अध्याय 4

हमें हमेशा चौकस रह बाट जोहनी चाहिए, आत्मा में शांत रहकर शुद्ध हृदय से ग्रहण करना चाहिए। हम पर चाहे जो भी बीते, हमें अंधेपन से सहभागिता नहीं करनी चाहिए, हमें परमेश्वर के सम्मुख शांत रहने और निरंतर उसकी संगति में रहने की आवश्यकता है और तब उसके उद्देश्य हम पर प्रकट होंगे। हमारी आत्मा हमेशा परख करने को तत्पर, उत्सुक और अडिग होनी चाहिए। हमें हमेशा जीवन का जल परमेश्वर के सम्मुख ग्रहण करना चाहिए, वह जल जो हमारी सूखी आत्माओं को पोषण देता और फिर से भर देता है। हमें हमेशा अपनी स्वधार्मिकता, अहंकार, आत्मसंतोष, आत्मतुष्टि से जो हमारे शैतानी स्वभाव से उत्पन्न होते हैं, शुद्ध होने को तैयार रहना चाहिए। हमें परमेश्वर के वचनों को स्वीकार करने हेतु अपने हृदय को खोलना चाहिए, अपने जीवन में हमें उसके वचनों पर भरोसा रखना चाहिए। हमें उसके वचनों का अनुभव करना और उनके प्रति आश्वस्त होना चाहिए और उसके वचन की समझ हासिल करनी चाहिए, उसके वचन को अपना जीवन बनने देना चाहिए। यही आह्वान है हमारा! तब ही हम जयवंत होते हैं।

अब हमारी अवधारणायें गंभीर हैं, हम पटुता से बोलते और उतावली से कार्य करते और आत्मा के पीछे चलने में असमर्थ है। आज का दिन बीते समय की तरह नहीं होगा; पवित्र आत्मा का कार्य तेजी से आगे बढ़ता है। हमें विस्तारपूर्वक परमेश्वर के वचनों का अनुभव करना ही चाहिए; हमें हर कल्पना और विचार, हर गतिविधि और प्रतिक्रिया को अपने हृदय में परखना चाहिए। किसी भी जन से हम उसके सामने या पीछे जो कुछ करते है वह सब यीशु के सिंहासन के सामने न्याय से बच नहीं सकता। पवित्र आत्मा हमें गहरे अनुभव के दायरे में मार्गदर्शन दे रहा है, और इस अनुभव के द्वारा हम सर्वसामर्थी के विषय में निश्चित होने के और समीप आ जाते हैं।

ब्रह्माण्ड के परमेश्वर ने हमारी आत्मिक आँखों को खोला है और आत्मिक रहस्य हम पर लगातार प्रकट हो रहे हैं। शुद्ध हृदय से ग्रहण करें! कीमत चुकाने को तैयार रहें, अपने सम्पूर्ण हृदय से आगे बढ़ें, खुद का इनकार करने को तैयार रहें, आगे से लालची ना रहें, पवित्र आत्मा का अनुसरण करें और परमेश्वर के वचनों का आनंद लें और तब एक सम्पूर्ण सार्वभौमिक नव मनुष्य प्रकट होगा। वह पल आ ही गया है, जब शैतान का अंत होगा, परमेश्वर की सभी इच्छा पूर्ण होगी, संसार के सारे देश मसीह के राज्य बन जायेंगे और मसीह राजा बन अनंत तक पृथ्वी पर राज्य करेगा!

पिछला: अध्याय 3

अगला: अध्याय 5

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

मार्ग... (3)

अपने जीवन में, मैं अपने तन और मन को परमेश्वर को समर्पित करके हमेशा खुश हूँ। केवल तभी, मेरा अंतःकरण तिरस्कार से रहित और थोड़ा शांति में है।...

परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III

हमारी पिछली कुछ संगतियों का तुममें से हर एक पर बड़ा प्रभाव पड़ा है। फ़िलहाल, अंतत: लोग वास्तव में परमेश्वर के सच्चे अस्तित्व को महसूस कर सकते...

विजय-कार्य के दूसरे चरण के प्रभावों को कैसे प्राप्त किया जाता है

सेवाकर्ताओं का कार्य विजय-कार्य में पहला चरण था। आज विजय-कार्य में दूसरा चरण है। विजय-कार्य में पूर्ण बनाए जाने का भी उल्लेख क्यों है? यह...

अध्याय 29

जिस दिन सभी चीज़ें पुनर्जीवित हुईं, मैं मनुष्यों के बीच आया, और मैंने उनके साथ अद्भुत दिन और रातें बिताई हैं। केवल इस बिंदु पर ही मनुष्य को...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें