अध्याय 52

मैं धार्मिकता के सूर्य के रूप में उभरता हूँ, तथा तुम सब और मैं मिलकर, सदा-सदा के लिए, महिमा और शुभ आशीषों को साझा करते हैं! यह पूर्णतः एक अकाट्य तथ्य है और इसकी पुष्टि तुम सभी में दिखाई देनी शुरू हो चुकी है। इसका कारण यह है कि मैंने जो भी वादे किए हैं, उन्हें मैं तुम सभी के लिए पूरा करूँगा; मैं जो भी कहता हूँ वह सच्चाई है, और वह कभी भी खारिज नहीं होगा। ये शुभ आशीषें तुम सभी के लिए हैं, कोई अन्य उनका दावा नहीं कर सकता है; वे मेरे साथ समन्वय में और एकजुट होकर की गई तुम सबकी सेवा के फल हैं। अपनी धार्मिक धारणाओं को दूर झटक दो; मेरे वचनों को सच मानो और शंकालु न बनो! मैं तुम लोगों के साथ मज़ाक नहीं करता हूँ, मैं जो कहता हूँ वही मेरा आशय है। जिन्हें मैं अपनी आशीषें देता हूँ वे उन्हें इसी तरह प्राप्त करते हैं; जिन्हें मैं आशीषें नहीं देता हूँ, वे उन्हें प्राप्त नहीं करते हैं। यह सब मेरे द्वारा निर्धारित किया जाता है। सांसारिक भाग्य क्या होता है? मेरे विचार में यह गोबर के अलावा कुछ भी नहीं है, जिसका मूल्य फूटी कौड़ी भी नहीं है। इसलिए सांसारिक सुखों को बहुत मूल्यवान न समझो; क्या मेरे साथ स्वर्गिक आशीष का आनंद लेना अधिक अर्थपूर्ण, अधिक उपयोगी नहीं है?

पहले सत्य प्रकाशित नहीं हुआ था, और मैं खुले तौर पर प्रकट नहीं हुआ था; तुम सभी ने मुझ पर संदेह किया और मेरे बारे में अनिश्चित रहने की हिम्मत की। बहरहाल, अब सारी चीजें प्रकट हो चुकी हैं, और मैं धार्मिकता के सूर्य के रूप में उभर आया हूँ—तो यदि तुम सब अभी भी संदेह में हो तो तुम इस बारे में क्या कहोगे? जब अंधेरे ने धरती को ढक लिया था, तो तुम सभी का प्रकाश को नहीं देख पाना क्षमा के योग्य था, लेकिन अब सूर्य ने सभी अंधेरे कोनों को प्रकाशित कर दिया है; जो छिपा था वह अब छिपा नहीं है, जो गुप्त था वह अब और गुप्त नहीं है; यदि तुम लोग अभी भी संदेह में हो, तो मैं तुम लोगों को आसानी से क्षमा नहीं करूँगा! अब मेरे बारे में पूरी तरह निश्चित होने का समय है, अपने-आपको मुझे समर्पित करने और मेरे लिए खपने को तैयार होने का समय है। जो भी मेरा जरा-सा भी विरोध करता है, उसे दुबारा सोचे बिना या पल भर की देर किए बिना, तुरंत न्याय की अग्नि में झोंक दिया जाएगा। क्योंकि अब वह समय है जब निर्मम न्याय आ पहुँचा है; जिनके दिलोदिमाग सही नहीं हैं, उनके लिए तत्काल न्याय होगा; "मेरा कार्य चमकती बिजली की तरह है" कथन का यही सच्चा अर्थ है।

यह तेजी से प्रगति कर रहा है; यह लोगों को अचंभित किए बिना नहीं रह सकता है, यह लोगों को भयभीत किए बिना नहीं रह सकता है, इसमें अब और देर नहीं की जा सकती और इसे रोका नहीं जा सकता है। मेरा कार्य जितना अधिक किया जाता है, वह उतनी ही तेजी से आगे बढ़ता है; जो भी सतर्क और तैयार नहीं है, उसके अलग कर दिए जाने का खतरा हमेशा बना रहता है। अब तुम प्रलोभन की भावना के और शिकार नहीं हो सकते। मेरा कार्य पूरी तरह से शुरू हो चुका है, जो अन्य जाति के राष्ट्रों और ब्रह्मांडीय दुनिया की तरफ विस्तार कर रहा है। न्याय की आग निर्मम है और इसमें किसी के भी प्रति दया या प्यार नहीं है। जो लोग ईश्वर के प्रति वफादार हैं, पर फिर भी गलत विचार और धारणाएँ रखते हैं, या थोड़ा भी प्रतिरोध करते हैं, उनका भी न्याय किया जाएगा; इसमें कोई भी संदेह नहीं है। जिस पर भी मेरी रोशनी डाली जाती है, वह उस प्रकाश के भीतर रहेगा, और प्रकाश में कार्य करेगा, और मार्ग के अंत तक मेरी सेवा करेगा। जो लोग प्रकाश के भीतर नहीं रहते, वे अंधेरे में रहते हैं। अपने अपराध के प्रति उनके रवैये के आधार पर उनका आकलन करने के बाद मैं अपना निर्णय लूँगा।

मेरा दिन आ गया है, मेरा वह दिन जिसका मैंने अतीत में उल्लेख किया था, अब तुम सबकी आँखों के सामने है, क्योंकि तुम सब मेरे साथ ही उतरे हो। मैं तुम्हारे साथ, तुम मेरे साथ, हम हवा में मिले हैं, और हमने मिलकर महिमा को साझा किया है। मेरा दिन वास्तव में पूरी तरह से आ चुका है!

पिछला: अध्याय 51

अगला: अध्याय 53

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है IX

परमेश्वर सभी चीज़ों के लिए जीवन का स्रोत है (III)इस अवधि के दौरान, हमने परमेश्वर को जानने से संबंधित बहुत सारी चीज़ों के बारे में बात की है,...

जो सच्चे हृदय से परमेश्वर की आज्ञा का पालन करते हैं वे निश्चित रूप से परमेश्वर द्वारा हासिल किए जाएँगे

पवित्र आत्मा का कार्य दिन-ब-दिन बदलता रहता है। वह हर एक कदम के साथ ऊँचा उठता जाता है, आने वाले कल का प्रकाशन आज से कहीं ज़्यादा ऊँचा होता...

इंसान को अपनी आस्था में, वास्तविकता पर ध्यान देना चाहिए, धार्मिक रीति-रिवाजों में लिप्त रहना आस्था नहीं है

तुम कितनी धार्मिक परम्पराओं का पालन करते हो? कितनी बार तुमने परमेश्वर के वचन के खिलाफ विद्रोह किया है और अपने तरीके से चले हो? कितनी बार...

वह व्यक्ति उद्धार प्राप्त करता है जो सत्य का अभ्यास करने को तैयार है

उपदेशों में एक उचित कलीसिया-जीवन होने की आवश्यकता का प्रायः उल्लेख किया जाता है। तो ऐसा क्यों है कि कलीसिया के जीवन में अभी तक सुधार नहीं...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें