198 सत्य को समझकर मुक्त हो जाओ

1 प्रभु में बरसों के अपने विश्वास में, मैंने केवल वचन और सिद्धांत ही बोले, मैं नियमों से चिपका रहा, और मैंने धार्मिक अनुष्ठान किए। मेरी हर प्रार्थना एक खोखला अहंकार थी, मैंने कभी अपने दिल की बात परमेश्वर से नहीं कही। न ही मैंने परमेश्वर के वचनों को पढ़ते समय कभी सत्य की तलाश की; मैं परमेश्वर की इच्छा पर विचार करने में असमर्थ था। मुझे लगा कि बाइबल के इतने सारे प्रसिद्ध पदों और कथनों को याद करने के मायने हैं कि मेरे अंदर सत्य की वास्तविकता है। मैंने केवल झूठ न बोलने पर ध्यान दिया और इस तरह मैं खुद को ईमानदार समझता रहा। मैंने बरसों ख़ुशी-ख़ुशी अथक प्रयास किए कि शायद मैं स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करूँ और पुरस्कार पाऊँ। मैं कितना ख़ुशनसीब हूँ कि मुझे सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों ने पुकारा; मैंने परमेश्वर की वाणी सुनी और मैं उसके पास लौट आया। मैंने परमेश्वर के वचनों से बहुत से सत्यों को समझा है, परमेश्वर के रूप और कार्य को निहारा है।

2 परमेश्वर के वचनों के न्याय ने अचानक मुझे जगा दिया; सत्य का अनुसरण करना परमेश्वर के हृदय के अनुसार है। अगर मैं परमेश्वर में विश्वास तो रखूँ, मगर परमेश्वर की ताड़ना और न्याय का अनुभव न करूँ, तो मेरा भ्रष्ट स्वभाव नहीं बदल सकता। अगर मैं परमेश्वर को न जानूँ, और परमेश्वर से भय न खाऊँ, तो मेरा अच्छा व्यवहार एक ढोंग है। इंसान परमेश्वर के धार्मिक स्वभाव का अपमान नहीं कर सकता, कपटी इंसान की राज्य में प्रवेश करने की इच्छा मात्र एक सपना है। मैं परमेश्वर के वचनों का अभ्यास और अनुभव करने, सत्य को प्राप्त करने और अपनी भ्रष्टता को दूर करने का संकल्प लेता हूँ। मैं हर चीज में, सत्य की खोज और सत्य का अभ्यास करता हूँ; मैं अपने दिल में, शांति और सुकून महसूस करता हूँ। मैं निष्ठा से अपना कर्तव्य निभाता हूँ, और प्रसन्नता से परमेश्वर की सेवा करता हूँ; मैं परमेश्वर से आशीष नहीं, बल्कि यह माँगता हूँ कि मैं उससे प्रेम करता रहूँ। अब चूँकि मैं सच्चाई को समझ गया हूँ, तो मैं अब नियमों से नहीं चिपकता; मैं परमेश्वर के समक्ष रहकर मैं स्वतंत्र मुक्त हो गया हूँ।

पिछला: 197 मैं परमेश्वर से प्रेम करने का प्रयास करने के लिए संकल्पबद्ध हूँ

अगला: 199 जैसे ही मैं कोहरे में जागी

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें