प्रश्न 4: सीसीपी सरकार के शासन में, लोग गिरफ़्तार हो सकते हैं, उन पर अत्याचार हो सकते हैं और सच्चे मार्ग को स्वीकार करने के लिए उन्हें मार भी दिया जा सकता है। मुझे समझ नहीं आता कि सीसीपी सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर के कार्य से इतनी भयभीत क्यों है?

उत्तर: सीसीपी सरकार अब पूरे देश में सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर की कलीसिया को पूरी तरह दबाने के लिए, मसीह का उग्रतापूर्वक पीछा करते हुए, परमेश्‍वर के चुने हुए लोगों को पकड़ने और उनपर अत्याचार करने के लिए जाल फैला रही है। चीन में सच्चे परमेश्‍वर में विश्वास करना और अपने कर्तव्यों को पूरा करना, वाकई बहुत खतरनाक है, परंतु धार्मिक मंडलियों से जुड़े और गैर-विश्वासी लोग इसे समझ नहीं पातेः हम सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर में क्यों भरोसा रखते हैं जब कि सीसीपी सरकार इस प्रकार हमारी निंदा और हम पर अत्याचार कर रही है? वो इसलिए क्योंकि सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर ही सच्चे परमेश्‍वर, उद्धारकर्ता का पुनःप्रकटन हैं। सिर्फ सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर ही हमें शैतान के प्रभाव से बचा सकते हैं, हमें पाप से मुक्त कर सकते हैं, हमें एक शानदार नियति दे सकते हैं। अंतिम युग में, हम सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर में विश्वास करते हैं या नहीं, यही हमारा अंत और हमारा प्रारब्ध निर्धारित करेगा। बाइबल कहती है, "पूरा संसार दुष्टता में लीन है।" इसका मतलब है कि ये पूरा संसार शैतान के अधिकार में है, कि पूरी मानवजाति शैतान के प्रभाव में रहती है, जो पूरी तरह भ्रष्ट है, जिसकी मानवता से कोई समानता नहीं है। अंत के दिनों में सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर का आगमन हम भ्रष्ट मानवजाति को शैतान के प्रभाव से बचाने के लिए है, ताकि हम वाकई परमेश्‍वर के सामने वापिस जा सकें, उद्धार पा सकें, एक सच्चा जीवन जी सकें, व एक शानदार नियति पा सकें। यही सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर में हमारे विश्वास का अर्थ है। साथ ही, हमें ये भी देखना है कि क्यों सीसीपी सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर से घृणा करती है और सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर की कलीसिया को दबाती और उसपर अत्याचार करती है। उसका उद्देश्य क्या है? ज्यादातर लोग इसे बहुत स्पष्टता से देखते हैं। दुष्ट सीसीपी सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर की कलीसिया की निंदा करने, उस पर आरोप लगाने, और उसका अपयश करने के लिए जो कुछ भी कर सकती है, वो कर रही है, जानबूझकर परमेश्‍वर के चुने हुए लोगों को गिरफ़्तार करना, उन पर अत्याचार करना और चीन को परमेश्‍वर विहिन क्षेत्र बनाना, आदि ताकि वो अपनी अंधकारमय सत्ता को सदैव कायम रख सके और चीनी जनता पर नियंत्रण कर सके, और उनके सिर पर बैठ कर अपनी शक्ति का दुरूपयोग कर सके। अंत में, वे लोग सभी चीनी लोगों को मौत की यातना देकर उन्हें नर्क की ओर खींच लेंगे। शैतानी सीसीपी सत्य और परमेश्‍वर से घृणा करने वाली सबसे बड़ी शैतानी सत्ता है। वो जानती है कि सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर ही विश्व में एकमात्र हैं जो सत्य की अभिव्यक्ति कर सकते हैं, कि वे वर्तमान में अंत के दिनों के अपने न्याय, शुद्धिकरण और उद्धार का कार्य कर रहे हैं। सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर के वचन पहले ही इंटरनेट पर प्रकाशित हो चुके हैं, ताकि सम्पूर्ण मानवजाति उनकी खोज और जांच-पड़ताल कर सके। सीसीपी के शैतान बुरी तरह से डरे हुए हैं कि एक बार सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर के वचन लोगों में प्रसारित होने लगेंगे, तो वे सभी जो सत्य और न्याय से प्रेम करते हैं, सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर की ओर मुड़ जाएंगे। तब उसका सत्य से घृणा करने वाला, परमेश्‍वर विरोधी शैतानी चेहरा पूरी तरह से प्रकाश में उजागर हो जाएगा, और पूरी मानवता उसे अस्वीकार कर उसका तिरस्कार कर देगी, उसे अपने पैरों तले कुचल देगी, तकि वह दस हज़ार वर्षों तक दुर्गंध फैलाता रहे, ताकि उसको फिर कभी चीन में खड़े होने की जगह न मिले, ताकि वो फिर कभी विश्व के लोगों को भ्रष्ट कर उनको हानि न पंहुचा सके। इसीलिए सीसीपी सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर के सत्य की अभिव्यक्ति से और सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर की कलीसिया से बहुत अधिक घृणा करती है, और लोगों को सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर को स्वीकार करने और उनकी ओर मुड़ने से रोकने के लिए सब कुछ करती है। अगर हम शैतान की योजना को समझ न सकें, और सीसीपी के द्वारा धोखा खाते रहें, मजबूर और नियंत्रित होते रहें, तो हम इतने मूर्ख होंगे कि उद्धार के योग्य भी न रहेंगे।

"विजय गान" फ़िल्म की स्क्रिप्ट से लिया गया अंश

पिछला: प्रश्न 2: अगर चमकती पूर्वी बिजली सच्चा मार्ग है, तो आप किस आधार पर इसको पक्का कर रहे हैं? हम प्रभु यीशु में इसलिए विश्वास करते हैं क्योंकि वे हमें बचा सकते हैं, लेकिन आप किस चीज़ से ये जांच रहे हैं कि चमकती पूर्वी बिजली सच्चा मार्ग है?

अगला: प्रश्न 5: मैं सोचा करती थी कि सीसीपी के दिन अब सीमित हैं और शीघ्र ही उसका पतन हो जाएगा, अगर विश्वास करने से पूर्व मैं उसके पतन की प्रतीक्षा करूं, तो क्या ढेरों मुश्किलों से मेरा बचाव नहीं हो जाएगा? लेकिन मैं अब देख रही हूं कि हमें प्रताड़ित और गिरफ़्तार करने में सीसीपी का उद्देश्य हमें नरक में भेजना है! अगर हम सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर में विश्वास करने के पूर्व सीसीपी के नष्ट होने की प्रतीक्षा करते हैं, तो भी क्या हम अंत के दिनों में परमेश्‍वर के राज्य में प्रवेश कर परमेश्‍वर का उद्धार पा सकेंगे? क्या हम उद्धार का हमारा अवसर खो देंगे?

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

2. परमेश्वर के कार्य के तीन चरणों में से प्रत्येक का उद्देश्य और अर्थ

(1) व्यवस्था के युग में परमेश्वर के कार्य का उद्देश्य और अर्थपरमेश्वर के प्रासंगिक वचन :यहोवा ने जो कार्य इस्राएलियों पर किया, उसने...

3. अनुग्रह के युग और राज्य के युग में कलीसियाई जीवन के बीच अंतर

परमेश्वर के प्रासंगिक वचन :जब, अनुग्रह के युग में, परमेश्वर तीसरे स्वर्ग में लौटा, तो समस्त मानव-जाति के छुटकारे का परमेश्वर का कार्य...

1. देहधारण और उसका सार क्या है

परमेश्वर के प्रासंगिक वचन :"देहधारण" परमेश्वर का देह में प्रकट होना है; परमेश्वर सृष्टि के मनुष्यों के मध्य देह की छवि में कार्य करता है।...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें