अध्याय 33

मेरे राज्य को उन लोगों की ज़रूरत है जो ईमानदार हैं, उन लोगों की जो पाखंडी और धोखेबाज़ नहीं हैं। क्या सच्चे और ईमानदार लोग दुनिया में अलोकप्रिय नहीं हैं? मैं ठीक विपरीत हूँ। ईमानदार लोगों का मेरे पास आना स्वीकार्य है; इस तरह के व्यक्ति से मुझे प्रसन्नता होती है, और मुझे इस तरह के व्यक्ति की ज़रूरत भी है। ठीक यही तो मेरी धार्मिकता है। कुछ लोग अज्ञानी होते हैं; वे पवित्र आत्मा के कार्य को महसूस नहीं कर सकते और वे मेरी इच्छा को नहीं समझ सकते हैं। वे उस परिवेश को स्पष्ट रूप से नहीं देख पाते हैं जिसमें उनके अपने परिवार और आस-पड़ोस मौजूद हैं, वे आँख बंद करके चीज़ों को करते हैं और अनुग्रह पाने के कई अवसरों को गँवा देते हैं। वे अपने कृत्यों के लिए बार-बार अफ़सोस करते हैं और जब किसी मामले से उनका सामना होता है, तब फिर वे इसे स्पष्ट नहीं देख पाते। कभी-कभी किसी न किसी तरह जीत हासिल करने के लिए वे परमेश्वर पर भरोसा कर पाते हैं, लेकिन बाद में जब उसी तरह के मामले से उनका सामना होता है, तो पुरानी बीमारी लौट आती है, और वे मेरी इच्छा को समझ नहीं पाते। लेकिन मैं इन चीजों को नहीं देखता हूँ, और मैं तुम लोगों के अपराधों को याद नहीं रखता हूँ। इसके बजाय, मैं तुम लोगों को इस अमर्यादित भूमि से बचाना चाहता हूँ और तुम लोगों को अपने जीवन को नया बनाने देता हूँ। मैंने तुम लोगों को बार-बार माफ़ किया है। हालाँकि, सर्वाधिक महत्वपूर्ण कदम अब है। तुम लोग अब और भ्रमित नहीं रह सकते हो और उस तरह से, रुकने-चलने के उस तरीके से अब और आगे नहीं बढ़ सकते हो। तुम लोग मंजिल पर कब पहुँच सकोगे? तुम लोगों को बिना रुके समापन रेखा की ओर दौड़ने में अपनी जी-जान लगा देनी है। इस अत्यंत महत्वपूर्ण समय में धीमे और कमजोर मत पड़ो, साहसपूर्वक आगे बढ़ो, और एक भरपूर दावत तुम लोगों के सामने है। अपनी शादी के लिबास और धार्मिकता के वस्त्रों में जल्दी से तैयार हो जाओ और मसीह के विवाह के रात्रिभोज में भाग लो; समूचे अनंतकाल के लिए पारिवारिक आनंद का भोग लो! तू पहले की तरह अब और कभी उदास, दुःखी नहीं होगा और आहें नहीं भरेगा। उस समय का सब कुछ धुएँ की तरह गायब हो चुका होगा और तुझमें केवल मसीह के पुनर्जीवित जीवन की सामर्थ्य होगी। तेरे अंदर, धुलाई-सफाई करके शुद्ध किया गया एक मंदिर होगा और तेरे द्वारा प्राप्त किया गया पुनरुत्थान का जीवन सदा-सर्वदा के लिए तुझमें बसा रहेगा!

पिछला: अध्याय 32

अगला: अध्याय 34

2022 के लिए एक खास तोहफा—प्रभु के आगमन का स्वागत करने और आपदाओं के दौरान परमेश्वर की सुरक्षा पाने का मौका। क्या आप अपने परिवार के साथ यह विशेष आशीष पाना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

अध्याय 22 और अध्याय 23

आज सभी परमेश्वर की इच्छा को समझने और उसके स्वभाव को जानने के इच्छुक हैं, फिर भी किसी को इसका कारण नहीं पता कि वे जो करना चाहते हैं, उसे कर...

प्रस्तावना

यद्यपि बहुत सारे लोग परमेश्वर में विश्वास करते हैं, लेकिन कुछ ही लोग समझते हैं कि परमेश्वर में विश्वास करने का क्या अर्थ है, और परमेश्वर की...

विजय के कार्य की आंतरिक सच्चाई (3)

विजय के कार्य का अभीष्ट परिणाम मुख्य रूप से यह है कि मनुष्य की देह को विद्रोह से रोका जाए, अर्थात मनुष्य का मस्तिष्क परमेश्वर की नई समझ...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें