संबंधित वीडियो

संबंधित लेख

  • सर्वशक्तिमान परमेश्वर
    पथभ्रष्ट होकर फिर से सन्मार्ग पर वापस आना

    1997 मेँ, मैंने सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अंत के दिनों के कार्य को स्वीकार किया था, और जल्दी ही मैंने पूरे उत्साह के साथ अपने आपको धर्म प्रचार के कार्य में झोंक दिया,

  • प्रार्थना
    अपनी असलियत की सही पहचान

    चर्च के काम-काज की आवश्यकताओं के कारण, मुझे अपने कर्तव्य के निर्वाह के लिए एक दूसरे स्थान पर भेजा गया था। उस समय,

  • परमेश्वर
    ओहदा खोने के बाद ...

    हर बार जब मैं किसी को बदले जाने और इस कारण उनके दुखी, कमजोर या रुष्ट होने और उनके अनुसरण न करने की घटना को देखती थी या इस बारे मेँ सुनती थी तो ऐसे लोगों के प्रति मेरे मन मेँ निरादर का भाव आ जाता था।

  • परमेश्वर
    एक उड़ाऊपुत्र की वापसी

    1999 में, मैं कलीसिया के कार्य की आवश्यकताओं के कारण एक अग्रणी बन गया। हालांकि शुरुआत में मुझे गहराई से महसूस हुआ कि मैं कार्य के योग्य नहीं था,