प्रश्न 4: आपकी बातों से मुझे एक बात समझ में आई है कि प्रभु की वापसी और आरोहण की हमारी उम्मीदें वाकई इंसानी मान्यताओं और कल्पनाओं की देन हैं। हम पहले ही प्रभु के वचनों को धोखा दे चुके हैं। ख़ैर, अब हम प्रभु की वापसी और आरोहण का इंतज़ार कैसे करें? इस पर थोड़ा और विस्तार से चर्चा कर लें?

उत्तर: आरोहित किए जाने की संतों की उम्मीदों का मुख्य आधार, स्वयं प्रभु यीशु के वचन हैं: "क्योंकि मैं तुम्हारे लिये जगह तैयार करने जाता हूँ। और यदि मैं जाकर तुम्हारे लिये जगह तैयार करूँ, तो फिर आकर तुम्हें अपने यहाँ ले जाऊँगा कि जहाँ मैं रहूँ वहाँ तुम भी रहो" (यूहन्ना 14:2-3)। हम प्रभु यीशु के वचनों की व्याख्या अपनी कल्पनाओं के आधार पर करते हैं। हमें लगता है, चूँकि स्वर्ग में प्रभु यीशु का आरोहण एक बादल पर हुआ था, तो प्रभु ने मनुष्यों के लिये स्वर्ग में ही स्थान तैयार किया होगा। इसलिये हम लोग प्रभु यीशु की वापसी और स्वर्ग में उन्नत किये जाने का इंतज़ार कर रहे हैं। इसके अलावा, हम लोग खास तौर से पौलुस के वचनों में श्रद्धा रखते हैं: "तब हम जो जीवित और बचे रहेंगे उनके साथ बादलों पर उठा लिये जाएँगे कि हवा में प्रभु से मिलें; और इस रीति से हम सदा प्रभु के साथ रहेंगे" (1 थिस्सलुनीकियों 4:17)। इसीलिये हम लोगों ने उम्मीद करनी शुरु कर दी कि प्रभु लौटने पर हमें स्वर्ग में उन्नत कर देंगे। आरोहण को, लोग अलग-अलग तरीके से समझते हैं। अधिकतर लोग मानते हैं, जब प्रभु आएँगे तो वे संतों को स्वर्ग में उन्नत कर लेंगे। हम लोग बरसों से, इस तरह के आरोहण की उम्मीद लगाए बैठे हैं। अच्छा तो, ये आरोहण दरअसल है क्या? ज़्यादातर लोग इस बारे में कुछ जानते नहीं हैं। संतों के आरोहण का राज़, तभी उजागर हुआ जब सर्वशक्तिमान परमेश्वर का आगमन हुआ। सर्वशक्तिमान परमेश्वर कहते हैं: "'उठाया जाना' निचले स्थान से किसी ऊँचे स्थान पर ले जाया जाना नहीं है जैसा कि लोग सोच सकते हैं; यह एक बहुत बड़ी मिथ्या धारणा है। 'उठाया जाना' मेरे द्वारा पूर्वनियत और फिर चयनित किए जाने को इंगित करता है। यह उन सभी के लिए है जिन्हें मैंने पूर्वनियत और चयनित किया है। ... यह लोगों की धारणाओं के बिलकुल भी संगत नहीं है। वे सभी लोग जिन्हें भविष्य में मेरे घर में हिस्सा मिलेगा, ऐसे लोग हैं जो मेरे सामने उठाए जा चुके हैं। यह एक सम्पूर्ण सत्य है, कभी न बदलने वाला और जिसे झुठलाया नहीं जा सकता। यह शैतान के विरुद्ध एक जवाबी हमला है। जिस किसी को भी मैंने पूर्वनियत किया है, वह मेरे सामने उठाया जाएगा" ("वचन देह में प्रकट होता है" में 'आरंभ में मसीह के कथन' के 'अध्याय 104')। सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचन स्पष्ट हैं। "उठा लिये जाने" का अर्थ वो नहीं है जो हम लोग समझते हैं-धरती से हवा में उठा लिया जाना और बादलों पर प्रभु से मिलना। न की इसका अर्थ स्वर्ग में ले जाया जाना है। इसका अर्थ है कि जब परमेश्वर धरती पर अपने वचन बोलने और अपना कार्य करने वापस आएँगे, तो हम लोग उनकी वाणी सुनेंगे और अंत के दिनों में उनका अनुसरण और उनके कार्य का पालन कर पाएँगे। परमेश्वर के सिंहासन के सामने उठाए जाने का यही सच्चा अर्थ है। जो लोग प्रभु की वाणी में भेद कर पाते हैं, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों में, सत्य ढूंढ पाते हैं, सत्य को स्वीकार कर सर्वशक्तिमान परमेश्वर की ओर लौट पाते हैं, वे बुद्धिमान कुँवारियाँ हैं। वे लोग सोना, चाँदी और बेशकीमती पत्थर हैं, जिन्हें प्रभु ने "चुरा" कर परमेश्वर के भवन में लौटा दिया है क्योंकि उन सब की क्षमता अच्छी है, वे सत्य को समझ और स्वीकार करके परमेश्वर की वाणी को सुन सकते हैं। उन्हीं लोगों ने सही मायने में आरोहण पाया है। जब परमेश्वर अंत के दिनों में चुपचाप धरती पर उतरकर अपना कार्य करेंगे तो इन्हीं लोगों को विजेता बनाया जाएगा। जब से सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने अंतिम दिनों का कार्य शुरू किया है, तब से, परमेश्वर के प्रकटन की प्यास से युक्त लोगों ने, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों में उनकी वाणी को पहचाना है। एक एक करके, उन्होंने परमेश्वर के अंत के दिनों के कार्य को स्वीकार किया है। उन्हें परमेश्वर से मिलने के लिए सिंहासन के सामने उठा लिया गया है और उनके वचनो के जीवन-जल और पोषण को स्वीकार कर लिया है उन्होंने परमेश्वर का सच्चा ज्ञान पा लिया है। उनका स्वभाव शुद्ध कर दिया गया है वे परमेश्वर के वचनों को समझ पाए हैं। उन्हें परमेश्वर का उद्धार प्राप्त हो गया है। इन लोगों को, महाविपदा आने, से पहले विजेता बना दिया गया है। वे परमेश्वर को प्रथम-फल के रूप में, प्राप्त हो गए हैं। जो लोग अपनी कल्पनाओं से चिपके हुए हैं आंखें मूंदे, स्वर्ग में ले जाये जाने के इंतज़ार में हैं, वो परमेश्वर के अंत के दिनों के न्याय को नकारते हैं वे मूर्ख कुँवारियाँ हैं। ऐसे लोगों को परमेश्वर त्याग देंगे। ऐसे लोगों की नियति है कि वे महाविपदा में तड़पें; वे रोएंगे और अपने दाँत पीसेंगे। ये सच है।

"स्वप्न से जागृति" फ़िल्म की स्क्रिप्ट से लिया गया अंश

पिछला: प्रश्न 3: बाइबल कहती है, "तब हम जो जीवित और बचे रहेंगे उनके साथ बादलों पर उठा लिये जाएँगे कि हवा में प्रभु से मिलें; और इस रीति से हम सदा प्रभु के साथ रहेंगे" (1 थिस्सलुनीकियों 4:17)। हम इसकी व्याख्या कैसे करें?

अगला: प्रप्रश्न 4: प्रभु यीशु ने अपने शिष्यों को स्वर्ग का राज्य के रहस्यों के बारे में बताया, और क्या प्रभु यीशु की वापसी के रूप में, सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने भी अनेक रहस्य उजागर किए हैं? क्या आप लोग सर्वशक्तिमान परमेश्वर द्वारा प्रकट किए गए कुछ रहस्यों के बारे में हमारे साथ संगति कर सकते हैं? इससे परमेश्वर की वाणी पहचानने में हमें बहुत सहायता मिलेगी।

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।

संबंधित सामग्री

41. बुरे कर्म क्या हैं? बुरे कर्मों की अभिव्यक्तियाँ क्या हैं?

परमेश्वर के प्रासंगिक वचन:वह मानक क्या है जिसके द्वारा किसी व्यक्ति के कर्मों का मूल्यांकन अच्छे या बुरे के रूप में किया जाता है? यह इस बात...

13. सत्य को समझने और सिद्धांत को समझने में क्या अंतर है?

परमेश्वर के प्रासंगिक वचन:परमेश्वर के वचन में वास्तविक अर्थ की वास्तविक समझ आना कोई सरल बात नहीं है। इस तरह मत सोच: मैं परमेश्वर के वचनों...

45. जो लोग बचाए और पूर्ण किये गए हैं उनके लिए परमेश्वर के क्या वादे हैं?

परमेश्वर के प्रासंगिक वचन:अब मैं निर्बाध अपने लोगों के मध्य चल रहा हूँ, उनके मध्य में रहता हूँ। आज, जो मेरे लिए वास्तविक प्रेम रखते हैं,...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर धर्मोपदेश और संगति अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें