अध्याय 62

मेरी इच्छा को समझना केवल इसलिए आवश्यक नहीं कि तुम मुझे जान सको, बल्कि इसलिए भी महत्वपूर्ण है कि तुम मेरे इरादे के अनुसार कार्य कर सको। लोग मेरे दिल को नहीं समझते हैं। जब मैं कहता हूं कि यह पूर्व है, तो उनके लिए विवेचन करना आवश्यक है, और वे सोचते हैं, "क्या यह वास्तव में पूर्व है? शायद नहीं। मैं इतनी आसानी से विश्वास नहीं कर सकता हूं। मुझे स्वयं देखना होगा।" तुम लोगों से निपटना बहुत मुश्किल है, और तुम नहीं जानते कि असली आज्ञाकारिता क्या है। जब तुम्हें मेरा इरादा पता होता है, तो इसे बिना संकोच पूरा करो—इसके बारे में सोचने की कोई आवश्यकता नहीं है! मैं जो भी कहता हूं, तुम हमेशा उस पर थोड़ा-सा संदेह करते हो और उसे बेतुके ढंग से समझते हो, तो फिर कैसे तुम्हारे पास सच्ची अंतर्दृष्टि हो सकती है? तुम कभी भी मेरे वचनों में प्रवेश करने की कोशिश नहीं करते हो। जैसा कि मैंने पहले कहा है, मुझे बस कुछ चुनिंदा लोगों की चाह है, न कि बहुत से लोगों की। जो लोग मेरे वचनों में प्रवेश करने को महत्व नहीं देते हैं वे मसीह के अच्छे सैनिक होने के लायक नहीं हैं, बल्कि वे शैतान के चेले की तरह काम करते हैं और मेरे काम में बाधा डालते हैं। इसे एक मामूली बात न समझो। जो भी मेरे काम में बाधा पहुंचाता है, वह मेरे प्रशासनिक नियमों का उल्लंघन करता है, और मैं निश्चित रूप से उन्हें गंभीरता से अनुशासित करूंगा। कहने का अर्थ है कि, अब से, यदि तुम कुछ समय के लिए मुझसे दूर हो जाते हो, तो मेरा न्याय तुम पर पड़ेगा। यदि तुम मेरे वचनों पर विश्वास नहीं करते हो तो स्वयं आज़माकर देख लो, देख लो कि मुखाकृति के प्रकाश में जीकर तुम्हारी स्थिति कैसी है, और मुझे छोड़ने पर तुम्हारी स्थिति कैसी होगी।

मुझे यह डर नहीं है कि तुम आत्मा में नहीं रहते हो। मेरा काम वर्तमान चरण तक जारी रहा है, तो तुम क्या कर सकते हो? मैं क्रम से कार्य करता हूं, इसलिए तुम्हें चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं है। मैं अपना काम स्वयं करूंगा। जब मैं कुछ करता हूं तो लोग पूरी तरह से आश्वस्त हो जाते हैं, अन्यथा मैं उन्हें अधिक गंभीरता से ताड़ना देकर निपटूंगा। यह मेरे प्रशासनिक नियमों से अधिक संबंधित है। यह देखा जा सकता है कि मेरे प्रशासनिक नियमों को अब प्रकाशित और लागू किया जाना शुरू कर दिया गया है, अब इन्हें छुपाया नहीं जा सकता है। तुम्हें यह स्पष्टता से देखना होगा! अब सब कुछ मेरे प्रशासनिक नियमों से संबंधित है और जो भी उनका उल्लंघन करेगा उन्हें नुकसान का सामना करना पड़ेगा। निश्चित रूप से यह कोई मामूली मामला नहीं है। क्या तुम लोगों के पास वास्तव में इसके बारे में अंतर्दृष्टि है? क्या तुम लोग इस पहलू पर पूरी तरह से स्पष्ट हो? अब मैं साहचर्य शुरू करूंगा: सभी राष्ट्र और दुनिया के सभी लोगों को, चाहे उनका धर्म कोई भी हो, मेरे हाथों द्वारा प्रशासित किया जाता है और सभी को मेरे सिंहासन तक पहुंचना होगा। निस्संदेह, न्याय पाने वाले कुछ लोगों को एक अथाह गड्ढे में डाल दिया जाएगा (वे बर्बाद करने की वस्तुएं हैं जिन्हें पूरी तरह जला दिया जाएगा और वे अब नहीं बचेंगे), और मेरा न्याय पाने के बाद मेरा नाम स्वीकार करने वाले कुछ लोग मेरे राज्य के लोग बन जाएंगे (वे केवल 1,000 वर्षों के लिए आनंद लेंगे)। तुम में से वे लोग हमेशा मेरे साथ शासन को बाँटेंगे, और चूँकि तुम सबने मेरे लिए पहले पीड़ा सही है, मैं तुम लोगों की पीड़ाओं को आशीषों में बदल दूंगा जो मैं तुम्हें असीम मात्रा में दूंगा; मेरे वे लोग मसीह को मात्र सेवा प्रदान करना जारी रखेंगे। आनंद का अर्थ केवल आनंद से नहीं है, बल्कि यह भी है कि वे लोग आपदाओं से बचे रहें। यही तुमसे मेरी अपेक्षाओं और मेरे प्रशासनिक आदेशों को स्पर्श करने वाली हर चीज़ से अपेक्षाओं के इतना सख्त होने का आंतरिक अर्थ है। क्योंकि यदि तुम लोगों ने मेरा प्रशिक्षण स्वीकार नहीं किया, तो मैं तुम लोगों को वह नहीं दे पाऊंगा जो तुम्हें विरासत में मिलना है। हालांकि, मामला यह है, तुम लोग अभी भी पीड़ा से डरते हो, अपनी आत्माओं को घाव लगने से डरते हो, हमेशा देह के बारे में सोचते हो और हमेशा अपने लिए व्यवस्था करते हो और योजना बनाते हो। क्या मैंने तुम लोगों के लिए उपयुक्त व्यवस्था नहीं की है? तो क्यों तुम लोग बार-बार अपने लिए व्यवस्था करते हो? तुम मेरा तिरस्कार करते हो! क्या ऐसा नहीं है? मैं तुम्हारे लिए कुछ व्यवस्थित करता हूं, लेकिन तुम इसे पूरी तरह से नकारते हो और अपनी योजना बनाते हो।

हो सकता है तुम लोग अच्छा बोलते हो, लेकिन वास्तविकता में तुम मेरी इच्छा का पालन बिल्कुल नहीं करते हो। मैं तुमसे कहता हूँ, मैं बिल्कुल नहीं कहूँगा कि तुम लोगों में से कोई भी वास्तव में मेरी इच्छा के प्रति विचारशील होने योग्य है। हालांकि तुम्हारे कार्य मेरी इच्छा के अनुरूप हो सकते हैं, फिर भी मैं बिल्कुल तुम्हारी प्रशंसा नहीं करूंगा। यह उद्धार की मेरी विधि है हालांकि ऐसा है, तुम लोग फिर भी कभी-कभी आत्मसंतुष्ट हो जाते हो, अपने आप को अद्भुत समझते हो और हर किसी को दोषी मानते हो। यह मनुष्यों के दूषित स्वभाव का एक पहलू है। तुम सभी इस बात को स्वीकार करते हो, लेकिन केवल ऊपरी तौर पर। वास्तव में बदलने के लिए तुम्हें मेरे करीब आने की आवश्यकता है; मेरे साथ साहचर्य करो और मैं तुम पर अनुग्रह करूंगा। कुछ लोग बेकार बैठकर दूसरों के बोए हुए को काटने के बारे में सोचते हैं, वे महसूस करते हैं कि उन्हें कपड़े पहनने के लिए केवल अपने हाथ फैलाने की, खिलाए जाने के लिए अपने मुँह खोलने की आवश्यकता है, और प्रतीक्षा करते हैं कि इससे पहले कि वे भोजन को निगलने की इच्छा करें दूसरे लोग उनके भोजन को चबा दें। ऐसे लोग सबसे मूर्ख होते हैं, उन्हें वह खाना पसंद है जो दूसरे खा चुके होते हैं, और यह मनुष्य के सबसे आलसी पहलू की अभिव्यक्ति है। मेरे इन वचनों को सुनकर, तुम्हें इन्हें अब और अनदेखा नहीं करना चाहिए। अत्यंत सावधानी बरतना ही सही तरीका है। तब मेरी इच्छा संतुष्ट हो सकती है, और यह आज्ञाकारिता का सबसे उत्तम प्रकार है।

पिछला: अध्याय 61

अगला: अध्याय 63

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

पृथ्वी के परमेश्वर को कैसे जानें

परमेश्वर के सामने तुम सभी लोग पुरस्कार प्राप्त करके और उसकी नज़रों में उसके अनुग्रह की वस्तु बन कर प्रसन्न होते हो। यह हर एक की इच्छा होती...

जो परमेश्वर को और उसके कार्य को जानते हैं, केवल वे ही परमेश्वर को संतुष्ट कर सकते हैं

देहधारी परमेश्वर के कार्य में दो भाग शामिल हैं। जब वह पहली बार देह बना, तो लोगों ने उस पर विश्वास नहीं किया या उसे नहीं पहचाना, और उन्होंने...

आज परमेश्वर के कार्य को जानना

इन दिनों परमेश्वर के कार्यों को जानना, अधिकांशतः, यह जानना है कि अंत के दिनों के देहधारी परमेश्वर की मुख्य सेवकाई क्या है और पृथ्वी पर वह...

कार्य और प्रवेश (10)

मानवता का इतनी दूरी तक प्रगति कर लेना एक ऐसी स्थिति है जिसका कोई पूर्व उदाहरण नहीं। परमेश्वर का कार्य और मनुष्य का प्रवेश कंधे से कंधा...

वचन देह में प्रकट होता है अंत के दिनों के मसीह के कथन (संकलन) अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप अंत के दिनों के मसीह के लिए गवाहियाँ परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-सूची

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें