138 जहाँ भी जाओगे, मैं तुम्हें चाहूंगा

I

मैंने दिल अपना तुम्हें दिया है, नहीं प्यार दूजा तुम्हारे सिवा।

तुम्हारे लिये मेरा प्यार है गहरी धारा ओ प्रियतम।

मैं चलता रहूंगा जीवनभर पीछे तुम्हारे, है मुझको कसम।

जीता है मुझको तुम्हारे प्रतापी वचन ने।

तोड़ देता दिल मेरा ये दुखदायी शुद्धिकरण।

देखी है सुंदरता तुम्हारी, जानूं मैं श्रद्धा तुम्हारी।

सख़्ती से निपटते हो मुझसे कितनी बार।

छुपकर आंसू बहाते हुए जाना, नहीं कोई तुमसे प्यारा।

नहीं चाहिये छोड़कर तुमको, मुझे कोई और।

तुम्हें प्यार करने की खातिर, जीवन भी देने को तैयार हूं।

करता रहूंगा प्रेम तुम्हें मैं, जीवन की अंतिम साँसों तक,

मैं सदा-सर्वदा तुम्हारे साथ रहने को तैयार हूँ।

दर्द में हूं या शैतान घेर ले मुझको,

तुम्हें प्यार करके न पछताऊँगा, अपना मैं सबकुछ तुम्हें सौंपूँ।

जहाँ भी जाओगे, मैं तुम्हें चाहूंगा।

चाहत है, ओह चाहत है तुम्हारे साथ फिर एक होने की।

हां, कितनी चाहत है तुम्हारे साथ फिर एक होने की।

II

कौन है जो तुम्हें प्यार न करे, तुम सबसे प्यारे हो।

मेरा प्यार तुम्हारी खातिर सच्चा है, कोई रोक न पाए।

मेरा प्यार है पेड़ खड़ा ज्यों, नदी किनारे मज़बूती से।

गर्मी से ये ना घबराए, सूखे में भी ना मुरझाए।

तुम्हें प्यार करने की खातिर दुख सहता हूं। 

कल की चिंता कभी नहीं करता हूं।

आंधी हो, तूफ़ान तुम्हारी खातिर, मैं सब पी जाता हूं।

बनकर गवाह तुम्हारा, अपयश को सहता हूं।

देता हूँ सबकुछ जो है पास मेरे,

ताकि तुम्हारे प्रेम की कीमत अदा कर सकूँ।

III

मेरा दिल जल रहा है मुझमें। शीघ्रता से उठने की,

निर्मलता से प्रेम करने की तड़प है मुझमें।

फूट-फूटकर रोता हूँ, दुआ करता हूँ। 

निराश करना सह नहीं पाता हूँ, सह नहीं पाता हूँ।

अपनी अशुद्धियाँ दरकिनार कर, भोज में साथ तुम्हारे ज़रूर आऊँगा।

कितना तड़पता हूँ तुम्हारे दर्शन को, तुमसे न जुदा फिर कभी होऊँगा।

व्यथा जब कही न जाए, तो तुम्हारे वचन सुकून देते हैं मुझे।

अ‍पयश हो या अस्वीकृति, सब स्वीकार है मुझे।

मेरे प्रेम को जगा दिया तुम्हारे ख्याल ने।

इसे सुन सकते हो तुम मेरी दुआ की आवाज़ में।

पिछला: 137 अनंतकाल तक करूंगा प्रेम परमेश्वर से मैं

अगला: 139 हे परमेश्वर, क्या आप जानते हैं कि मैं आपके लिए कितना लालायित हूँ?

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें