609 वही पात्र हैं सेवा के जो अंतरंग हैं परमेश्वर के

1

जो करते सेवा परमेश्वर की, वही होने चाहिये अंतरंग उसके,

प्रिय हों परमेश्वर को, निष्ठावान हों परमेश्वर के।

काम करो सामने या पीठ पीछे दूसरों की, परमेश्वर का आनंद पाते हो तुम,

और अडिग रहोगे सम्मुख परमेश्वर के तुम।

चाहे जैसा बर्ताव करें दूसरे तुमसे, चलोगे राह अपनी ही तुम,

परमेश्वर के दायित्व की परवाह करोगे तुम।

यही है परमेश्वर का अंतरंग होना। यही है परमेश्वर का अंतरंग होना।

परमेश्वर के अंतरंग हैं विश्वासपात्र उसके।

चिंताएं और ज़रूरत उसकी, वे करते हैं संग साझा उसके।

है कष्टकर, दुर्बल काया उनकी, सह लेते वे दर्द फिर भी,

त्यागते हैं परमेश्वर की संतुष्टि की ख़ातिर, जो प्रिय है उन्हें।

2

परमेश्वर के अंतरंग कर पाते हैं सेवा उसकी

क्योंकि दिया जाता है परमेश्वर का आदेश और दायित्व उनको।

ले पाते हैं वे अपने दिल की तरह, परमेश्वर के दिल को,

बिना ख़्याल किये, गँवाएंगे या पाएंगे।

बिना संभावनाओं के भी, कर लेंगे यकीन ईश्वर-प्रेमी हृदय से वे।

इस तरह का इंसान, कहलाता है अंतरंग परमेश्वर का।

यही है परमेश्वर का अंतरंग होना। यही है परमेश्वर का अंतरंग होना।

परमेश्वर के अंतरंग हैं विश्वासपात्र उसके।

चिंताएं और ज़रूरत उसकी, वे करते हैं संग साझा उसके।

है कष्टकर, दुर्बल काया उनकी, सह लेते वे दर्द फिर भी,

त्यागते हैं परमेश्वर की संतुष्टि की ख़ातिर, जो प्रिय है उन्हें।

3

देता है परमेश्वर अधिक दायित्व इस तरह के लोगों को।

परमेश्वर जो करेगा, उसकी पुष्टि होती उनकी गवाही में।

लिहाज़ा, करता है प्रेम परमेश्वर इस तरह के लोगों को।

सेवक हैं वही जो अनुरूप हैं उसके दिल के।

परमेश्वर के अंतरंग हैं विश्वासपात्र उसके।

चिंताएं और ज़रूरत उसकी, वे करते हैं संग साझा उसके।

है कष्टकर, दुर्बल काया उनकी, सह लेते वे दर्द फिर भी,

त्यागते हैं परमेश्वर की संतुष्टि की ख़ातिर, जो प्रिय है उन्हें।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर की इच्छा के अनुरूप सेवा कैसे करें' से रूपांतरित

पिछला: 608 परमेश्वर की इच्छा के अनुसार सेवा कैसे करें

अगला: 610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें