अध्याय 66

मेरा कार्य वर्तमान चरण तक जारी रहा है और इसने मेरे हाथों की बुद्धिमान व्यवस्था का अनुसरण किया है, और साथ ही यह मेरी बड़ी सफलता भी है। मनुष्य के बीच ऐसा कौन है जो ऐसी किसी चीज़ को कर सकता है? और बल्कि इसके बजाय क्या वे मेरे प्रबंधन को बाधित नहीं करते हैं? लेकिन तुझे पता होना चाहिए कि ऐसा कोई तरीका नहीं है कि कोई मेरे कार्य को मेरी जगह कर सके, उसमें बाधा डालना तो दूर की बात है, क्योंकि ऐसा कोई नहीं है जो वह कह सके जो मैं कहता हूँ, जो वह कर सके जो मैं करता हूँ। यद्यपि यह बात है, फिर भी लोग मुझे—बुद्धिमान सर्वशक्तिमान परमेश्वर को—नहीं जानते हैं! बाहर से तुम लोग खुलकर मेरा विरोध करने की हिम्मत नहीं करते हो, मगर अपने हृदय और मस्तिष्क में मेरा विरोध करते हो। मूर्खो! क्या तुम नहीं जानते कि मैं ही वह परमेश्वर हूँ जो मनुष्य के अंतर्तम हृदय को देखता है? क्या तू नहीं जानता है कि मैं तेरे हर वचन और कर्म को देखता हूँ? मैं तुझसे कहता हूँ, मैं कभी भी अपने होंठों से नम्र वचन नहीं कहूँगा। इसके बजाय, वे सभी कठोर न्याय के वचन होंगे, और मैं देखूँगा कि क्या तू उन्हें सहन कर सकता है या नहीं। अब से, जिनके हृदय मेरे नज़दीक नहीं हैं, अर्थात् जो सच्चे हृदय से मुझे प्रेम नहीं करते हैं, ये वे लोग हैं खुलेआम मेरा अनादर करते हैं।

आज, पवित्र आत्मा का कार्य उस स्थिति तक पहुँच गया है जहाँ पिछली विधि का उपयोग अब और नहीं किया जाना है, बल्कि इसके बजाय अब एक नई विधि शामिल की जाती है। जो लोग मेरे साथ सकारात्मक और सक्रिय रूप से सहयोग नहीं करेंगे वे मृत्यु की खाई, अधोलोक, में गिरेंगे (ये लोग हमेशा नरक-वास भुगतेंगे)। नई विधि इस प्रकार है: यदि तुम्हारा हृदय और मस्तिष्क सही नहीं हैं, तो मेरा न्याय तुरंत तुम पर पड़ेगा, और इसमें दुनिया, सम्पत्ति, परिवार, पति, पत्नी, बच्चों, माता-पिता, खाने और पीने, कपड़े और ऐसी हर चीज़ जो आध्यात्मिक क्षेत्र के बाहर है, से चिपके रहना शामिल है। संतों की प्रबुद्धता दिखाई देना अधिक हो जाएगी, अर्थात्, जीवन की भावनाएँ बहुत अधिक स्पष्ट होंगी और निरंतर चलती रहेंगी। जो कोई मामूली-सी भी बाधा उत्पन्न करेगा, वह विनाशकारी पतन को भुगतेगा और जीवन के मार्ग पर बहुत पीछे रह जाएगा। जो लोग उदासीन हैं, जो भक्ति के साथ खोज नहीं करते हैं, मैं बिना किसी अपवाद के उनका पूरी तरह से परित्याग कर दूँगा और उन सभी को अनदेखा कर दूँगा, और वे एक हज़ार साल तक आपदाओं में दिन काटेँगे। जो लोग उत्साहपूर्वक खोज करेंगे, अर्थात्, जो हमेशा बाधा डालते हैं, मैं उनकी अज्ञानता को दूर कर दूँगा और उन्हें अपने प्रति वफ़ादार बना दूँगा, और इसके अलावा उन्हें बुद्धि और ज्ञान प्राप्त होगा, और इस तरह वे और अधिक विश्वास के साथ खोज करेंगे। मैं अपने सभी ज्येष्ठ पुत्रों पर अपने आशीषों को दुगुना कर देता हूँ और तुम लोगों को मेरा प्यार हर समय मिलता है। मैं हर समय तुम लोगों की देखभाल और रक्षा करता हूँ और मैं तुम लोगों को शैतान के जाल में नहीं फँसने दूँगा। मैंने सभी लोगों के बीच अपने कार्य की शुरुआत कर दी है, अर्थात्, मैंने एक अन्य कार्य परियोजना जोड़ दी है; ये वे लोग हैं जो हज़ारों सालों तक मसीह को सेवा प्रदान करेंगे, और बड़ी संख्या में लोग मेरे राज्य में इकट्ठा हो जाएँगे।

मेरे पुत्रो, तुम लोगों को अवश्य अपने अभ्यास को तीव्र करना चाहिए। तुम लोगों के लिए बहुत-सा कार्य प्रतीक्षा कर रहा है जिसका तुम्हें बीड़ा उठाना और पूरा करना है। मैं केवल इतना ही चाहता हूँ कि तुम लोग जल्दी से परिपक्व बनो, उस कार्य को पूरा करो जो मैंने तुम लोगों को सौंपा है। यह तुम लोगों की पवित्र ज़िम्मेदारी है, और ऐसा कर्तव्य है जो तुम लोगों में से उनके द्वारा किया जाना चाहिए जो मेरे ज्येष्ठ पुत्र हैं। मैं पथ के अंत तक तुम लोगों की रक्षा करूँगा और तुम लोगों की इसलिए रक्षा करूँगा ताकि तुम लोग मेरे साथ हमेशा आनंद ले सको! तुम लोगों में से हर एक को इस तथ्य का परिज्ञान होना चाहिए कि मैंने कई बलिदानों की व्यवस्था की है और कई पर्यावरणों की व्यवस्था की है, यह सब इसलिए किया है ताकि तुम लोग सिद्ध बनाए जा सको। तुम लोग जानते हो कि ये सभी मेरे आशीष हैं, है न? तुम सभी लोग मेरे प्यारे पुत्र हो। अगर तुम लोग ईमानदारी से मुझे प्यार करोगे, तो मैं तुम लोगों में से एक को भी नहीं त्यागूँगा, यद्यपि यह इस बात पर निर्भर करता है कि तुम लोग मेरे साथ सामंजस्यपूर्ण ढंग से सहयोग करने में सक्षम हो या नहीं।

पिछला: अध्याय 65

अगला: अध्याय 67

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

केवल शुद्धिकरण का अनुभव करके ही मनुष्य सच्चे प्रेम से युक्त हो सकता है

तुम सभी परीक्षण और शुद्धिकरण के बीच हो। शुद्धिकरण के दौरान तुम्हें परमेश्वर से प्रेम कैसे करना चाहिए? शुद्धिकरण का अनुभव करने के बाद लोग...

पतरस के जीवन पर

पतरस मानवता के लिए परमेश्वर का एक अनुकरणीय उदाहरण था, एक दिग्गज, जिसे सब जानते थे। किसलिए उस जैसे साधारण व्यक्ति को परमेश्वर द्वारा उदाहरण...

स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है VI

परमेश्वर की पवित्रता (III)हमने पिछली बार जिस विषय पर संगति की थी, वो था परमेश्वर की पवित्रता। स्वयं परमेश्वर के किस पहलू से परमेश्वर की...

परिचय

"संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन" मसीह द्वारा व्यक्त किए गए कथनों का दिवितीय भाग है। इस भाग में, मसीह स्वयं परमेश्वर की पहचान का...

वचन देह में प्रकट होता है अंत के दिनों के मसीह के कथन (संकलन) अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप अंत के दिनों के मसीह के लिए गवाहियाँ परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें