अध्याय 32

प्रकाश क्या है? अतीत में तुम लोग वास्तव में पवित्र आत्मा के कार्य के रूपांतरण को प्रकाश मानते थे। सच्चा प्रकाश हर समय है : अर्थात्, मेरे निकट आने और मेरे साथ संगति करने के माध्यम से वह प्राप्त करना जो परमेश्वर है। परमेश्वर के वचनों में अंतर्दृष्टि होना और परमेश्वर के वचनों में उसकी इच्छा को समझना—अर्थात्, परमेश्वर के वचनों को खाते और पीते समय उनमें आत्मा को महसूस करना और अपने भीतर परमेश्वर के वचनों को प्राप्त करना; अनुभव के माध्यम से तुम यह समझते हो कि वह क्या है, और परमेश्वर के साथ संवाद करते समय उसकी रोशनी प्राप्त करते हो; यह सब प्रकाश है। विचार और चिंतन करते हुए तुम किसी भी क्षण परमेश्वर के वचनों में प्रबुद्ध हो सकते हो और नई अंतर्दृष्टि पा सकते हो। यदि तुम परमेश्वर के वचन को समझते हो और नया प्रकाश महसूस करते हो, तो क्या तुम्हारी सेवा में सामर्थ्य नहीं होगा? तुम लोग सेवा देते हुए बहुत चिंता करते हो! ऐसा इसलिए है, क्योंकि तुम लोगों ने वास्तविकता को नहीं छुआ है, और तुम्हें वास्तविक अनुभव या अंतर्दृष्टि नहीं है। यदि तुम्हारे पास वास्तविक अंतर्दृष्टि होती, तो क्या तुम यह न जानते कि सेवा कैसे की जाए? जब तुम पर कुछ चीजें आकर पड़ती हैं, तो तुम्हें उन्हें तत्परता से अनुभव करना चाहिए। यदि एक आसान और सुविधाजनक माहौल में तुम परमेश्वर के मुख-मंडल के प्रकाश में भी रह सकते हो, तो तुम हर दिन परमेश्वर का चेहरा देखोगे। यदि तुमने परमेश्वर का चेहरा देखा होता और परमेश्वर के साथ संवाद किया होता, तो क्या तुम्हारे पास प्रकाश न होता? तुम लोग वास्तविकता में प्रवेश नहीं करते, और तुम खोज करते हुए सदैव बाहर ही रहते हो; परिणामस्वरूप तुम्हें कुछ नहीं मिलता और जीवन में तुम्हारी प्रगति में विलंब होता है।

बाहर ध्यान केंद्रित मत करो; बल्कि, बस भीतर परमेश्वर के निकट आओ, पर्याप्त गहराई से संवाद करो और परमेश्वर की इच्छा को समझो; तब क्या तुम्हारे पास अपनी सेवा में कोई मार्ग नहीं होगा? तुम लोगों को तत्परतापूर्वक ध्यान देने और आज्ञापालन करने की आवश्यकता है। यदि तुम सभी चीजें केवल मेरे वचनों के अनुसार करते हो और उन मार्गों में प्रवेश करते हो, जिन्हें मैं इंगित करता हूँ, तो क्या तुम्हारे पास कोई मार्ग नहीं होगा? यदि तुम्हें वास्तविकता में प्रवेश करने का मार्ग मिल जाता है, तो तुम्हारे पास परमेश्वर की सेवा करने का मार्ग भी है। यह सरल है! परमेश्वर की उपस्थिति में और अधिक आओ, परमेश्वर के वचनों पर और अधिक विचार करो, और तुम वह प्राप्त करोगे जिसकी तुम्हारे अंदर कमी है। तुम्हारे पास नई अंतर्दृष्टि, नई प्रबुद्धता भी होगी, और तुम्हारे पास प्रकाश होगा।

पिछला: अध्याय 31

अगला: अध्याय 33

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

अध्याय 37

विभिन्न युगों में, मेरे द्वारा किए गए सम्पूर्ण कार्य के प्रत्येक चरण में मेरी समुचित कार्य-विधियाँ शामिल रही हैं इसी वज़ह से मेरे प्रिय लोग...

तुम किसके प्रति वफादार हो?

इस समय तुम लोगों के जीवन का हर दिन निर्णायक है, और यह तुम्हारे गंतव्य और भाग्य के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है, अतः आज जो कुछ तुम्हारे पास है,...

स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है IX

परमेश्वर सभी चीज़ों के लिए जीवन का स्रोत है (III)इस अवधि के दौरान, हमने परमेश्वर को जानने से संबंधित बहुत सारी चीज़ों के बारे में बात की है,...

अध्याय 24 और अध्याय 25

ध्यानपूर्वक पढ़े बिना, इन दो दिनों के कथन में कुछ भी पता लगा पाना असंभव है; वास्तव में, इन्हें एक ही दिन में बोला जाना चाहिए था, मगर...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें