प्रश्न 1: मैं यह नहीं समझ पाया कि अगर चमकती पूर्वी बिजली ही सच्चा मार्ग है, तो सीसीपी सरकार उसका इतना घोर विरोध क्यों करती? धार्मिक अगुआ भी क्यों इस कदर उसकी निंदा करते? ऐसा नहीं है कि सीसीपी की सरकार ने पादरियों और एल्डर्स पर अत्याचार न किये हों। लेकिन जब चमकती पूर्वी बिजली की बात आती है, तो परमेश्वर की सेवा करनेवाले पादरी और एल्डर, सीसीपी सरकार जैसा नज़रिया और रवैया कैसे अपना सकते हैं? भला इसकी वजह क्या है?

उत्तर: बाइबल में कहा गया है: "…सारा संसार उस दुष्‍ट के वश में पड़ा है" (1 यूहन्ना 5:19)। प्रभु यीशु ने कहा था, "इस युग के लोग बुरे हैं" (लूका 11:29)। तो फिर इस दुनिया में अंधकार और बुराई कहाँ तक फैली हुई है? अनुग्रह के युग में, मानवजाति के छुटकारे के लिए, देहधारी प्रभु यीशु को धार्मिक वर्गों और तब के शासकों ने सूली पर चढ़ा दिया था। अंत के दिनों में, सर्वशक्तिमान परमेश्वर द्वारा सत्य की अभिव्यक्ति और मानवजाति के न्याय कार्य की भी धार्मिक वर्गों और सीसीपी सरकार ने विरोध और निंदा की है, इस युग ने भी उन्हें ठुकरा दिया है। यह प्रभु यीशु के इन वचनों को सच करता है: "क्योंकि जैसे बिजली आकाश के एक छोर से कौंध कर आकाश के दूसरे छोर तक चमकती है, वैसे ही मनुष्य का पुत्र भी अपने दिन में प्रगट होगा। परन्तु पहले अवश्य है कि वह बहुत दु:ख उठाए, और इस युग के लोग उसे तुच्छ ठहराएँ" (लूका 17:24-25)। प्रभु यीशु की यह भविष्यवाणी आखिरकार अब पूरी हो गयी है। परमेश्वर के प्रकटन के प्यासे सभी लोगों को साफ़ तौर पर यह समझ लेना चाहिए कि प्रभु पहले ही आ चुके हैं वे अंत के दिनों का अपना न्याय कार्य कर रहे हैं। प्रभु यीशु की भविष्यवाणी पहले ही पूरी हो चुकी है। क्या लोग अब भी ये सच्चाई साफ़ तौर पर नहीं समझ पायेंगे? नास्तिक शासन और ज़्यादातर धार्मिक अगुआ सभी शैतानी शक्तियां हैं, जो परमेश्वर और सत्य से नफ़रत करती हैं। प्रभु यीशु को सूली पर चढ़ाये जाने के मामले में क्या कुछ हुआ, उसी से इस बात की पुष्टि होती है। अगर वो सच्चा मार्ग है, तो नास्तिक शासनों और धार्मिक वर्गों द्वारा उसे ज़रूर ठुकराया जाएगा और उसकी निंदा होगी, जबकि सच्चे मार्ग का उपदेश देनेवालों और उसपर अमल करने वालों को झूठे मामलों में फंसाया जाएगा। जैसे कि प्रभु यीशु ने कहा: "यदि संसार तुम से बैर रखता है, तो तुम जानते हो कि उसने तुम से पहले मुझ से बैर रखा। यदि तुम संसार के होते, तो संसार अपनों से प्रेम रखता; परन्तु इस कारण कि तुम संसार के नहीं, वरन् मैं ने तुम्हें संसार में से चुन लिया है, इसी लिये संसार तुम से बैर रखता है" (यूहन्ना 15:18-19)। इसी वजह से, पूरे इतिहास में, मानवजाति के अंदर सच्चे मार्ग को स्वीकार करके एक सच्चे परमेश्वर का अनुसरण करनेवाले बस वही थोड़े-से लोग हैं, जो वाकई सत्य से प्रेम करते हैं और उसकी खोज करते हैं, जबकि ज़्यादातर लोग शैतानी शक्तियों के पीछे चलने या फिर अत्याचार के भय की वजह से सच्चे मार्ग पर गौर करने से डरते हैं, और परमेश्वर द्वारा बचाये जाने का मौका गँवा देते हैं! इसलिए, प्रभु यीशु ने एक बार मनुष्य को सचेत किया था: "सकेत फाटक से प्रवेश करो, क्योंकि चौड़ा है वह फाटक और सरल है वह मार्ग जो विनाश को पहुँचाता है; और बहुत से हैं जो उस से प्रवेश करते हैं। क्योंकि सकेत है वह फाटक और कठिन है वह मार्ग जो जीवन को पहुँचाता है; और थोड़े हैं जो उसे पाते हैं" (मत्ती 7:13-14)।

"तोड़ डालो अफ़वाहों की ज़ंजीरें" फ़िल्म की स्क्रिप्ट से लिया गया अंश

पिछला: प्रश्न 14: कई भाई-बहन पादरियों और एल्डर्स की दिल से आराधना करते हैं। वे यह नहीं समझते कि, भले ही पादरी और एल्डर्स अक्सर बाइबल की व्याख्या करते हैं और बाइबल को गौरवपूर्ण स्थान देते हैं, पर वे अभी भी क्यों सत्य से नफरत करते हैं और देहधारी सर्वशक्तिमान परमेश्वर का विरोध और निंदा करते हैं। बाइबल की व्याख्या करना और उसे गौरवपूर्ण स्थान देना, क्या प्रभु की गवाही देने और प्रभु की को गौरवपूर्ण स्थान देने के ही समान है?

अगला: प्रश्न 2: अगर चमकती पूर्वी बिजली सच्चा मार्ग है, तो आप किस आधार पर इसको पक्का कर रहे हैं? हम प्रभु यीशु में इसलिए विश्वास करते हैं क्योंकि वे हमें बचा सकते हैं, लेकिन आप किस चीज़ से ये जांच रहे हैं कि चमकती पूर्वी बिजली सच्चा मार्ग है?

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

2. सच्ची प्रार्थना क्या है और इससे क्या हासिल हो सकता है

परमेश्वर के प्रासंगिक वचन :सच्ची प्रार्थना क्या है? प्रार्थना परमेश्वर को यह बताना है कि तुम्हारे हृदय में क्या है, परमेश्वर की इच्छा को...

2. परमेश्वर द्वारा प्रयुक्त लोगों के कार्य और धार्मिक अगुआओं के कार्य के बीच अंतर

परमेश्वर के प्रासंगिक वचन :ऐसे लोगों के अतिरिक्त जिन्हें पवित्र आत्मा का विशेष निर्देश और अगुवाई प्राप्त है, कोई भी स्वतंत्र रूप से जीवन...

3. सत्य को स्वीकार किए बिना केवल परमेश्वर को स्वीकार करने की समस्या का स्वरूप और परिणाम

परमेश्वर के प्रासंगिक वचन :जो कोई देहधारी परमेश्वर पर विश्वास नहीं करता—अर्थात, जो कोई प्रत्यक्ष परमेश्वर या उसके कार्य और वचनों पर विश्वास...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें