वचन देह में प्रकट होता है

विषय-वस्तु

परमेश्वर की इच्छा की समरसता में सेवा कैसे करें

आज, हम प्राथमिक रूप से संवाद करेंगे कि लोगों को परमेश्वर पर अपने विश्वास में परमेश्वर की सेवा कैसे करनी चाहिए, किन शर्तों को पूरा किया जाना चाहिए और उन लोगों के द्वारा क्या समझा जाना चाहिए जो परमेश्वर की सेवा करते हैं, और तुम लोगों की सेवा में कौन-कौन से विचलन हैं। तुम लोगों को यह सब कुछ समझना चाहिए। ये मुद्दे इस बात की चर्चा करते हैं कि तुम लोग परमेश्वर पर किस प्रकार विश्वास करते हो, तुम लोग पवित्र आत्मा के मार्गदर्शन के मार्ग पर किस प्रकार चलते हो, और तुम लोगों का सब कुछ परमेश्वर के द्वारा किस प्रकार से व्यवस्थित किया जाता है, और ये तुम लोगों में परमेश्वर के कार्य के हर कदम को जानने की तुम लोगों को अनुमति देंगे। जब तुम लोग उस स्थिति पर पहुँचोगे, तब तुम लोग समझोगे कि परमेश्वर में विश्वास क्या होता है, किस प्रकार उचित तरीके से परमेश्वर पर विश्वास करें, और परमेश्वर की इच्छा की समरसता में क्रिया करने हेतु तुम लोगों को क्या करना चाहिए। यह तुम लोगों को परमेश्वर के कार्य के प्रति पूर्णतः और सर्वथा आज्ञाकारी बना देगा, और तुम लोगों के पास कोई शिकायतें नहीं होंगी, तुम लोग आलोचना या विश्लेषण नहीं करोगे, और अनुसंधान तो बिलकुल नहीं करोगे। इसके अलावा, तुम सभी लोग मृत्यु तक परमेश्वर के प्रति आज्ञाकारी होने में सक्षम होगे, और परमेश्वर को अनुमति दोगे कि वह तुम लोगों को एक भेड़ की तरह रास्ते पर ले आए और तुम लोगों का वध करे, ताकि तुम सभी लोग 1990 के पतरस बन सको, और यहाँ तक कि सलीब पर भी, जरा सी भी शिकायत के बिना, परमेश्वर से अत्यधिक प्रेम कर सको। केवल तभी तुम लोग 1990 के पतरस के समान जीवन बिताने में समर्थ हो सकते हो।

प्रत्येक व्यक्ति जिसने संकल्प लिया है वह परमेश्वर की सेवा कर सकता है—परन्तु यह अवश्य है कि जो परमेश्वर की इच्छा की बहुत परवाह करते हैं और जो परमेश्वर की इच्छा को समझते हैं केवल वे ही परमेश्वर की सेवा करने के योग्य एवं पात्र हैं। तुम लोगों के अनुभवों में, यह देखा जा सकता है कि बहुत से लोगों का मानना है कि परमेश्वर की सेवा करने का अर्थ है परमेश्वर के लिए उत्साहपूर्वक सुसमाचार का प्रचार करना, परमेश्वर के लिए सड़क पर जाना, परमेश्वर के लिए व्यय करना एवं बलिदान करना, इत्यादि; यहाँ तक कि अधिक धार्मिक लोग मानते हैं कि परमेश्वर की सेवा करने का अर्थ बाइबल को हाथों में लेकर यहाँ-वहाँ भागना, स्वर्ग के राज्य के सुसमाचार को फैलाना और पश्चाताप तथा पाप स्वीकार करवाने के द्वारा लोगों को बचाना है; बहुत से धार्मिक अधिकारी हैं जो सोचते हैं कि सेमेनरी में अध्ययन करने के बाद प्रार्थनालय में उपदेश देना, बाइबल के अध्यायों को पढ़ कर लोगों को शिक्षा देना परमेश्वर की सेवा करना है; बहुत से साथी भाई और बहन मानते हैं कि परमेश्वर की सेवा करने का अर्थ कभी भी विवाह न करना और परिवार न बढ़ाना, और अपने सम्पूर्ण अस्तित्व को परमेश्वर के प्रति समर्पित कर देना है; दरिद्र प्रदेशों में ऐसे भी लोग हैं जो मानते हैं कि परमेश्वर की सेवा करने का अर्थ चंगाई करना और दुष्टात्माओं को निकालना है, या भाईयों एवं बहनों के लिए प्रार्थना करना, या उनकी सेवा करना है; तुम लोगों के बीच, बहुत से ऐसे लोग हैं जो मानते हैं कि परमेश्वर की सेवा करने का अर्थ परमेश्वर के वचनों को खाना और पीना, और प्रतिदिन परमेश्वर से प्रार्थना करना, और हर जगह कलीसियाओं में जाना है; इस प्रकार ऐसे लोग भी हैं जो कहते हैं कि कलीसिया का जीवन जीना ही परमेश्वर की सेवा करना है। फिर भी कुछ लोग जानते हैं कि परमेश्वर की सेवा करने का वास्तविक अर्थ क्या है। यद्यपि परमेश्वर की सेवा करने वाले इतने लोग हैं जितने आकाश में तारे हैं, किन्तु ऐसे लोगों की संख्या नगण्य है—महत्वहीन रूप से छोटी है, जो प्रत्यक्षतः परमेश्वर की सेवा कर सकते हैं, और जो परमेश्वर की इच्छा की सेवा करने में समर्थ हैं। मैं ऐसा क्यों कहता हूँ? मैं ऐसा इसलिए कहता हूँ क्योंकि तुम लोग "परमेश्वर की सेवा" वाक्यांश के मुख्य सार को नहीं समझते हो, और परमेश्वर की इच्छा की सेवा कैसे की जाए इस बारे में तुम लोग बहुत कम समझते हो। आज, हम मुख्य रूप से संगति कर रहें हैं कि परमेश्वर की इच्छा के अनुरूप किस प्रकार सेवा करें, परमेश्वर की इच्छा को सन्तुष्ट करने के लिए किस प्रकार सेवा करें।

यदि तुम लोग परमेश्वर की इच्छा की सेवा करना चाहते हो, तो तुम लोगों को पहले यह अवश्य समझना चाहिए कि किस प्रकार के लोगों को परमेश्वर प्यार करता है, किस प्रकार के लोगों से परमेश्वर घृणा करता है, किस प्रकार के लोग परमेश्वर के द्वारा पूर्ण बनाए जाते हैं, और किस प्रकार के लोग परमेश्वर की सेवा करने के लिए योग्य होते हैं। यह सब से छोटी चीज़ है जिससे तुम लोगों को सज्जित होना चाहिए। इसके अतिरिक्त, तुम लोगों को परमेश्वर के कार्य के लक्ष्यों को, और उस कार्य को जानना चाहिए जिसे परमेश्वर अभी यहीँ करेगा। इसे समझने के पश्चात्, और परमेश्वर के वचनों के मार्गदर्शन के माध्यम से, तुम लोग सब से पहले प्रवेश करोगे और सबसे पहले परमेश्वर के महान आदेश को प्राप्त करोगे। जब तुम लोग परमेश्वर के वचनों के आधार पर वास्तव में अनुभव कर लोगे, और जब तुम लोग वास्तव में परमेश्वर के कार्य को जान लोगे, तो तुम लोग परमेश्वर की सेवा करने के लिए योग्य हो जाओगे। और जब तुम लोग उसकी सेवा करते हो तो तब होता है कि परमेश्वर तुम लोगों की आध्यात्मिक आँखों को प्रबुद्ध करता है, और तुम लोगों को परमेश्वर के कार्य की अधिक समझ प्राप्त करने एवं उसे अधिक स्पष्टता से देखने की अनुमति देता है। जब तुम इस वास्तविकता में प्रवेश करते हो, तो तुम्हारे अनुभव अधिक गम्भीर एवं वास्तविक हो जाएँगे, और तुम लोगों में से वे सभी जिन्हें इस प्रकार के अनुभव हुए हैं वे कलीसियाओं के बीच आने जाने और तुम लोगों के भाईयों और बहनों को, तुम लोगों की स्वयं की कमियों को पूरा करने के लिए दूसरे की मज़बूतियों पर प्रत्येक पक्ष का चित्रांकन प्रदान करने, और तुम लोगों की आत्माओं में एक अधिक समृद्ध ज्ञान प्राप्त करने में समर्थ हो जाएँगे। केवल इस प्रभाव को प्राप्त करने के बाद ही तुम लोग परमेश्वर की इच्छा की सेवा करने और अपनी सेवा के दौरान परमेश्वर के द्वारा पूर्ण बनाए जाने के योग्य बनोगे।

जो परमेश्वर की सेवा करते हैं वे परमेश्वर के अंतरंग होने चाहिए, वे परमेश्वर के प्यारे होने चाहिए, और उन्हें परमेश्वर के प्रति अत्यंत वफादारी के लिए सक्षम होना चाहिए। इस बात की परवाह किए बिना कि तुम लोगों के पीठ पीछे कार्यकलाप करते हो या उनके सामने, तुम परमेश्वर के सामने परमेश्वर के आनन्द को प्राप्त करने में समर्थ हो, तुम परमेश्वर के सामने अडिग रहने में समर्थ हो, और इस बात की परवाह किए बिना कि अन्य लोग तुम्हारे साथ कैसा व्यवहार करते हैं, तुम हमेशा अपने स्वयं के मार्ग पर चलते हो, और परमेश्वर की ज़िम्मेदारी का पूरा ध्यान रखते हो। केवल यह ही परमेश्वर का एक अंतरंग है। यह कि परमेश्वर के अंतरंग ही सीधे तौर पर उसकी सेवा करने में समर्थ हैं क्योंकि उन्हें परमेश्वर का महान आदेश और परमेश्वर की ज़िम्मेदारी दी गई है, वे परमेश्वर के हृदय को अपने स्वयं के हृदय के रूप में मानने और परमेश्वर की ज़िम्मेदारी को अपनी मानने में समर्थ हैं, और वे इस बात पर कोई विचार नहीं करते हैं कि उन्हें संभावना प्राप्त होगी या खो जाएगी: यहाँ तक कि जब उनके पास संभावित नहीं होती है, और वे कुछ भी प्राप्त नहीं करेंगे, तब भी वे एक प्रेममय हृदय के साथ हमेशा परमेश्वर में विश्वास करेंगे। और इसलिए, इस प्रकार का व्यक्ति परमेश्वर का अंतरंग है। परमेश्वर के अंतरंग उसके विश्वासपात्र भी हैं; केवल परमेश्वर के विश्वासपात्र ही उसकी बेचैनी, और उसकी चाहतों को साझा कर सकते हैं, और यद्यपि उनकी देह दुःखदायी और कमज़ोर हैं, फिर भी वे परमेश्वर को सन्तुष्ट करने के लिए दर्द को सहन कर सकते हैं एवं उसे छोड़ सकते हैं जिससे वे प्रेम करते हैं। परमेश्वर ऐसे लोगों को और भी अधिक ज़िम्मेदारी देता है, और वह जो परमेश्वर करेगा वह इन लोगों के माध्यम से प्रकट होता है। इस प्रकार, ये लोग परमेश्वर के प्यारे हैं, वे परमेश्वर के सेवक हैं जो उसके हृदय के अनुरूप हैं, और केवल ऐसे लोग ही परमेश्वर के साथ-साथ शासन कर सकते हैं। जब तुम वास्तव में परमेश्वर के अंतरंग बन जाते हो तो तभी निश्चित रूप से तुम परमेश्वर के साथ-साथ शासन करोगे।

यीशु परमेश्वर के आदेश—समस्त मानवजाति के छुटकारे के कार्य—को पूरा करने में समर्थ था क्योंकि उसने अपनी व्यक्तिगत योजनाओं एवं विचारों के बिना परमेश्वर की इच्छा की पूरी परवाह की। इसलिए भी, वह परमेश्वर—परमेश्वर स्वयं का अंतरंग था, कुछ ऐसा जिसे तुम सभी लोग अच्छी तरह से समझते हो। (वास्तव में, वह परमेश्वर स्वयं था जिसकी गवाही परमेश्वर के द्वारा दी गई थी; इस विषय की व्याख्या करने हेतु यीशु के तथ्य का उपयोग करने के लिए मैंने इसका यहाँ उल्लेख किया है)। वह परमेश्वर की प्रबन्धन योजना को बिलकुल केन्द्र में स्थापित करने में समर्थ था, और स्वर्गिक पिता से हमेशा प्रार्थना करता था और स्वर्गिक पिता की इच्छा की तलाश करता था। उसने प्रार्थना की और कहाः "परमपिता परमेश्वर! जो तेरी इच्छा हो उसे पूरी कर, और मेरी इच्छाओं के अनुसार कार्य मत कर; तू जैसा चाहे वैसे अपनी योजना के अनुसार काम कर। मनुष्य कमज़ोर हो सकता है, किन्तु तुझे उसकी चिंता क्यों करनी चाहिए? मनुष्य तेरी चिंता का विषय कैसे हो सकता है, मनुष्य जो कि तेरे हाथों में एक चींटी के समान है? मैं अपने हृदय में केवल तेरी इच्छा को पूरा करना चाहता हूँ, और चाहता हूँ कि तू वह कर सके जो तू अपनी इच्छाओं के अनुसार मुझ में करना चाहता है।" यरूशलेम की सड़क पर, यीशु ने संताप में महसूस किया, मानो कि कोई एक नश्तर उसके हृदय में भोंक दिया गया हो, फिर भी उसमें अपने वचन से पीछे हटने की थोड़ी सी भी इच्छा नहीं थी; हमेशा से एक सामर्थ्यवान ताक़त थी जो उसे लगातार उस ओर आगे बढ़ने के लिए बाध्य कर रही थी जहाँ उसे सलीब पर चढ़ाया जाएगा। अंततः, उसे सलीब पर चढ़ा दिया गया और वह मानवजाति के छुटकारे के कार्य को पूरा करते हुए, तथा मृत्यु एवं अधोलोक के बन्धनों से ऊपर उठते हुए, पापमय देह के सदृश बन गया। उसके सामने नैतिकता, नरक एवं अधोलोक ने अपनी सामर्थ्य खो दी, और उसके द्वारा परास्त हो गए थे। वह तैंतीस वर्षों तक जीवित रहा, पूरे समयकाल में उसने उस वक्त परमेश्वर के कार्य के अनुसार परमेश्वर की इच्छा पूरी करने के लिए, अपने व्यक्तिगत लाभ या नुकसान के बारे में कभी विचार नहीं करते हुए, और हमेशा परमपिता परमेश्वर की इच्छा के बारे में सोचते हुए, हमेशा अपना अधिकतम प्रयास किया। इस प्रकार, उसका बपतिस्मा हो जाने के बाद, परमेश्वर ने कहाः "यह मेरा प्रिय पुत्र है जिससे मैं अत्यन्त प्रसन्न हूँ।" परमेश्वर के सामने उसकी सेवा के कारण जो परमेश्वर की इच्छा की समरसता में थी, परमेश्वर ने उसके कंधों पर समस्त मानवजाति के छुटकारे की भारी ज़िम्मेदारी डाल दी और उसे पूरा करने के लिए उसे आगे बढ़ा दिया, और वह इस महत्वपूर्ण कार्य को पूरा करने के लिए योग्य एवं पात्र था। अपने पूरे जीवनकाल में, उसने परमेश्वर के लिए अपरिमित कष्ट सहा, और उसे शैतान के द्वारा अनगिनित बार प्रलोभित किया गया, किन्तु वह कभी भी निरुत्साहित नहीं हुआ। परमेश्वर ने उसे ऐसा कार्य इसलिए दिया था क्योंकि वह उस पर भरोसा करता था और उससे प्रेम करता था, और इसलिए परमेश्वर ने व्यक्तिगत रूप से कहाः "यह मेरा प्रिय पुत्र है जिससे मैं अत्यन्त प्रसन्न हूँ।" उस समय, केवल यीशु ही इस आदेश को पूरा कर सकता था, और यह अनुग्रह के युग में परमेश्वर के द्वारा पूर्ण किए गए समस्त मानवजाति के छुटकारे के उसके कार्य का एक भाग था।

यदि, यीशु के समान, तुम लोग परमेश्वर की ज़िम्मेदारी पर पूरा ध्यान देने में समर्थ हो, और अपनी देह से मुँह मोड़ लो, तो परमेश्वर अपना महत्वपूर्ण कार्य तुम लोगों को सौंप देगा, ताकि तुम लोग परमेश्वर की सेवा करने की शर्तों को पूरा करोगे। केवल ऐसी परिस्थितियों में ही तुम लोगों में यह कहने की हिम्मत होगी कि तुम लोग परमेश्वर की इच्छा को पूरा कर रहे हो एवं उसके आदेश को पूरा कर रहे हो, केवल तभी तुम लोग यह कहने हिम्मत करोगे कि तुम लोग सचमुच में परमेश्वर की सेवा कर रहे हो। यीशु के उदाहरण की तुलना में, क्या तुममें यह कहने की हिम्मत है कि तुम परमेश्वर के अंतरंग हो? क्या तुममें यह कहने की हिम्मत है कि तुम परमेश्वर की इच्छा को पूरा कर रहे हो? क्या तुममें यह कहने की हिम्मत है कि तुम सचमुच परमेश्वर की सेवा कर रहे हो? आज, यदि तुम परमेश्वर के प्रति ऐसी सेवा को समझते हो, तो क्या तुममें यह कहने की हिम्मत है कि तुम परमेश्वर के अंतरंग हो? यदि तुम कहते हो कि तुम परमेश्वर की सेवा करते हो, तो क्या तुम उसके विरूद्ध ईशनिन्दा नहीं करते हो? इसके बारे में विचार करो: क्या तुम परमेश्वर की सेवा कर रहे हो या स्वयं की सेवा कर रहे हो? तुम शैतान की सेवा करते हो, फिर भी तुम ढिठाई से कहते हो कि तुम परमेश्वर की सेवा कर रहे हो—इसमें क्या तुम परमेश्वर की ईशनिन्दा नहीं कर रहे हो? मेरी पीठ पीछे बहुत से लोग हैसियत के आशीष का लोभ करते हैं, वे ठूँस-ठूँस कर खाना खाते हैं, वे नींद से प्यार करते हैं तथा देह पर बहुत ध्यान देते हैं, हमेशा भयभीत रहते हैं कि देह से बाहर कोई मार्ग नहीं है। वे कलीसिया में अपना सामान्य प्रकार्य नहीं करते हैं, और मुफ़्त में खाते हैं, या अन्यथा मेरे वचनों से अपने भाईयों एवं बहनों की भर्त्सना करते हैं, वे ऊँचे स्थान में खड़े होते हैं तथा दूसरों के ऊपर आधिपत्य जताते हैं। ये लोग निरन्तर कहते रहते हैं कि वे परमेश्वर की इच्छा को पूरा कर रहे हैं, वे हमेशा कहते हैं कि वे परमेश्वर के अंतरंग हैं—क्या यह बेतुका नहीं है? यदि तुम्हारे पास सही प्रेरणाएँ हैं, किन्तु तुम परमेश्वर की इच्छा की सेवा करने में असमर्थ हो, तो तुम मूर्ख हो; किन्तु यदि तुम्हारी प्रेरणाएँ सही नहीं हैं, और तुम तब भी कहते हो कि तुम परमेश्वर की सेवा करते हो, तो तुम एक ऐसे व्यक्ति हो जो परमेश्वर का विरोध करता है, और तुम्हें परमेश्वर के द्वारा दण्डित किया जाना चाहिए! ऐसे लोगों के लिए मेरे पास कोई सहानुभूति नहीं है! परमेश्वर के घर में वे मुफ़्त में भोजन करते हैं, और हमेशा देह के आराम का लोभ करते हैं, और परमेश्वर की रूचियों पर कोई विचार नहीं करते हैं; वे हमेशा उसकी खोज करते हैं जो उनके लिए अच्छा है, वे परमेश्वर की इच्छा पर कोई ध्यान नहीं देते हैं, वे जो कुछ भी करते हैं उस पर परमेश्वर के आत्मा के द्वारा कोई विचार नहीं किया जाता है, वे हमेशा अपने भाईयों एवं बहनों के विरूद्ध चालाकी और साजिश करते रहते हैं, और दो-मुँहे हो कर, वे दाख की बाड़ी में लोमड़ी के समान, हमेशा अंगूरों को चुराते हैं और दाख की बाड़ी को कुचलते हैं। क्या ऐसे लोग परमेश्वर के अंतरंग हो सकते हैं? क्या तुम परमेश्वर को आशीषों को प्राप्त करने के लायक़ हो? तुम अपने जीवन एवं कलीसिया के लिए कोई उत्तरदायित्व नहीं लेते हो, क्या तुम परमेश्वर के आदेश को लेने के लायक़ हो? कौन तुम जैसे व्यक्ति पर भरोसा करने की हिम्मत करेगा? जब तुम इस प्रकार से सेवा करते हो, तो क्या परमेश्वर तुम्हें बड़ा काम देने की हिम्मत कर सकता है? क्या तुम चीजों में विलंब नहीं कर रहे हो?

मैं ऐसा कहता हूँ ताकि तुम लोग जान लो कि परमेश्वर की इच्छा की समरसता में सेवा करने के लिए कौन सी शर्तों को पूरा अवश्य करना चाहिए। यदि तुम लोग अपना हृदय परमेश्वर को नहीं देते हो, यदि तुम लोग यीशु की तरह परमेश्वर की इच्छा की पूरी परवाह नहीं करते हो, तो तुम लोगों पर परमेश्वर के द्वारा भरोसा नहीं किया जा सकता है, और तुम परमेश्वर के द्वारा न्याय किए जा कर समाप्त हो जाओगे। शायद आज, परमेश्वर के प्रति तुम्हारी सेवा में, तुम हमेशा से परमेश्वर को धोखा देने के इरादे को आश्रय देते हो—किन्तु परमेश्वर तब भी तुम्हें ध्यान में रखेगा। संक्षेप में, इन सभी बातों की परवाह किए बिना, यदि तुम परमेश्वर को धोखा देते हो तो तुम्हारे ऊपर क्रूर न्याय पड़ेगा। तुम लोगों को परमेश्वर की सेवा के सही मार्ग पर अभी-अभी प्रवेश करने का लाभ सबसे पहले परमेश्वर को अपने हृदय, विभाजित वफादारी के बिना, देने के लिए उठाना चाहिए। इस बात की परवाह किए बिना कि तुम परमेश्वर के सामने हो, या लोगों के सामने हो, तुम्हारे हृदय को हमेशा परमेश्वर के सम्मुख होना चाहिए, और तुम्हारा यीशु के समान परमेश्वर से प्रेम करने का संकल्प होना चाहिए। इस तरीके से, परमेश्वर तुम्हें पूर्ण बनाएगा, ताकि तुम परमेश्वर के ऐसे सेवक बन जाओ जो उसके हृदय के अनुकूल हो। यदि तुम परमेश्वर के द्वारा वास्तव में पूर्ण बनाए जाना, और अपनी सेवा को उसकी इच्छा की समरसता में होना चाहते हो, तो परमेश्वर के प्रति विश्वास के बारे में तुम्हें अपने पूर्व दृष्टिकोण को बदलना चाहिए, और जिस तरीके से तुम परमेश्वर की सेवा किया करते थे उसे बदलना चाहिए, ताकि परमेश्वर द्वारा तुम्हें अधिक से अधिक पूर्ण बनाया जाए; इस तरीके से, परमेश्वर तुम्हें नहीं त्यागेगा, और, पतरस के समान, तुम उन लोगों की पंक्ति में सबसे आगे होगे जो परमेश्वर से प्रेम करते हैं। यदि तुम पश्चाताप नहीं करते हो, तो तुम्हारा अंत यहूदा के समान होगा। इसे उन सभी लोगों को समझ लेना चाहिए जो परमेश्वर में विश्वास करते हैं।