199 जैसे ही मैं कोहरे में जागी

1

मैं देखती हूँ कि वचन देह में प्रकट हो रहा है, परमेश्वर ने नए स्वर्ग और पृथ्वी का निर्माण करके,

छह सहस्राब्दियों की कठिनाइयों और बेचैनियों का अंत कर दिया है।

देहधारी परमेश्वर इंसान के लिए सत्य को व्यक्त करते हुए, प्रकाश ला रहा है।

इंसान को पूर्ण बनाने के लिये परमेश्वर का कार्य करना एक ऐसा अवसर है जो जीवन में एक बार ही आता है, मैं कितनी भाग्यशाली हूँ।

उसके वचन इंसान का न्याय करते, उसे ताड़ना देते और उसके भ्रष्ट स्वभाव को प्रकट करते हैं।

मैं आख़िरकार जान गई हूँ कि शैतान की भ्रष्टता के कारण इंसान ने अपना ज़मीर गँवा दिया है।

इंसान पाखंडी है, सतही तौर पर नैतिकता की बात करता है, जबकि वह वास्तव में बहुत पहले ही इंसानियत गँवा चुका है।

प्रसिद्धि और फ़ायदे के लिए एक-दूसरे के खिलाफ़ योजना बनाते और लड़ाई करते हुए, पाप में जीता है।

2

इंसान का कपटी हृदय इतना भ्रष्ट है कि देखने लायक नहीं है।

इंसान खुद को जानबूझकर भ्रष्ट और मलिन कर रहा है, उसे अपने आप से प्यार नहीं है।

वह अपनी सत्यनिष्ठा और गरिमा की आख़िरी झलक कहाँ पा सकता है?

इंसान का हृदय बहुत कुटिल और कपटी है, इंसान परमेश्वर के सामने आने लायक नहीं है।

बेचैन हृदय लेकर, भय और पीड़ा से ग्रस्त, मैं अपने पूरे अस्तित्व को तेरे सामने अर्पित करती हूँ।

इंसान होना कितना मुश्किल है, मैं इस बात को अब जानकर जान पायी इसलिए आहें भरती हूँ।

मैं इतनी भ्रष्ट हूँ कि जब तक मैं न्याय और शुद्धिकरण से न गुज़रूँ, मुझे बचाया नहीं जा सकता।

मैं भ्रम से जागती हूँ, मैं इतनी शर्मिंदा हूँ कि परमेश्वर के चेहरे का सामना नहीं कर सकती।

न्याय से प्रबुद्ध होकर, मैं सब-कुछ तुरंत जान गई कि इंसान कैसे बना जाता है।

सत्य और जीवन आसानी से नहीं आए हैं, यह सब परमेश्वर की करुणा है।

परमेश्वर की प्रियता को जानकर उसके प्रति मेरा प्रेम और भी अधिक जाग उठा है।

मुझे परिशोधन का कष्ट मिले और मैं शुद्ध हो जाऊँ ताकि मैं परमेश्वर से सच्चा प्रेम और उसे संतुष्ट कर सकूँ।

पिछला: 198 सत्य को समझकर मुक्त हो जाओ

अगला: 200 ज्योति है परमेश्वर का वचन

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें