प्रश्न 4: धार्मिक पादरी और एल्डर्स प्रभु के वचनों को फैलाने या उनके इरादों की चर्चा करने के बजाय, अक्सर बाइबल में मनुष्य के कथनों और ख़ासकर पौलुस के कथनों को समझाते हैं। यही सच है। मैं एक बात नहीं समझ पायी, क्या पूरा बाइबल परमेश्वर से प्रेरित नहीं है? क्या बाइबल की हर बात परमेश्वर का वचन नहीं है? आप बाइबल में मनुष्य के वचनों और परमेश्वर के वचनों में इतना फ़र्क क्यों करते हैं? क्या बाइबल में मनुष्य का हर कथन परमेश्वर से प्रेरित नहीं है?

उत्तर: "सम्पूर्ण पवित्रशास्त्र परमेश्‍वर की प्रेरणा से रचा गया है।" क्या आप जानते हैं कि यह बात किसने कही थी? क्या इसे परमेश्वर ने कहा या मनुष्य ने? किस आधार पर आप यह कहते हैं "सम्पूर्ण पवित्रशास्त्र परमेश्‍वर की प्रेरणा से रचा गया है?" "सम्पूर्ण पवित्रशास्त्र परमेश्‍वर की प्रेरणा से रचा गया है।" इस बात को यहोवा परमेश्वर ने नहीं कहा था, या प्रभु यीशु ने कहा या पवित्र आत्मा ने, बल्कि पौलुस ने कहा था। पौलुस मसीह नहीं हैं; वे सिर्फ एक भ्रष्ट मनुष्य हैं। वे कैसे जान सकते थे कि पूरी बाइबल परमेश्वर से प्रेरित है? बाइबल परमेश्वर की प्रेरणा से रची गयी थी या नहीं, यह बात सिर्फ परमेश्वर जानते हैं। सिर्फ मसीह इस सवाल का जवाब साफ तौर पर दे सकते हैं, क्योंकि मनुष्य को बिल्कुल नहीं मालूम और वह इन चीज़ों को नहीं समझ सकता। बाइबल तब शुरू हुई जब मूसा ने उत्पत्ति को लिखा, और कम-से-कम 1,000 साल बाद प्रभु यीशु ने अपना कार्य शुरू किया। पौलुस बाइबल के लेखकों में से किसी को भी नहीं जानते थे। वे कैसे जान पाते कि उन लोगों के वचन परमेश्वर से प्रेरित थे? क्या वे लेखक पौलुस को बता सके थे कि उनके सभी वचन परमेश्वर से प्रेरित थे? इससे पता चलता है कि पौलुस ने जो कहा उसका सच्चाई से कोई वास्ता नहीं है! उन्होंने जो कहा वह सिर्फ उनका बाइबल का निजी ज्ञान था। उन्होंने प्रभु यीशु का प्रतिनिधित्व नहीं किया और यही नहीं, पवित्र आत्मा का भी प्रतिनिधित्व नहीं किया। यही सच है! पौलुस के इन कथनों के आधार पर ही धार्मिक पादरी और एल्डर्स तय कर देते हैं कि बाइबल के सभी वचन परमेश्वर से प्रेरित हैं और परमेश्वर के वचन हैं। यह ऐतिहासिक तथ्य से बिल्कुल उल्टी बात है! प्रेरितों के युग में, प्रेरितों के पत्र कलीसिया को सौंपे जाने के बाद, सबने यही कहा होगा कि वे प्रेरितों के शब्द थे, भाई पौलुस के शब्द थे। किसी ने यह नहीं कहा होगा कि ये वचन परमेश्वर से प्रेरित थे या ये प्रभु यीशु के वचन थे। यहाँ तक कि खुद पौलुस ने भी यह कहने की हिम्मत नहीं की होगी कि उनके वचन परमेश्वर के वचन हैं, या वे परमेश्वर से प्रेरित हैं, ऐसा तो नहीं कहा होगा कि उन्होंने प्रभु यीशु की तरफ से बात की है। इसलिए, यह वाक्यांश "सम्पूर्ण पवित्रशास्त्र परमेश्‍वर की प्रेरणा से रचा गया है।" सही साबित नहीं हो सकता! "सम्पूर्ण पवित्रशास्त्र परमेश्‍वर की प्रेरणा से रचा गया है।" सिर्फ अकेले पौलुस ने कहा था, और यह सिर्फ पुराने नियम का हवाला देता है, फिर भी सब लोग इस पर यकीन करते हैं। लोग पौलुस के इस कथन पर क्यों यकीन करते हैं? अगर किसी और ने यह कहा होता तो क्या उन्हें यकीन होता? यह इस बात को साबित करने के लिए काफी है कि लोग पौलुस में बेहद अंधा यकीन करते हैं और उनकी आराधना करते हैं। पौलुस की हर बात को परमेश्वर का वचन मान लिया जाता है। क्या ये मनुष्य की धारणाएं और कल्पनाएँ नहीं हैं? इससे साफ़ पता चलता है कि लोगों के दिलों में प्रभु यीशु नहीं, सिर्फ पौलुस बसे हैं। ये सब ऐसे लोग हैं जो प्रभु से डरने और प्रभु का गुणगान करने के बजाय, मनुष्य की आराधना और उसका अनुसरण करते हैं।

"तोड़ डालो अफ़वाहों की ज़ंजीरें" फ़िल्म की स्क्रिप्ट से लिया गया अंश

पिछला: प्रश्न 3: जो भी हो, सारे पादरी और एल्डर तो बाइबल के आधार पर ही उपदेश देते हैं। क्या बाइबल की व्याख्या करना और लोगों को उससे जोड़े रखना, प्रभु का गुणगान करना और उनकी गवाही देना नहीं है? क्या पादरियों और एल्डर्स का बाइबल की व्याख्या करना गलत है? आप ऐसा कैसे कह सकती हैं कि वे पाखंडी फरीसी हैं?

अगला: प्रश्न 5: मुझे यकीन है कि पूरी बाइबल परमेश्वर की प्रेरणा से रची गयी है! पौलुस के वचन गलत नहीं हो सकते! चूंकि आप बाइबल में परमेश्वर के वचनों और मनुष्य के कथनों में फर्क कर पाते हैं, तो फिर बताइए कोई कैसे समझे कि कौन-से वचन परमेश्वर के हैं और कौन-से मनुष्य के?

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

3. अंत के दिनों में परमेश्वर का न्याय का कार्य महान श्वेत सिंहासन का न्याय का कार्य है

परमेश्वर के प्रासंगिक वचन :बीते समय में जो यह कहा गया था कि न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होगा, उन वचनों में "न्याय" उस फैसले को संदर्भित...

2. परमेश्वर द्वारा प्रयुक्त लोगों के कार्य और धार्मिक अगुआओं के कार्य के बीच अंतर

परमेश्वर के प्रासंगिक वचन :ऐसे लोगों के अतिरिक्त जिन्हें पवित्र आत्मा का विशेष निर्देश और अगुवाई प्राप्त है, कोई भी स्वतंत्र रूप से जीवन...

1. प्रभु यीशु द्वारा मानवजाति को छुटकारा दिला दिए जाने के बावजूद, परमेश्वर का अंत के दिनों में न्याय का कार्य करना क्यों आवश्यक है

संदर्भ के लिए बाइबल के पद :"मैं तुम से सच सच कहता हूँ कि जो कोई पाप करता है वह पाप का दास है। दास सदा घर में नहीं रहता; पुत्र सदा रहता है"...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें