मुझे परमेश्वर के वचनों वाले एक भजन के बोल याद आये: "परमेश्वर तुमसे चाहे कुछ भी माँगे, तुम्हें उसे अपना सब-कुछ देना आवश्यक है। आशा है कि अंत में तुम परमेश्वर के समक्ष आने और उसे अपनी परम भक्ति प्रदान करने में सक्षम होगे, और जब तक तुम सिंहासन पर बैठे परमेश्वर की संतुष्ट मुसकराहट देख पाते हो, भले ही यह तुम्हारी मृत्यु का नियत समय क्यों न हो, आँखें बंद करते समय भी तुम्हें हँसने और मुसकराने में सक्षम होना चाहिए। पृथ्वी पर अपने समय के दौरान तुम्हें परमेश्वर के प्रति अपना अंतिम कर्तव्य अवश्य निभाना चाहिए। अतीत में, पतरस को परमेश्वर के लिए क्रूस पर उलटा लटका दिया गया था; परंतु तुम्हें अंत में परमेश्वर को संतुष्ट करना चाहिए, और अपनी सारी ऊर्जा परमेश्वर के लिए खर्च करनी चाहिए। एक सृजित प्राणी परमेश्वर के लिए क्या कर सकता है? इस कारण से तुम्हें जितना जल्दी हो सके, अपने आपको परमेश्वर पर छोड़ देना चाहिए, ताकि वह अपनी इच्छानुसार तुम्हारी व्यवस्था कर सके। जब तक परमेश्वर खुश और प्रसन्न है, तब तक उसे जो चाहे करने दो। मनुष्यों को शिकायत करने का क्या अधिकार है?" ("मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ" में 'सृजित जीव को होना चाहिये परमेश्वर की दया पर')। परमेश्वर के वचनों ने मुझको आस्था और शक्ति दी। पतरस परमेश्वर के प्रति समर्पित थे, उन्होंने परमेश्वर से प्रेम करने और उसे संतुष्ट करने की कोशिश की। उन्होंने अपने हित के बारे में कभी नहीं सोचा, केवल अपना कर्तव्य निभाया। अंत में, परमेश्वर के लिए उन्हें सूली पर उल्टा लटकाया गया, वे मृत्यु तक आज्ञाकारी बने रहे। हालाँकि मेरा चीरा अभी पूरी तरह ठीक नहीं हुआ था, मगर मैं अब स्वार्थी और नीच नहीं बनना चाहती थी, परमेश्वर के घर के बजाय सिर्फ़ अपने बारे में सोचना नहीं चाहती थी। वर्षों तक मैं आशीष पाने के लिए अपना कर्तव्य निभाती रही, परमेश्वर के साथ सौदेबाजी करती रही। मैंने कभी परमेश्वर की इच्छा की परवाह नहीं की या उसे संतुष्ट करने के लिए कुछ भी नहीं किया। वास्तव में मैं परमेश्वर की ऋणी थी! इस काम को करने के लिए किसी की तत्काल जरूरत थी, और मैं इसे करना चाहती थी। चाहे मेरी सेहत कैसी भी रहे, परमेश्वर को संतुष्ट करने के लिए मैं अपना जीवन भी दे दूँगी। परमेश्वर के वचनों के मार्गदर्शन से, मेरी बीमारी अब मेरे लिए बाधा न रही मैंने स्वेच्छा से उस काम की जिम्मेदारी ले ली।

जब मैंने अपना सब कुछ इस कर्तव्य पालन में डाल दिया, तब मैंने परमेश्वर की चमत्कारिक सुरक्षा को देखा। एक हफ्ते बाद, मेरा चीरा और बिगड़ने के बजाय पूरी तरह से ठीक हो गया। डॉक्टर ने कहा, "इस तरह के ऑपरेशन के बाद बांह में लिम्फेडेमा (सूजन) का होना आम बात है और स्वास्थ्य लाभ के एक महीने बाद भी मरीज़ को कीमोथेरापी की आवश्यकता होती है।" मगर जब से मैंने वो कर्तव्य करना शुरू किया, मेरा चीरा दुखना बंद हो गया, मेरी बांह में कोई लिम्फेडेमा (सूजन) नहीं था, और मैं कीमोथेरापी के लिए भी नहीं गयी। मेरा ऑपरेशन हुए अब एक वर्ष से अधिक हो गया है, और मैं पूरी तरह स्वस्थ हूँ। परमेश्वर के चमत्कारिक कार्यों के लिए उनका धन्यवाद। मैंने निजी तौर पर उनके इन वचनों को अनुभव किया है जो कहते हैं: "कोई भी और सभी चीज़ें, चाहे जीवित हों या मृत, परमेश्वर के विचारों के अनुसार ही जगह बदलेंगी, परिवर्तित, नवीनीकृत और गायब होंगी। परमेश्वर सभी चीज़ों को इसी तरीके से संचालित करता है" ("वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर मनुष्य के जीवन का स्रोत है')। एक बार जब मैंने अपनी अनुचित मांगें छोड़ दीं और परमेश्वर से सौदेबाजी करना बंद कर दिया, तब मैंने वास्तव में परमेश्वर के अधिकार और सत्ता को देखा और उनके चमत्कारिक कार्यों को देखा!

इस बीमारी द्वारा शुद्धिकरण मुझे एक आपदा की तरह लगा था मगर उसके अंदर परमेश्वर का प्रेम छुपा हुआ था। इस बीमारी के दौरान परमेश्वर के वचनों की प्रबुद्धता और मार्गदर्शन से, मैं परमेश्वर के प्रति अपनी आस्था में अपने ग़लत विचारों को समझ पायी। मैं यह भी समझ गई कि कोई इंसान सिर्फ़ परमेश्वर के अनुग्रह का आनंद नहीं उठा सकता : कठिनाइयां और शुद्धिकरण भी परमेश्वर के आशीष हैं। मैं गहराई से यह भी समझ पायी कि परीक्षण और शुद्धिकरण लोगों को कितना शुद्ध कर सकते और बदल सकते हैं। यह सामान्य समझ परमेश्वर के परीक्षण और शुद्धिकरण के कार्य से आई। सर्वशक्तिमान परमेश्वर की जय जयकार हो!

पिछला: 76. परीक्षणों के ज़रिए शुद्ध किया गया

अगला: 78. परीक्षण से मिले सबक

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

13. हृदय की मुक्ति

सर्वशक्तिमान परमेश्वर कहते हैं, "इस युग के दौरान परमेश्वर द्वारा किया गया कार्य मुख्य रूप से मनुष्य के जीवन के लिए वचनों का प्रावधान करना,...

3. एक युवा जिसे पछतावा नहीं है

लेखिका: शाओवेन, चोंगकिंग शहर "प्रेम एक शुद्ध भावना है, शुद्ध बिना किसी भी दोष के। अपने हृदय का प्रयोग करो, प्रेम के लिए, अनुभूति के लिए और...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें