अध्याय 60

जीवन का विकास कोई आसान बात नहीं है; इसके लिए एक प्रक्रिया की आवश्यकता होती है, और इससे भी अधिक, ज़रूरी यह है कि तुम लोग इसकी कीमत चुका सको और पूरी सहमति के साथ मेरा सहयोग करो, और तब तुम्हें मेरी प्रशंसा प्राप्त होगी। मेरे वचनों से आकाश और पृथ्वी एवं सभी चीज़ें स्थापित और पूर्ण की गई हैं और मेरे साथ कोई भी चीज़ हासिल की जा सकती है। मेरी एकमात्र इच्छा यह है कि तुम लोग शीघ्र विकास करो, मेरे कंधों से बोझ लेकर अपने ऊपर रख लो, मेरे लिए मेरा श्रम करो, और यह मेरे दिल को संतुष्ट करेगा। कौन पुत्र अपने पिता के बोझ को अस्वीकार करेगा? कौन पिता अपने पुत्र के लिए दिन-रात श्रम नहीं करेगा? लेकिन तुम लोग मेरी इच्छा को समझते ही नहीं, और तुम्हें मेरे बोझ की चिंता नहीं है; मेरे वचन तुम लोगों के लिए कोई मायने नहीं रखते और तुम मेरे वचनों के अनुसार कार्य नहीं करते हो। तुम लोग हमेशा अपने मालिक स्वयं हो; कितने स्वार्थी हो! तुम केवल अपने बारे में सोचते हो!

क्या तुम वास्तव में मेरी इच्छा समझते हो या नाटक कर रहे कि तुम्हें समझ नहीं आ रहा है? तुम हमेशा अपने व्यवहार में इतने लापरवाह क्यों हो? क्या तुम्हारा ज़मीर यह कहता है कि इस तरह व्यवहार कर तुम मेरे साथ सही कर रहे हो? बीमारी का कारण पता चल जाने पर तुम इलाज के लिए मुझसे बात क्यों नहीं करते? मैं तुम्हें बताऊंगा: आज से अब कभी तुम्हारे शरीर में कोई भी रोग नहीं होगा। यदि तुम्हारा कोई भी अंग कभी अस्वस्थ महसूस करता है, तो किसी बाहरी कारण की तलाश में व्यस्त न रहो। इसके बजाय, मेरे पास आओ और मेरा इरादा जानने का प्रयास करो—क्या तुम्हें यह याद रहेगा? यह मेरा वादा है: इस दिन से तुम पूरी तरह अपने भौतिक शरीर से दूर जाकर आध्यात्मिक दुनिया में प्रवेश करोगे, यानी, तुम लोगों के शरीर पर बीमारी का कोई बोझ नहीं होगा। क्या तुम इससे ख़ुश हो? क्या तुम्हें आनंद महसूस हो रहा? यह मेरा वादा है। इससे भी अधिक, यह वह चीज है जिसकी अपेक्षा तुम्हें लंबे समय से थी। आज तुम धन्य लोगों ने यह हासिल कर लिया है; कितना अद्भुत और अपरिमेय है यह!

मेरा काम दिन-रात प्रगति कर रहा है; पल-प्रतिपल, यह कभी रुकता नहीं। ऐसा इसलिए है क्योंकि मेरी तत्काल इच्छा है कि मैं तुम्हें अपने दिल के अनुरूप बना लूं और मेरे दिल को तुम लोग शीघ्र ही सांत्वना दो। मेरे बेटों! समय आ गया है कि तुम लोग अच्छाई के मेरे आशीषों को साझा करो! अतीत में, तुम लोगों ने मेरे नाम के लिए पीड़ा सही थी, लेकिन अब तुम लोगों के परीक्षण के दिन समाप्त हो गए हैं। यदि किसी ने भी मेरे बेटों के सिर के एक बाल को भी नुकसान पहुँचाने की हिम्मत की, तो मैं उन्हें आसानी से माफ़ नहीं करूँगा, न ही वे फिर कभी दोबारा ऊपर उठने में समर्थ होंगे। यह मेरा प्रशासनिक आदेश है और जो भी इसका उल्लंघन करेगा वह ऐसा अपने जोखिम पर करेगा। मेरे बेटों! दिल के संतुष्ट होने तक आनंद उठाओ! ख़ुशी में गाओ और चिल्लाओ! तुम लोगों को अब धमकाया और उत्पीड़ित नहीं किया जाएगा और तुम लोगों पर अत्याचार नहीं किया जाएगा। मुझ पर अपने विश्वास के लिए तुम्हें अब कभी डरना नहीं होगा; तुम्हें अपने भरोसे की सार्वजनिक घोषणा कर देनी चाहिए। मेरे पवित्र नाम को इतनी ज़ोर से पुकारो कि ब्रह्मांड और पृथ्वी का कोना-कोना कंपित हो उठे। वे देखें कि जिन्हें वे तुच्छ समझते थे, जिन्हें उनके द्वारा तबाही और अत्याचार का सामना करना पड़ा, आज वे उनसे ऊपर पहुंच कर उन पर शासन कर रहे, उन्हें नियंत्रित कर रहे, और, इससे भी महत्त्वपूर्ण, उनपर फैसला दे रहे हैं।

तुम लोग केवल अपनी प्रविष्टि के बारे में चिंता करो, और मैं तुम लोगों पर इससे भी बेहतर आशीष बरसाऊंगा ताकि तुम लोग उनका आनंद उठा सको, और अप्रतिम माधुर्य, असीम रहस्यों और अथाह गहराई का बेहतर आस्वाद पा सको!

पिछला: अध्याय 59

अगला: अध्याय 61

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

अध्याय 8

जब मेरे प्रकाशन अपने चरमोत्कर्ष पर पहुँचेंगे, और जब मेरा न्याय अंत के निकट आएगा, तब यह वह समय होगा जब मेरे सभी लोग प्रकट और पूर्ण बना दिए...

अध्याय 47

मनुष्य के जीवन को परिपक्वता के लिए प्रेरित करने के उद्देश्य से, और इसलिए भी कि मानवजाति और मैं समान महत्वाकांक्षा साझा करते हुए परिणाम...

अध्याय 16

बहुत कुछ है जो मैं मनुष्य से कहना चाहता हूँ, इतनी सारी चीज़ें जो मुझे उसे बतानी ही चाहिए। परंतु मनुष्य में स्वीकार करने की क्षमता का...

परमेश्वर को जानना परमेश्वर का भय मानने और बुराई से दूर रहने का मार्ग है

तुम में से प्रत्येक व्यक्ति को नए सिरे से जाँच करनी चाहिए कि अपने पूरे जीवन में तुमने परमेश्वर पर किस तरह से विश्वास किया है, ताकि तुम यह...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें