अध्याय 89

हर काम मेरे इरादों के अनुरूप करना आसान नहीं है; यह खुद को ढोंग करने के लिए मजबूर करने की बात नहीं है, बल्कि यह इस बात पर निर्भर करता है कि क्या मैंने दुनिया के निर्माण से पहले तुम्हें अपनी खूबियाँ प्रदान की थीं। ये सभी चीज़ें मुझ पर निर्भर करती हैं। ये ऐसी चीज़ें नहीं हैं जिन्हें मनुष्य पूरा कर सकते हों। मैं जिससे प्रेम करना चाहता हूँ, उससे प्रेम करता हूँ, और मैं जिसे भी मैं कहता हूँ कि वह ज्येष्ठ पुत्र है, वह निश्चित रूप से ज्येष्ठ पुत्र है, यह बिल्कुल सही है! तुम यह होने का दिखावा करना चाह सकते हो, लेकिन ऐसा करना व्यर्थ होगा! क्या तुम सोचते हो कि मैं तुम्हें पहचान नहीं सकता कि तुम क्या हो? क्या तुम्हारे लिए मेरे सामने होने पर तुम थोड़ा अच्छा व्यवहार भर कर लेना काफ़ी है? क्या यह इतना आसान है? बिलकुल नहीं; तुम्हारे पास मेरा वादा होना चाहिए, और तुम्हारे पास मेरा प्रारब्ध होना चाहिए। क्या तुम सोचते हो कि मुझे पता नहीं कि तुम मेरी पीठ पीछे क्या करते हो? तुम पथभ्रष्ट हो! जैसे ही मेरे प्रति तुम्हारी सेवा पूरी हो जाए, आग और गंधक की झील में फ़ौरन लौट जाना! मैं घृणा से भर गया हूँ; मुझे तुम्हारी सूरत से भी नफ़रत है। मेरी सेवा करने वाले वे सभी लोग, जो खुद को वफ़ादारी से मेरे लिए नहीं खपाते हैं, वे सभी जो ज़िद्दी और अनियंत्रित हैं और जो मेरे इरादों को समझ नहीं सकते हैं—जब तुम्हारी सेवा पूरी हो जाये, मेरी दृष्टि से फ़ौरन दूर हो जाना! अन्यथा, मैं तुम्हें धक्के देकर बाहर निकाल दूँगा! ये लोग और एक पल के लिए भी मेरे घर (अर्थात् कलीसिया) में नहीं रह सकते हैं। उन सभी को यहाँ से बाहर निकल जाना चाहिए ताकि वे मेरे नाम को न लजाएँ मेरी प्रतिष्ठा को बर्बाद न करें। ये सभी लोग बड़े लाल अजगर के वंशज हैं, वे मेरे प्रबंधन को बाधित करने के लिए बड़े लाल अजगर के द्वारा भेजे गए थे। वे मेरे काम में रुकावट डालने के लिए धोखेबाज़ी में विशेषज्ञ हैं। मेरे पुत्र! तुम्हें इसके धोखे में न आकर सच्चाई को देखना होगा! ऐसे लोगों के साथ सम्बन्ध मत रखो। जब भी तुम इस प्रकार के लोगों को देखो, तो फ़ौरन उनसे दूर हो जाओ ताकि उनके जाल में फँसने से बच सको; वह तुम्हारे जीवन के लिए नुकसानदायक है! मैं उन लोगों से सबसे अधिक घृणा करता हूँ जो लापरवाही से बात करते हैं, बिना सोचे-समझे कार्य करते हैं, जो सिर्फ हँसी-मज़ाक करते हैं और जो बेकार की गपशप में लगे रहते हैं। मैं इन लोगों में से किसी को भी नहीं चाहता, वे सब शैतान की क़िस्म के हैं! वे अकारण ही चिढ़ाते हैं। ये कैसे प्राणी हैं? वे बकवास करते हैं और निरंकुश होते हैं। क्या उन्हें फिर भी शर्म नहीं आती? दरअसल, इस प्रकार के व्यक्ति का सबसे कम मान होता है और मैंने उन्हें बहुत पहले ही समझ लिया है और त्याग दिया है। अगर मैंने ऐसा नहीं किया होता तो वे मेरे अनुशासन के अधीन न रहते हुए बार-बार बकवास क्यों करते? वे वास्तव में बड़े लाल अजगर के वंशज हैं! अब, मैंने इन चीज़ों को एक-एक करके हटाना शुरू कर दिया है। क्या मैं शैतान के वंशजों का मेरे ज्येष्ठ पुत्रों, अपने पुत्रों और अपने लोगों के रूप में उपयोग कर सकता हूँ? अगर मैं ऐसा करूँ तो क्या मैं भ्रमित नहीं हूँ? मैं निश्चित रूप से ऐसा नहीं करूँगा। क्या तुम लोग इसे स्पष्ट रूप से समझते हो?

आज तुम लोग जिसका भी सामना करते हो, चाहे वह अच्छा हो या बुरा, सब कुछ मेरे कुशल हाथों द्वारा व्यवस्थित किया गया था; सब मेरे द्वारा आयोजित और नियंत्रित है। यह निश्चित रूप से ऐसा कुछ नहीं है जो मानवजाति आसानी से कर सकती हो। कुछ लोग अभी भी मेरे बारे में चिंता करते हुए घबराने लगते हैं; लेकिन उन्हें सच में चिंता करने की ज़रूरत नहीं है! वे अपने मुख्य कार्य की अवहेलना करते हैं, और आत्मा में प्रवेश करने की कोशिश नहीं करते फिर भी जीवन में विकास चाहते हैं; वे व्यर्थ की आशा करते हैं! उन्हें कोई फ़िक्र नहीं है, लेकिन वे फिर भी मेरी इच्छा को संतुष्ट करना चाहते हैं! तुम मेरे लिए चिंता करते हो, लेकिन मुझे चिंता नहीं है। तुम किस लिए चिंतित हो? मेरे लिए किये गए तुम्हारे काम लापरवाही भरे हैं, और तुम साफ़-साफ़ झूठ बोलते हो। मैं तुम्हें बता दूँ! तुम जैसे लोगों को इसी पल मैं अपने घर से बाहर निकाल दूँगा। ऐसे लोग मेरे घर में मेरी सेवा करने के योग्य नहीं हैं। मैं उनसे घृणा करता हूँ क्योंकि वे अपने कर्म के द्वारा मेरी निंदा करते हैं। जब यह कहा गया था कि "मेरी निन्दा एक अक्षम्य पाप है," तो यह किसके सन्दर्भ में था? क्या तुम लोग इस बारे में स्पष्ट हो? ऐसा व्यक्ति मानता है कि समस्या अभी इतनी गंभीर नहीं हुई है, भले ही वह पहले ही यह पाप कर चुका है। सचमुच यह उलझा हुआ व्यक्ति अंधा और अज्ञानी है, और उसकी आत्मा अवरुद्ध है! मैं तुम्हें धक्के मारकर बाहर निकाल दूँगा! (क्योंकि मेरे लिए यह शैतान का प्रलोभन है, मुझे इससे बहुत नफ़रत है और इस विषय का बार-बार उल्लेख किया जा चुका है, हर बार यह मुझे क्रोधित करता है। मैं अपने क्रोध को रोक नहीं सकता कोई भी इसे रोक नहीं सकता। इसका समय अभी नहीं आया है, अन्यथा मैं उस व्यक्ति के साथ बहुत पहले ही निपट चुका होता!) (यह इस तथ्य के संबंध में है कि वर्तमान में ऐसे कई लोग हैं जो अभी भी विश्वास नहीं करते कि विदेशी चीन में भीड़ लगाने का प्रयास करेंगे, वे अब भी विश्वास नहीं करते हैं, जिससे मेरा क्रोध आन्दोलित होता और उबलता है।)

मेरे घर में किस तरह का व्यक्ति पूरी तरह से मेरे दिल के अनुरूप है? अर्थात, सृष्टि से पहले, मैंने अपने घर में हमेशा रहने के लिए, किस तरह के लोगों को पूर्वनिर्धारित किया था? क्या तुम लोग जानते हो? क्या तुम लोगों ने सोचा है कि मुझे किस तरह के लोगों से प्रेम है और मैं किस तरह के लोगों से नफ़रत करता हूँ? मेरा घर उन लोगों के लिए है जिनकी सोच मेरे जैसी है और जो मेरे साथ अच्छे समय और कष्टों को साझा करते हैं, दूसरे शब्दों में, वे लोग आशीषों और कष्टों, दोनों में साझेदारी करते हैं। जिससे भी मैं प्रेम करता हूँ, ये लोग उससे प्रेम कर सकते हैं, और जिससे मैं नफ़रत करता हूँ, उससे नफ़रत भी कर सकते हैं। वे उसे त्याग सकते हैं जिससे मुझे घृणा होती है। अगर मैं कहूँ कि वे न खाएँ, तो वे मेरे इरादे पूरे करने के लिए खाली पेट रहने को तैयार हो जाते हैं। इस तरह का व्यक्ति मेरे प्रति वफ़ादार रहने और मेरे लिए खुद को खपाने का इच्छुक होता है, और हमेशा मेरे लिए कड़ी मेहनत करते हुए मेरे श्रमसाध्य प्रयासों के प्रति विचारशील हो सकता है, इसलिए, इस तरह के लोगों को मैं अपना सब-कुछ देते हुए ज्येष्ठ पुत्र का दर्जा देता हूँ, मेरे पास सभी कलीसियाओं का नेतृत्व करने की क्षमता है, यह मैं उन्हें देता हूँ; मेरे पास बुद्धि है, यह भी मैं उन्हें देता हूँ; सत्य का पालन करने के लिए मैं पीड़ा सह सकता हूँ, और मैं इन लोगों को दृढ़ निश्चय भी दूँगा, जिससे वे मेरी खातिर सब कुछ सहन कर सकें; मेरे पास खूबियाँ हैं और मैं यह भी उन्हें प्रदान करूँगा, मैं उन्हें बिल्कुल अपने जैसा बना दूँगा, थोड़ा भी अंतर न होगा, ताकि अन्य लोग जब इन लोगों को देखेंगे तो वे मुझे देखेँगे। अब, मैं इन लोगों के भीतर अपनी पूर्ण दिव्यता डाल रहा हूँ ताकि वे मेरी पूर्ण दिव्यता के एक पहलू को जीने में सक्षम हो सकें, मुझे पूरी तरह से प्रकट कर सकें; यह मेरा इरादा है। बाहरी चीज़ों में मेरे जैसा बनने की कोशिश मत करो (मेरे जैसा भोजन करना, मेरे जैसे कपड़े पहनना), यह सब बेकार है, और अगर तुम इन चीज़ों को खोजते हो, तो खुद को बर्बाद ही करोगे। ऐसा इसलिए क्योंकि जो लोग मेरे बाहरी रूप का अनुकरण करना चाहते हैं, वे शैतान के अनुचर हैं, और इस तरह का प्रयास शैतान की चाल है, यह शैतान की महत्वाकांक्षा को प्रतिबिम्बित करता है। तुम मेरे जैसा बनना चाहते हो, लेकिन क्या तुम इसके योग्य हो? मैं तुम्हें कुचल कर मार दूँगा! मेरा काम हमेशा जारी है, दुनिया के हर देश में फैल रहा है। जल्दी से मेरे पद-चिन्हों का अनुसरण करो!

पिछला: अध्याय 88

अगला: अध्याय 90

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

अध्याय 12

जब पूर्व से बिजली चमकती है, जो कि निश्चित रूप से वो क्षण भी होता है जब मैं बोलना आरम्भ करता हूँ—जब बिजली चमकती है, तो संपूर्ण ब्रह्मांड...

स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है VI

परमेश्वर की पवित्रता (III)हमने पिछली बार जिस विषय पर संगति की थी, वो था परमेश्वर की पवित्रता। स्वयं परमेश्वर के किस पहलू से परमेश्वर की...

पीड़ादायक परीक्षणों के अनुभव से ही तुम परमेश्वर की मनोहरता को जान सकते हो

आज तुम परमेश्वर से कितना प्रेम करते हो? और जो कुछ भी परमेश्वर ने तुम्हारे भीतर किया है, उस सबके बारे में तुम कितना जानते हो? ये वे बातें...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें