सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

वचन देह में प्रकट होता है

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

`

सोलहवां कथन

मनुष्य के पुत्र की गवाही के बाद, सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने स्वयं को धार्मिकता के सूर्य के रूप में सार्वजनिक रूप से प्रकट किया। पहाड़ पर यही रूप-परिवर्तन है! अब यह अधिक और अधिक असली बनता जा रहा है, और वास्तविकता बन रहा है। हमने पवित्र आत्मा के काम की विधि देखी है, परमेश्वर स्वयं देहीय शरीर से उभरा है। वह न तो मनुष्य, न ही अंतरिक्ष, न ही भौगोलिक नियंत्रण में है; वह पृथ्वी और समुद्र की सीमाओं से परे है, वह ब्रह्मांड के कोनों तक पहुंचता है, और सभी राष्ट्र और सभी लोग चुपचाप उसकी आवाज़ सुन रहे हैं। जैसे-जैसे हम अपनी आध्यात्मिक आंखें खोलते हैं, हम देखते हैं कि परमेश्वर का वचन उसके महिमामय शरीर से निकला है; परमेश्वर स्वयं देह से उभरा है। वही साक्षात वास्तविक और पूर्ण परमेश्वर है। वह हमसे सार्वजनिक ढंग से बात करता है, वह हमारे आमने-सामने है, वह हमें सलाह देता है, वह हम पर दया करता है, वह हमारी प्रतीक्षा करता है, वह हमें दिलासा देता है, वह हमें अनुशासित करता है और हमारा न्याय करता है। वह हमें हाथ पकड़कर ले जाता है और हमारे लिए उसकी चिंता उसके भीतर एक लौ की तरह सुलगती है, एक उत्सुक दिल के साथ वह हमें शीघ्र जागृत होने और उसके भीतर प्रवेश करने के लिए प्रोत्साहित करता है। उसका अलौकिक जीवन हम सभी पर लाया गया है, और जो लोग उसके भीतर प्रवेश करेंगे वे दुनिया और सभी दुष्टों से परे निकल जाएंगे, उन पर विजयी होंगे और उसके साथ शासन करेंगे। सर्वशक्तिमान परमेश्वर है परमेश्वर का आध्यात्मिक शरीर। यदि वह निर्दिष्ट करेगा, तो वह होगा; यदि वह कहेगा, तो वह होगा, और यदि वह आदेश देगा, तो वह है; वही है एकमात्र सच्चा परमेश्वर! शैतान उसके पैरों तले एक अथाह गड्ढे में है। ब्रह्मांड का सब कुछ उसके हाथों में है; समय आ गया है, और सब कुछ शून्यता पर वापस आ जाएगा और पुनः उत्पन्न होगा।

पिछला:चौदहवां कथन

अगला:सत्रहवाँ कथन

शायद आपको पसंद आये