प्रश्न 1: प्रभु ने काफी पहले हमें वचन दिया है: "क्योंकि मैं तुम्हारे लिये जगह तैयार करने जाता हूँ। और यदि मैं जाकर तुम्हारे लिये जगह तैयार करूँ, तो फिर आकर तुम्हें अपने यहाँ ले जाऊँगा कि जहाँ मैं रहूँ वहाँ तुम भी रहो" (यूहन्ना 14:2-3)। प्रभु ने पहले ही हमारे लिये स्वर्ग में जगह तैयार कर दी है। जब वे वापस आएंगे, तो हमें स्वर्ग के राज्य में ले जाएँगे। अगर प्रभु वापस आ चुके हैं, तो उनके सारे संत अभी भी धरती पर क्यों हैं? हमें आरोहित क्यों नहीं किया गया है?

उत्तर: प्रभु ने अपने विश्वासियों के लिये एक जगह तैयार कर दी है। यह सच है। लेकिन यह जगह धरती पर है या स्वर्ग में? इस बारे हम यकीन से नहीं कह सकते। हमारा ख़्याल है कि स्वर्ग का राज्य स्वर्ग में है, लेकिन यह हमारी अपनी मान्यताओं और कल्पनाओं की बुनियाद पर है। लेकिन क्या यह वाकई सच है? आइये देखें प्रभु यीशु ने क्या कहा है: "हे हमारे पिता, तू जो स्वर्ग में है; तेरा नाम पवित्र माना जाए। तेरा राज्य आए। तेरी इच्छा जैसी स्वर्ग में पूरी होती है, वैसे पृथ्वी पर भी हो" (मत्ती 6:9-10)। प्रभु यीशु ने हमें साफ़ तौर पर बताया है परमेश्वर का राज्य धरती पर है, न कि स्वर्ग में। परमेश्वर की इच्छा जैसी स्वर्ग में है वैसी ही धरती पर पूरी की जाएगी। आइये प्रकाशित-वाक्य 21:2-3 पढ़ें: "फिर मैं ने पवित्र नगर नये यरूशलेम को स्वर्ग से परमेश्‍वर के पास से उतरते देखा। …देख, परमेश्‍वर का डेरा मनुष्यों के बीच में है। वह उनके साथ डेरा करेगा, और वे उसके लोग होंगे, और परमेश्‍वर आप उनके साथ रहेगा और उनका परमेश्‍वर होगा।" आइये प्रकाशित-वाक्य 11:15 पढ़ें: "जगत का राज्य हमारे प्रभु का और उसके मसीह का हो गया, और वह युगानुयुग राज्य करेगा।" इन भविष्यवाणियों में लिखा है, "परमेश्‍वर का डेरा मनुष्यों के बीच में है।" "…नये यरूशलेम को स्वर्ग से परमेश्‍वर के पास से उतरते देखा।" "जगत का राज्य हमारे प्रभु का और उसके मसीह का हो गया।" इससे सिद्ध होता है कि परमेश्वर अपना राज्य धरती पर बनाएंगे, और धरती पर इंसान के साथ रहेंगे। धरती के सभी राज्य मसीह के राज्य हो जाएंगे, और वे हमेशा बने रहेंगे। अगर हम अपनी कल्पनाओं की बुनियाद पर मानें कि, परमेश्वर का राज्य स्वर्ग में है, और मानें कि जब प्रभु आएंगे तो हमें स्वर्ग में ले जाएंगे, तो क्या उनके पहले के वचन, बेकार नहीं हो जाएंगे? हकीकत में, मानवता को बचाने की परमेश्वर की प्रबंधन योजना का अंतिम परिणाम परमेश्वर के राज्य को धरती पर स्थापित करना है। सर्वशक्तिमान परमेश्वर यानी अंतिम दिनों के मसीह, धरती पर विजेताओं का एक समूह बनाने के लिये मानवता के न्याय और शुद्धिकरण का कार्य करते हैं। जिन्हें परमेश्वर का उद्धार प्राप्त हो जाता है, वो पूर्ण और विजेता बना दिये जाते हैं, ऐसे लोग परमेश्वर के वचनों पर अमल करते हैं और उनके मार्ग का अनुसरण करते हैं। वे उनके राज्य के लोग होते हैं। इन विजेताओं के बन जाने के बाद, धरती पर, परमेश्वर की इच्छा पूरी हो जाएगी। तब धरती पर मसीह का राज्य स्थापित होगा और परमेश्वर पूरी महिमा प्राप्त करेंगे। अंत में, वे प्रकाशित-वाक्य की पुस्तक की भविष्यवाणियों को पूरा करेंगे। क्या इन तथ्यों पर हम लोग, अभी भी स्पष्ट नहीं हैं? प्रभु यीशु ने हमारे लिये कौन-सी जगह तैयार की है? उन्होंने आदेश दिया कि हम लोगों को अंत के दिनों में पैदा होकर, उनके वापस आने पर उनसे मिलना है, परमेश्वर के शुद्धिकरण को स्वीकार करके पूर्ण होना है, और विजेता बनना है ताकि हम लोग परमेश्वर की इच्छा को पूरा कर सकें, धरती के सभी राज्यों को मसीह का राज्य बनाया जाएगा। यह परमेश्वर की इच्छा है। परमेश्वर धरती पर आते हैं, और हम लोग स्वर्ग में जाने की कोशिश करते हैं। ऐसा करके, क्या हम परमेश्वर के कार्य और उसकी इच्छा के विरुद्ध नहीं जा रहे हैं? अगर वे हम लोगों को हवा में उन्नत कर दें, तो सोचो, वहाँ न तो भोजन है, न रहने की जगह है, हम लोग ज़िंदा कैसे रहेंगे? क्या ये सब हमारी अपनी मान्यताएँ और कल्पनाएँ नहीं हैं? क्या परमेश्वर इस तरह का काम करेंगे? सच्चाई ये है कि हमारा उस तरह से सोचना वाकई बचकाना है। हम लोग अपने ही ख़्यालों में जीते हैं!

"स्वप्न से जागृति" फ़िल्म की स्क्रिप्ट से लिया गया अंश

पिछला: प्रश्न 2: मैंने अपनी आधी से अधिक जिंदगी में मसीह पर विश्वास किया है। मैंने प्रभु के लिए अथक रूप से काम किया है और मुझे निरंतर उनके दूसरे आगमन की प्रतीक्षा रही है। अगर प्रभु आए हैं, तो मुझे उनका प्रकाशन क्यों नहीं मिला? क्या उन्होंने मुझे किनारे कर दिया है? इस बात ने मुझे बहुत दुविधा में डाल दिया है। आप इसे कैसे समझाएंगे?

अगला: प्रश्न 2: हम लोग अभी तक तय नहीं कर पाए हैं कि परमेश्वर का राज्य धरती पर है या स्वर्ग में। प्रभु यीशु ने "स्वर्ग का राज्य पास में हैं" और "स्वर्ग का राज्य आता है" के बारे में बात की थी। अगर यह "स्वर्ग का राज्य," है तो यह स्वर्ग में होना चाहिये। यह धरती पर कैसे हो सकता है?

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

35. परमेश्वर उन लोगों को क्यों विपत्तियों में डाल देगा जो सर्वशक्तिमान परमेश्वर को स्वीकार करने से इनकार करते हैं?

परमेश्वर के प्रासंगिक वचन:वे सभी जिनसे मैं प्रेम करता हूँ वे निश्चय ही अनन्त काल तक जीवित रहेंगे, और वे सभी जो मेरे विरूद्ध खड़े होते हैं...

प्रश्न 2: तुम यह प्रमाणित करते हो कि परमेश्वर ने देहधारण किया है और अंतिम दिनों में न्याय का कार्य करने के लिए मनुष्य का पुत्र बन चुका है, और फिर भी अधिकांश धार्मिक पादरी और प्राचीन लोग इस बात की पुष्टि करते हैं कि परमेश्वर बादलों के साथ लौटेगा, और वे इसका आधार मुख्यतः बाइबल की इन पंक्तियों पर रखते हैं: "यही यीशु ... जिस रीति से तुम ने उसे स्वर्ग को जाते देखा है उसी रीति से वह फिर आएगा" (प्रेरितों 1:11)। "देखो, वह बादलों के साथ आनेवाला है, और हर एक आँख उसे देखेगी" (प्रकाशितवाक्य 1:7)। और इसके अलावा, धार्मिक पादरियों और प्राचीन लोगों ने हमें यह भी निर्देश दिया है कि कोई भी प्रभु यीशु जो बादलों के साथ नहीं आता है, वह झूठा है और उसे छोड़ दिया जाना चाहिए। इसलिए हम निश्चित नहीं हो पा रहे हैं कि यह नज़रिया बाइबल के अनुरूप है या नहीं; इसे सच मान लेना उचित है या नहीं?

उत्तर:जब प्रभु के बादलों संग अवतरण की प्रतीक्षा करने की बात आती है, हमें मनुष्यों के विचारों और कल्पनाओं पर भरोसा नहीं करना चाहिए! फरीसियों...

प्रश्न 27: बाइबल ईसाई धर्म का अधिनियम है और जो लोग प्रभु में विश्वास करते हैं, उन्होंने दो हजार वर्षों से बाइबल के अनुसार ऐसा विश्वास किया हैं। इसके अलावा, धार्मिक दुनिया में अधिकांश लोग मानते हैं कि बाइबल प्रभु का प्रतिनिधित्व करती है, कि प्रभु में विश्वास बाइबल में विश्वास है, और बाइबल में विश्वास प्रभु में विश्वास है, और यदि कोई बाइबल से भटक जाता है तो उसे विश्वासी नहीं कहा जा सकता। क्या मैं पूछ सकता हूँ कि इस तरीके से प्रभु पर विश्वास करना प्रभु की इच्छा के अनुरूप है या नहीं?

उत्तर:बहुत से लोगों का विश्वास है कि बाइबल प्रभु की प्रतिनिधि है, परमेश्वर की प्रतिनिधि है और प्रभु में विश्वास करने का अर्थ बाइबल में...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें