610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1

पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,

हर इंसान के छुटकारे के काम को,

क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,

इसमें न उसका स्वार्थ था, न योजना थी।

परमेश्वर की योजना को केंद्र में रखा उसने।

स्वर्गिक पिता की इच्छा की खोज करते हुए,

प्रार्थना की स्वर्गिक पिता से उसने।

उसने खोज की, और प्रार्थना की सदा।

गर यीशु की तरह, परवाह करो परमेश्वर की तुम सभी,

और मोड़ लो मुँह देह-सुख से तुम,

तो सौंप देगा परमेश्वर सेवा कर पाने का अहम काम तुम्हें।

तो सौंप देगा परमेश्वर सेवा कर पाने का अहम काम तुम्हें।

2

प्रार्थना की उसने, "हे परमपिता परमेश्वर!

अपनी इच्छा को पूरा कर।

मेरे इरादों के मुताबिक नहीं,

योजना पूरी हो तेरी तू ऐसे काम कर।

तू उस कमज़ोर इंसान की परवाह न कर,

जो चींटी की तरह है तेरे हाथों में।

है मेरी कामना मैं वो करूँ जो इच्छा है तेरी।

जो तू चाहे वो कर मुझमें।"

गर यीशु की तरह, परवाह करो परमेश्वर की तुम सभी,

और मोड़ लो मुँह देह-सुख से तुम,

तो सौंप देगा परमेश्वर सेवा कर पाने का अहम काम तुम्हें।

तो सौंप देगा परमेश्वर सेवा कर पाने का अहम काम तुम्हें।

3

यरूशलेम की राह पर, महसूस की व्यथा यीशु ने,

फिर भी, निभाया वचन अपना, बढ़ता गया उस ओर जहाँ,

सलीब पर चढ़ाया जाना था उसे।

सलीब पर आख़िरकार, चढ़ा दिया गया उसे,

बन गया छवि पापमय देह की, छुटकारे का काम पूरा करके,

मौत की बेड़ियों से ऊपर उठ गया वो।

गर यीशु की तरह, परवाह करो परमेश्वर की तुम सभी,

और मोड़ लो मुँह देह-सुख से तुम,

तो सौंप देगा परमेश्वर सेवा कर पाने का अहम काम तुम्हें।

तो सौंप देगा परमेश्वर सेवा कर पाने का अहम काम तुम्हें।

4

यीशु तैंतीस बरस जिया, परमेश्वर की संतुष्टि के लिये सबकुछ किया।

नफ़े-नुकसान की कभी परवाह नहीं की,

पूरी की परमपिता परमेश्वर की इच्छा मगर।

सेवा प्रभु यीशु की थी परमेश्वर की इच्छा के अनुरूप सदा।

छुटकारे के दायित्व को इसलिये, वो निभाने के काबिल था।

अपार यातनाएं सहीं उसने, जाने कितनी बार शैतान ने लालच दिया उसे।

मगर मायूस न हुआ वो कभी।

भरोसे और प्यार में ये काम दिया परमेश्वर ने उसे।

गर यीशु की तरह, परवाह करो परमेश्वर की तुम सभी,

और मोड़ लो मुँह देह-सुख से तुम,

तो सौंप देगा परमेश्वर सेवा कर पाने का अहम काम तुम्हें।

तो सौंप देगा परमेश्वर सेवा कर पाने का अहम काम तुम्हें।

ऐसे ही वक्त में क्या तुम साहस करोगे कहने का, तुम करते हो इच्छा पूरी उसकी,

करते हो उसके आदेश को पूरा, कि सही मायनों में करते हो सेवा परमेश्वर की।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर की इच्छा के अनुरूप सेवा कैसे करें' से रूपांतरित

पिछला: 609 वही पात्र हैं सेवा के जो अंतरंग हैं परमेश्वर के

अगला: 611 परमेश्वर की सेवा करने के लिए तुम्हें उसे अपना हृदय अर्पित करना चाहिए

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें