172 हम अपने लक्ष्य को पूरा करते हैं

I

हम धरती पर रहते हैं, परमेश्वर हमारे जीवन और मृत्यु, आपदाओं और भाग्य पर शासन करता है, परमेश्वर के शासन से परे कोई नहीं है।

सफलता-असफलता, औसत जीवन या धन-दौलत और शोहरत, ग़म और ख़ुशी, सब खोखले हैं।

अंत के दिनों का मसीह प्रकट होकर कार्य करता है। वह सत्य प्रदान करता है, अनन्त जीवन लाता है।

परमेश्वर के वचन हमें सींचते हैं, हम दुनिया को समझते हैं, हम परमेश्वर का अनुसरण करते हैं और जीवन में सही राह पर चलते हैं।

केवल परमेश्वर के वचन का अनुभव करने और सत्य को समझने से हम जानते हैं कि परमेश्वर से प्रेम करना सबसे अधिक सार्थक है।

हम परमेश्वर के प्रेम का आनंद लेते हैं, इसलिए हमें उसे इसका प्रतिदान देना चाहिए, और उसके अंत के दिनों के उद्धार के वचन का प्रचार करना चाहिए।

हम उसकी इच्छा के प्रति विचारशील हैं, हम अपने लक्ष्य का दायित्व उठाते हैं, परमेश्वर के वचन हमें राह दिखाते हैं, हम मृत्युपर्यंत उसके प्रति वफ़ादार हैं।

हमारी त्वचा का रंग अलग हैं, हमारे राष्ट्र अलग हैं, परमेश्वर का प्यार हमें प्रेम से एक-दूसरे से जोड़ता है।

भाई-बहन एकजुट होकर काम करते हैं, परमेश्वर के दिल की संतुष्टि के लिए हम अपना कर्तव्य निभाते हैं।

हम मिलकर परमेश्वर के प्यार का प्रतिदान देते हैं, और सृष्टिकर्ता के कर्मों की गवाही देते हैं।

दुनिया में हम कहीं भी हों, हम अपनी पूरी शक्ति लगाते हैं, हम अपना लक्ष्य पूरा करते हैं, और परमेश्वर के प्रति पूरी तरह समर्पित हैं।


2

दुष्टात्माओं की भूमि चीन में, कोई मानव अधिकार नहीं हैं, मसीह की गवाही देने पर हमारा उत्पीड़न किया जाता है।

क्रूर यातनाओं और पीड़ाओं से हम तबाह हो गए हैं, हम शैतान का असली, बदसूरत चेहरा देखते हैं।

हम घिनौने और क्रूर शैतान से घृणा करते हैं, हम मन ही मन चाहते हैं कि मसीह सब-कुछ अपने अधिकार में ले ले।

राज्य की सड़क उबड़-खाबड़ और ऊंची-नीची है, परमेश्वर के वचन पर निर्भर रहकर, हम उस पर सहजता से चलते हैं।

हमारा उपहास हुआ, बदनामी हुई, हम नकारे गए, त्यागे गए, अगर परमेश्वर को सुकून दे सकें तो हमारे दिल संतुष्ट हैं।

परमेश्वर के प्रेम की गवाही देकर, विश्वास से भरे, हम अपने लक्ष्य और अपने कार्य को पूरा करते हैं।

दुनिया भर के देशों से, हम एक साथ इकट्ठा होते हैं, राज्य का सुसमाचार पूरे ब्रह्मांड में फैलता है।

राष्ट्रीय सीमाओं की परवाह किए बिना सभी धर्म एक हो जाते हैं, जो ईश्वर से प्रेम करते हैं, वे उसके समक्ष लौट आते हैं।

हम मसीह की गवाही देते हैं, परमेश्वर के नाम की महिमा गाते हैं, हम परमेश्वर को धन्यवाद देते हैं, उसकी स्तुति करते हैं।

दुर्भाग्य और क्लेश अतीत की बातें हो गईं हैं, धार्मिकता की सुबह हो गई।

हम स्तुतिगान करते हैं, अंत के दिनों का मसीह, राजा की तरह शासन करता है!

पिछला: 171 आत्मा की पुकार

अगला: 173 उत्पीड़न में मेरा संकल्प और भी मज़बूत होता है

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश अंत के दिनों के मसीह के लिए गवाहियाँ परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें