अध्याय 61

जब तुम अपनी स्थिति के प्रति जागरूक होते हो, तब तुम मेरी इच्छा की पूर्ति कर सकते हो। वास्तव में, मेरी इच्छा को समझना मुश्किल नहीं है, बात केवल इतनी-सी है कि अतीत में तुमने कभी भी मेरे इरादों के अनुसार प्रयास नहीं किया। मुझे लोगों की धारणाएँ या विचार नहीं चाहिए, मुझे तुम्हारा धन या संपत्ति तो बिलकुल भी नहीं चाहिए। मुझे बस तुम्हारा दिल चाहिए। समझे? यह मेरी इच्छा है; और इतना ही नहीं, मैं बस यही प्राप्त करना चाहता हूँ। लोग मुझे समझने के लिए हमेशा अपनी धारणाओं का उपयोग करते हैं, और मेरी कद-काठी का मूल्यांकन अपनी कसौटी पर करते हैं। मानवजाति के साथ, इस चीज़ से निपटना सबसे कठिन है, और इसी से मैं सबसे अधिक घृणा करता हूँ और इसी को सबसे अधिक नापसंद करता हूँ। क्या अब तुम्हें समझ आ रहा है? ऐसा इसलिए है, क्योंकि यह शैतान का सबसे अधिक दिखने वाला स्वभाव है। इसके अतिरिक्त, तुम लोगों की कद-काठी इतनी छोटी है कि तुम अक्सर शैतान की कुटिल योजनाओं में फँस जाते हो। तुम उन्हें पहचान ही नहीं पाते! मैंने तुम लोगों से कई बार हर समय और हर मामले में सतर्क रहने के लिए कहा है, ताकि तुम शैतान के झाँसे में न आ जाओ। लेकिन फिर भी, तुम लोग सुनते नहीं हो और मैं जो कहता हूँ, उसे सहर्ष अनदेखा कर देते हो। परिणामस्वरूप, तुम्हें अपने जीवन में नुक़सान उठाना पड़ता है और तब तक पछतावे के लिए बहुत देर हो चुकी होती है। क्या यह बेहतर नहीं होगा कि तुम इसे भविष्य के प्रयास के लिए सबक के रूप में ग्रहण करो? मैं तुमसे कहता हूँ! नकारात्मकता में प्रवृत्त होने से तुम्हारे जीवन में भीषण नुक़सान होगा। यह जान लेने पर, क्या यह तुम्हारे जागने का समय नहीं है?

लोग त्वरित परिणामों के लिए अधीर रहते हैं, और वे केवल वही देखते हैं, जो उनकी आँखों के ठीक सामने होता है। जब मैं कहता हूँ कि मैंने सत्ताधारी लोगों को दंडित करना शुरू कर दिया है, तो तुम लोग और भी चिंतित हो जाते हो, और पूछते हो : "वे लोग अभी भी सत्ता में क्यों हैं? क्या इसका अर्थ यह नहीं है कि परमेश्वर के वचन खोखले हैं?" मनुष्य की धारणाएँ कितनी मज़बूत हैं! मैं जो कहता हूँ, तुम लोग उसका अर्थ नहीं समझते। मैं जिन लोगों को दंडित करता हूँ, वे बुरे लोग हैं, जो मेरा विरोध करते हैं और मुझे नहीं जानते, और मैं उन लोगों को नज़रअंदाज़ करता हूँ, जो केवल मुझ पर विश्वास करते हैं लेकिन सत्य की तलाश नहीं करते। तुम वास्तव में अज्ञानी हो! मैंने जो कहा है, तुम उसे रत्ती भर भी नहीं समझे हो! फिर भी तुम यह सोचकर अपनी पीठ थपथपाते हो कि तुम परिपक्व हो गए हो, कि तुम चीज़ों को समझते हो और तुम मेरी इच्छा को समझने में सक्षम हो। मैं अक्सर कहता हूँ कि सभी चीज़ें और मामले मसीह को सेवा प्रदान करते हैं, लेकिन क्या तुम वास्तव में इन वचनों को समझते हो? क्या तुम सचमुच उनका अर्थ जानते हो? मैंने पहले भी कहा है कि मैं किसी को भी बेतहाशा दंडित नहीं करता। ब्रह्मांड की दुनिया का हर एक व्यक्ति मेरी उचित व्यवस्था का पालन करता है। जो मेरे दंड के पात्र हैं, जो मसीह को सेवा प्रदान करते हैं (जिन्हें मैं नहीं बचाऊँगा), जिन्हें मैंने चुना है, और जो मेरे द्वारा चुने जाने के बाद हटाए जाने के पात्र बन गए हैं—इन सबको मैं अपने हाथों से थाम लेता हूँ, तुम्हारा तो कहना ही क्या, जो उनमें से एक है जिन्हें मैंने चुना है और जिसे मैं और भी ज्यादा समझता हूँ। इस चरण के दौरान मैं जो करता हूँ और अगली सब चीज़ें मेरी बुद्धिमान व्यवस्था के अनुरूप हैं। तुम्हें मेरे लिए कुछ भी पहले से व्यवस्थित करने की आवश्यकता नहीं है; केवल प्रतीक्षा करो और आनंद लो! तुम इसके योग्य हो। मेरा अपनी चीज़ों पर प्रभुत्व है, और मैं उन लोगों को आसानी से नहीं छोड़ता, जो शिकायत करने या मेरे बारे में अन्य राय रखने की हिम्मत करते हैं। मैं इन दिनों अक्सर क्रोध से भड़क जाता हूँ, क्योंकि प्रशासनिक नियमों के जिस कार्यक्रम की व्यवस्था मैंने की है, वह इस चरण तक आने वाला है। यह मत सोचो कि मेरी कोई भावना नहीं है। इसका कारण यह है कि, जैसा कि मैंने पहले भी कहा है, कोई भी चीज़, व्यक्ति या घटना मेरे कदम आगे बढ़ने से रोकने की हिम्मत नहीं कर सकती। मैं जो कहता हूँ वह करता हूँ, और मैं ऐसा ही हूँ; और इतना ही नहीं, यह मेरे स्वभाव की सबसे अधिक दिखाई देने वाली अभिव्यक्ति है। मैं सभी लोगों के साथ समान व्यवहार करता हूँ, क्योंकि तुम सब मेरे पुत्र हो, और मैं तुम सबसे प्यार करता हूँ। कौन पिता है, जो अपने बेटे के जीवन की ज़िम्मेदारी नहीं लेता? कौन पिता है, जो अपने बेटे के भविष्य के लिए दिन-रात कड़ी मेहनत नहीं करता? तुम लोगों में से कौन इसे पहचानता है? मेरा दिल किसके लिए विचारशीलता दिखा सकता है? तुम लोग अपने शारीरिक सुखों के लिए लगातार योजनाएँ बनाते और व्यवस्था करते हो, और तुम्हें मेरे दिल की बिल्कुल चिंता नहीं है। मैं तुम लोगों के लिए इतनी चिंता करता हूँ कि मेरे दिल के टुकड़े-टुकड़े हो जाते हैं, लेकिन तुम लोग निरंतर शारीरिक सुखों, खाने-पीने, सोने और कपड़ों के लिए ही लालायित रहते हो। क्या तुम लोगों में थोड़ा-सा भी विवेक नहीं है? यदि ऐसा है, तो तुम मानव के भेस में पशु हो। मैं जो कहता हूँ वह अनुचित नहीं है, और तुम में इन वचनों को सहन करने की क्षमता होनी चाहिए। तुम लोगों को बचाने का यह सबसे अच्छा तरीका है, और इतना ही नहीं, यहीं मेरी बुद्धि रहती है : शैतान की सबसे बड़ी कमज़ोरी पर हमला करो, उसे पूरी तरह से पराजित कर दो और उसे पूरी तरह से नष्ट कर डालो। जब तक तुम पश्चात्ताप करोगे और यह सुनिश्चित करोगे कि तुम अपनी पुरानी प्रकृति को मिटा देने और एक नए व्यक्ति की छवि को जीने के लिए मुझ पर भरोसा करते हो, मैं पूरी तरह से संतुष्ट रहूँगा, क्योंकि सामान्य मानवता के रूप में जीने और मेरे नाम की गवाही देने का यही अर्थ है। मुझे और कोई चीज़ इससे ज्यादा खुश नहीं कर सकती।

तुम्हें हमेशा मेरे करीब रहना चाहिए। यह स्पष्ट है कि मेरी गति दिन-प्रतिदिन तेज़ हो रही है। यदि तुम पल भर के लिए भी आध्यात्मिक संगति में कमी करोगे, तो मेरा न्याय फौरन तुम पर लागू हो जाएगा। इस बिंदु पर, तुम्हें एक गहरा एहसास हुआ है। मैं तुम्हें इसलिए ताड़ना नहीं देता कि मैं तुमसे प्यार नहीं करता; बल्कि मैं तुम्हें प्यार के कारण ही अनुशासित करता हूँ। अन्यथा, तुम विकसित नहीं होगे, और तुम पवित्र आत्मा के संयम के बिना हमेशा पथभ्रष्ट रहोगे। यह मेरी बुद्धि को और भी प्रदर्शित करता है।

पिछला: अध्याय 60

अगला: अध्याय 62

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

जो लोग सीखते नहीं और अज्ञानी बने रहते हैं : क्या वे जानवर नहीं हैं?

जब तुम आज के मार्ग पर चलते हो, तो किस प्रकार का अनुगमन सबसे अच्छा होता है? अपने अनुगमन में तुम्हें खुद को किस तरह के व्यक्ति के रूप में...

राज्य गान

लोग मेरी जय-जयकार करते हैं, लोग मेरी स्तुति करते हैं; सभी अपने मुख से एकमात्र सच्चे ईश्वर का नाम लेते हैं, सभी लोगों की दृष्टि मेरे कर्मों...

परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III

हमारी पिछली कुछ संगतियों का तुममें से हर एक पर बड़ा प्रभाव पड़ा है। फ़िलहाल, अंतत: लोग वास्तव में परमेश्वर के सच्चे अस्तित्व को महसूस कर सकते...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें