सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

राज्य के सुसमाचार पर उत्कृष्ट प्रश्न और उत्तर

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

`

प्रश्न 9: पर सरकारी दस्तावेज़ों के अनुसार, जो लोग यीशु में विश्वास करते हैं, जो सर्वशक्तिमान परमेश्वर में विश्वास करते हैं, उन्होंने सुसमाचार का प्रचार करने के लिए अपने परिवार का त्याग कर दिया। कुछ लोग तो ज़िंदगी भर शादी नहीं करते। दस्तावेज़ भी यही कहते है कि सरकार उन लोगों के समूह को गिरफ़्तार करना चाहती है जो सर्वशक्तिमान परमेश्वर में विश्वास करते हैं, और दूसरे समूह को मार देना चाहती है। उन्हें मारना मतलब कुछ नहीं। ऐसा कुछ और भी है, जैसे "जब तक प्रतिबंध समाप्त नहीं हो जाता तब तक सैनिकों को नहीं हटाया जाएगा।" सर्वशक्तिमान परमेश्वर के बहुत-से विश्वासियों को बंदी बनाया गया, उन्हें घायल और अपंग बना दिया गया। कई लोगों को तो अपनी नौकरी तक खोनी पड़ी और उनके परिवार बर्बाद हो गए। इसकी बहुत आलोचना भी हुई कि परमेश्वर के विश्वासियों को अपने परिवार की चिंता नहीं होती। क्या तुम्हें यह सही लगता है? तुम न तो अपने परिवार को छोड़ सकते हो और न ही अपनी शादी को तोड़ सकते हो। अगर इस तरह से तुम परमेश्वर में विश्वास करते हो, तो मेरी सलाह है कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर में विश्वास मत करो, ठीक है?

उत्तर: अगर आप सच में जानती कि परमेश्वर का प्रकटन और उनका कार्य मनुष्य के उद्धार के लिए है, तो आप भी परमेश्वर में विश्वास करती और उनका अनुसरण करती। प्रभु यीशु ने कहा था: "मैं तुम से सच कहता हूँ कि ऐसा कोई नहीं जिसने परमेश्‍वर के राज्य के लिए घर,या पत्नी, या भाइयों, या माता-पिता, या बाल-बच्‍चों को छोड़ दिया हो; और इस समय कई गुणा अधिक न पाए और आने वाले युग में अनन्त जीवन" (लूका 18:29-30)। "और जो अपना क्रूस लेकर मेरे पीछे न चले वह मेरे योग्य नहीं। जो अपने प्राण बचाता है, वह उसे खोएगा; और जो मेरे कारण अपना प्राण खोता है, वह उसे पाएगा" (मत्ती 10:38-39)। अगर आप प्रभु यीशु के इन वचनों को देखेंगी, तो आपको पता चलेगा कि किस प्रकार के लोग प्रभु यीशु के सच्चे विश्वासी हैं। प्रभु के इसी प्रकार के विश्वासी हैं, जिनसे चीनी कम्युनिस्ट सरकार सबसे ज़्यादा नफ़रत करती है। क्या आपको पता है कि वे क्यों प्रभु का इस तरह से अनुसरण करते हैं? वे इस तरह से प्रभु का अनुसरण सत्य, जीवन, और प्रभु के लिए करते हैं। वे सांसारिक महिमा और धन-दौलत को भी छोड़ सकते हैं, उनमें भौतिक सुखों और शारीरिक सुख का लालच नहीं है, वे सुसमाचार का उपदेश देने और प्रभु के लिए गवाही देने के लिए सभी तरह के दुखों को झेलने के लिए तैयार हैं। कितने भले लोग है वे! प्रभु हमेशा ऐसे लोगों की प्रशंसा करते हैं। फिर भी, क्यों चीनी कम्युनिस्ट सरकार इन लोगों से इतनी नफ़रत और निंदा करती है? क्यों इन लोगों को गिरफ़्तार कर मार दिया जाता है? यहाँ तक कि धमकी भी दी जाती है कि "जब तक प्रतिबंध समाप्त नहीं हो जाता तब तक सैनिकों को नहीं हटाया जाएगा।" क्या यह स्वर्ग के विरुद्ध विकृत कार्य नहीं हैं? क्या यह परमेश्वर का विरोध नहीं है? मेरे विचार में, चीनी कम्युनिस्ट सरकार ने परमेश्वर में विश्वास करने वाले इन लोगों के साथ जो कुछ भी किया है, वह अपराध और महापाप है। यह सच में बेहद प्रतिक्रियात्मक है!

परमेश्वर के विश्वासी, परमेश्वर की गवाही देने के लिए सुसमाचार का उपदेश देते हैं ताकि लोग आयें और परमेश्वर की पूजा करें, और परमेश्वर द्वारा उन्हें बचाया जा सके। आप यह भी देख रही हैं कि दुनिया तेज़ी से अंधकार की ओर जा रही है। लोग भ्रष्ट, बुरे और सत्य से नफ़रत करने वाले हो रहे हैं। वे सभी दुनिया में फैली बुराई का अनुसरण कर रहे हैं, खाने-पीने, जुआ खेलने, और पाप करने में मज़ा लेते हैं, और खुले तौर पर परमेश्वर को अस्वीकार करते हैं, उनका विरोध करते हैं और उनके विरुद्ध कार्य करते हैं। बोलिए, यह दुनिया बहुत बुरी है और लोग बहुत बेईमान है, क्या उन्हें बहुत पहले ही खत्म कर दिया जाना चाहिए था? बाइबल ने अंत के दिनों में एक प्रलय की भविष्यवाणी की है। अगर मानवजाति सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास लौट कर नहीं आती है, और सर्वशक्तिमान परमेश्वर की शुद्धि और उद्धार को स्वीकार नहीं करती है तो वह प्रलय में नष्ट हो जायेगी। अब प्रलय आने वाली है, और मनुष्य जाति विनाश की आपदाओं का सामना कर रही है। देहधारी सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने अंत के दिनों में सत्‍य व्यक्त किया है और मनुष्य जाति के लिए न्याय और शुद्धि के अपने कार्य को आगे बढ़ाया है ताकि वह पाप से बचे और परमेश्वर के राज्य में लाई जा सके। अगर मनुष्य जाति सुरक्षित रहना चाहती है, तो अब केवल एक ही मार्ग बचा है। और वह है प्रलय से बचने के लिए सर्वशक्तिमान परमेश्वर की सुरक्षा में उनके न्याय तथा ताड़ना को स्वीकार करके अपने भ्रष्ट स्वभाव की शुद्धि करना। जो लोग सर्वशक्तिमान परमेश्वर में विश्वास करते हैं, मनुष्य को बचाने के लिए वे परमेश्वर की उत्सुकता को समझ सकते हैं। वे शारीरिक सुख-सुविधाओं को छोड़ने, गिरफ्तारी का बहादुरी से सामना करने और चीनी कम्युनिस्ट सरकार द्वारा सताए जाने के लिए, और सर्वशक्तिमान परमेश्वर के राज्य के सुसमाचार का उपदेश देने और उनकी गवाही देने का प्रयास करने के लिए तैयार हैं। ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोग परमेश्वर के उद्धार के ज़रिये बच सकें। यह परमेश्वर कि इच्छा को पूरा करना है। जैसा कि प्रभु यीशु ने कहा है: "तुम सारे जगत में जाकर सारी सृष्‍टि के लोगों को सुसमाचार प्रचार करो" (मरकुस 16:15)। सर्वशक्तिमान परमेश्वर कहते हैं: "मानवजाति का सदस्य और सच्चे ईसाई होने के नाते, अपने मन और शरीर को परमेश्वर के आदेश को पूरा करने के लिए समर्पित करना हम सभी की ज़िम्मेदारी और दायित्व है, क्योंकि हमारा सम्पूर्ण अस्तित्व परमेश्वर से आया है, और यह परमेश्वर की संप्रभुता के कारण अस्तित्व में है। यदि हमारे मन और शरीर परमेश्वर के आदेश के लिए नहीं हैं और मानवजाति के धर्मी कार्य के लिए नहीं हैं, तो हमारी आत्माएँ उन लोगों के योग्य नहीं हैं जो परमेश्वर के आदेश के लिए शहीद हुए हैं, परमेश्वर के लिए तो और भी अधिक अयोग्य हैं, जिसने हमें सब कुछ प्रदान किया है" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "परमेश्वर सम्पूर्ण मानवजाति के भाग्य का नियन्ता है")। क्या आपको लगता है जो लोग सर्वशक्तिमान परमेश्वर में विश्वास करते है वे सभी मूर्ख हैं जिन्हें सुसमाचार का प्रचार करने के ख़तरे का अंदाज़ा नहीं है? अगर आपको ऐसा लगता है, तो आप गलत हैं। सुसमाचार का प्रचार स्वर्ग और लोगों की इच्छाओं के अनुरूप है। यह एक नैतिक और नेक काम है! लेकिन, पागलों की तरह ईसाइयों की दयालुता की निंदा और उन्हें क्रूरतापूर्वक गिरफ़्तार कर और सता कर चीनी कम्युनिस्ट सरकार ने स्वर्ग और लोगों की इच्छाओं को धोखा दिया है। बहुत-से ईसाइयों को बेघर कर दिया गया। बहुत-से लोगों को जेल में डाल दिया गया कुछ को तो मौत की सज़ा भी दे दी गयी! हज़ारों ईसाई परिवारों की बरबादी की वजह कम्युनिस्ट सरकार ही है। लेकिन वह उल्टा यह कहती है कि इनकी बर्बादी परमेश्वर में विश्वास करने के कारण हुई हैं। क्या यह तथ्यों को तोड़-मरोड़ कर पेश करना और झूठ को सच में बदलना नहीं है? अगर चीनी कम्युनिस्ट सरकार ने ईसाइयों को पागलों की तरह गिरफ़्तार कर नहीं सताया होता, तो क्या यह परिणाम हो सकते थे? ईसाइयों को सज़ा दे कर क्या चीनी कम्युनिस्ट सरकार पाप नहीं कर रही है? परमेश्वर में विश्वास करना पूरी तरह से उचित है। दुनिया भर के देशों में बड़ी संख्या में लोग परमेश्वर में विश्वास कर रहे हैं। किनके परिवार बर्बाद हो रहे हैं? क्या यह सब सच नहीं है? कुछ अज्ञानी लोग अभी भी सीसीपी सरकार की बेतुकी बातों में आ रहे हैं। वे लोग सीसीपी सरकार से ईसाइयों को सताने के लिए उनसे नफ़रत ही नहीं करते बल्कि वे कहते हैं कि परमेश्वर में विश्वास कर ईसाई गलत कर रहे हैं। क्या यह मूर्खता और बेहूदगी नहीं है?

हमें यह भी पता है कि चीन में सुसमाचार का प्रचार करने पर गिरफ़्तार होने का खतरा भी है। लेकिन अगर हम चीनी कम्युनिस्ट सरकार के सत्ता से बाहर होने का इंतज़ार करते है और फिर सुसमाचार का प्रचार करते हैं तो, तब तक बहुत देर हो जाएगी। तब तक तो परमेश्वर का कार्य पूरा हो चुका होगा और प्रलय आ चुकी होगी। जिन्होंने अंत के दिनों में परमेश्वर के उद्धार को प्राप्त नहीं किया होगा, वे प्रलय में नष्ट हो जायेंगे, और उनकी आत्माओं को नर्क में सज़ा मिलेगी! सर्वशक्तिमान परमेश्वर कहते हैं: "आपदा मेरे द्वारा उत्पन्न की जाती है और निश्चित रूप से मेरे द्वारा ही गुप्त रूप से आयोजित की जाती है। यदि तुम लोग मेरी नज़रो में अच्छे के रूप में नहीं दिखाई दे सकते हो, तो तुम लोग आपदा भुगतने से नहीं बच सकते हो" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "अपनी मंज़िल के लिए तुम्हें अच्छे कर्मों की पर्याप्तता की तैयारी करनी चाहिए")। "कोई भी नहीं जानता कि बार बार स्मरण कराना और परमेश्वर के द्वारा प्रबोधन इसलिए दिया जाता है क्योंकि वह अपने हाथ में एक अद्वितीय आपदा लिए हुए है जो उसने तैयार की है, जो कि मनुष्य के हाड़-मांस और प्राण के लिए असहनीय होगी। यह आपदा न केवल देह के लिए दण्ड है वरन् आत्मा के लिए भी यह एक दण्ड है। …क्योंकि परमेश्वर की योजना के भीतर केवल एक ही रचना और एक ही उद्धार है। यह पहला अवसर है और आखिरी भी। इसलिए, कोई भी इस प्रकार के इरादे और परमेश्वर की मानवजाति के उद्धार की उत्कृष्ट सम्भावना को समझ नहीं सकता है" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "परमेश्वर मनुष्य के जीवन का स्रोत है")। परमेश्वर की आतुरता मनुष्य जाति को आपदा की तकलीफ़ों से बचाना है। अगर हम सीसीपी सरकार की सज़ा के डर से सुसमाचार के प्रचार से भयभीत होंगे, आराम और जिंदा रहने के लिए घरों में शर्म से बैठे रहेंगे, तो हमें कभी भी शांति नहीं मिलेगी!

"परिवार में रक्तिम पुनर्शिक्षा" फ़िल्म की स्क्रिप्ट से लिया गया अंश

पिछला:प्रश्न 8: नर्क में जाने वाली तुम्हारी बात पर मैं विश्वास नहीं करता। किसने देखा है कि नरक कहाँ है? नरक दिखता कैसा है? मैं तो यह भी नहीं जानता कि परमेश्वर का कोई अस्तित्व है भी या नहीं। आखिर परमेश्वर कहाँ है? परमेश्वर को किसने देखा है? अगर सर्वशक्तिमान परमेश्वर सच्चे परमेश्वर हैं, जब चीनी कम्युनिस्ट सरकार सर्वशक्तिमान परमेश्वर की निंदा और आक्रमण करती है, तो परमेश्वर ने उनका विनाश क्यों नहीं किया? अगर परमेश्वर अपनी सर्वशक्तिमत्ता से कम्युनिस्ट पार्टी को नष्ट कर देते हैं, तो वे वाकई परमेश्वर हैं। इस प्रकार, सम्पूर्ण मनुष्य जाति को यह स्वीकार करना होगा कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर ही सच्चे परमेश्वर हैं। यहाँ तक कि सीसीपी सरकार को भी सच्चे परमेश्वर की पूजा करनी होगी। परमेश्वर के विरोध की हिम्मत किसकी होगी? लेकिन वाकई हुआ क्या? मैंने देखा था कि पुलिस परमेश्वर में विश्वास रखने वालों को हर जगह गिरफ़्तार कर रही थी। परमेश्वर में विश्वास करने वाले बहुत से लोगों को जेल में सताया गया और उन्हें अपाहिज बना दिया गया। उनमें से कई मारे गए। लेकिन क्या तुम्हारे परमेश्वर ने उन्हें बचाया? यह सब कैसे किसी को विश्वास दिला सकता है कि जिस परमेश्वर में तुम विश्वास करते हो वह सच है? मैं तो तुम्हें समझ ही नहीं पा रहा हूँ। जिस परमेश्वर में तुम विश्वास करते हो वह सच हैं या झूठ? मुझे तो लगता है कि तुम भी यह नहीं जानते। ऐसे में क्या तुम बेवकूफी नहीं कर रहे? जिस परमेश्वर में तुम विश्वास करते हो वही सच्चा परमेश्वर है, क्या तुम इसे समझा सकते हो?

अगला:प्रश्न 10: मैं कई सालों से यूनाइटेड फ्रंट के साथ काम कर रहा हूँ, और मैंने कई धार्मिक विश्वासों का अध्ययन किया है। ईसाई धर्म, कैथोलिक धर्म, और पूर्वी परंपरागत धर्म सभी शास्त्रसम्मत धर्म हैं जो मसीह में विश्वास करते हैं। लेकिन सर्वशक्तिमान परमेश्वर में तुम्हारा विश्वास बिलकुल अलग है। चीनी कम्युनिस्ट सरकार के दस्तावेज़ों के अनुसार, सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ईसाई धर्म से कोई लेना-देना नहीं है। तुम ईसाई धर्म के नाम पर उन अलग-अलग संप्रदायों में सुसमाचार का प्रचार कर रहे हो जो तुम्हें एक ईसाई के रूप में पहचानते तक नहीं हैं। तो इसलिए मैं तुम्हें सर्वशक्तिमान परमेश्वर में विश्वास करने की अनुमति कभी नहीं दूंगा। चाहो तो केवल ईसाई धर्म में विश्वास कर सकते हो। इस तरह से सरकार की सज़ा कुछ कम होगी। अगर तुम्हें सर्वशक्तिमान परमेश्वर में विश्वास करने के जुर्म में जेल में डाल दिया जाता है, तो तुम्हारी ज़िंदगी बहुत ख़तरे में होगी। सीसीपी सरकार जानती है कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर में विश्वास करने वाले हमेशा से अंत के दिनों के मसीह के अनुयायी हैं जो मसीह के समर्थक और प्रेरित हैं। जिस बात से चीनी कम्युनिस्ट सरकार को सबसे अधिक डर है वह अंत के दिनों के मसीह द्वारा व्यक्त की गयी किताब वचन देह में प्रकट होता है के प्रकाशन और उसकी गवाही है, और साथ ही उस कट्टर समूह से है जो अंत के दिनों के मसीह का अनुसरण करते हैं। हमने ईसाई धर्म के इतिहास को पढ़ा है। यहूदी और रोमन साम्राज्य भी यीशु के समर्थकों और प्रेरितों से ही सबसे अधिक डरते थे। तो जब इन लोगों को पकड़ा गया तो, इन्हें अलग-अलग तरह से मौत की सज़ा दी गयी। आज, अगर अंत के दिनों के मसीह का अनुसरण करने वाले इन लोगों के समूह को दबाया नहीं गया तो, कुछ ही वर्षों में, वे पूरे धार्मिक समुदाय को अपने साथ शामिल कर लेंगे। अभी तक, चीन में कई ईसाई गुटों को सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया द्वारा शामिल किया जा चुका है। अगर चीनी कम्युनिस्ट सरकार ने झाओयुआन मामले में कुछ लोगों की झूठी आम राय न बनाई होती और नकली केस न बनाया होता तो शायद ऐसा दिन आता जब दुनिया के सभी धार्मिक समुदाय सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया में शामिल हो जाते। एक बार अगर सभी धार्मिक समुदाय सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया में शामिल हो गए तो, यह चीनी कम्युनिस्ट सरकार के शासन के लिए बिलकुल भी अच्छा नहीं होगा। इसलिए, केन्द्रीय समिति ने सारी उपलब्ध सेना को तैनात करने का एक मज़बूत निर्णय लिया है ताकि बहुत कम समय में ही सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया को पूरी तरह से बंद किया जा सके। तुम्हें जानना चाहिये, चमकती पूर्वी बिजली के उभरने ने न केवल चीन में खलबली मचा दी है बल्कि इसने दुनिया को प्रभावित किया है। क्योंकि तुमने इतना बड़ा कदम उठाया है, तो चीनी कम्युनिस्ट सरकार तुम्हें दबाने और गिरफ़्तार करने की मुहिम को पूरे ज़ोरों से क्यों नहीं लागू करेगी? अगर तुम्हें परमेश्वर में विश्वास करना ही है, तो तुम केवल ईसाई धर्म में विश्वास कर सकते हो। सर्वशक्तिमान परमेश्वर में विश्वास नहीं कर सकते। क्या तुम्हें यह नहीं पता कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया ईसाई धर्म में नहीं आती है?

शायद आपको पसंद आये