558 परमेश्वर के वचनों के अनुसार स्वयं को समझो

1

इंसान अपनी प्रकृति अच्छे से जानता नहीं,

जो न्याय और प्रकाशन के ईश-वचनों से बहुत दूर है।

गहरी और सारभूत नहीं है। बाहरी कामों पर ध्यान वो देता है।

वो कहे वो जाने खुद को, तो भी, ये ज्ञान गहरा नहीं।

लोगों ने न सोचा कि वे ऐसे ही हैं, कि यही उनकी प्रकृति है,

क्योंकि उन्होंने ऐसा काम किया या कुछ प्रकट किया।

परमेश्वर ने इंसान की प्रकृति प्रकट की,

लेकिन लोग जानें कि वास्तव में गलत है

उनके काम करने और बोलने का तरीका,

इसलिए उन्हें सत्य का अभ्यास कठिन लगे।

2

लोगों को लगे कि उनकी गलतियाँ

हैं कुछ पलों की लापरवाह अभिव्यक्तियाँ, वे उनकी प्रकृति का सच नहीं।

जो अपनी प्रकृति को ऐसे देखते वो सत्य का अभ्यास नहीं कर सकते,

क्योंकि उनमें सत्य की प्यास नहीं, न वे सत्य को सत्य मानते हैं।

लापरवाही से बस नियम का पालन करते।

लोगों ने न सोचा कि वे ऐसे ही हैं, कि यही उनकी प्रकृति है,

क्योंकि उन्होंने ऐसा काम किया या कुछ प्रकट किया।

परमेश्वर ने इंसान की प्रकृति प्रकट की,

लेकिन लोग जानें कि वास्तव में गलत है

उनके काम करने और बोलने का तरीका,

इसलिए उन्हें सत्य का अभ्यास कठिन लगे।

3

लोगों को अपनी प्रकृति बहुत भ्रष्ट नहीं लगती,

वे खुद को इतना बुरा नहीं मानते कि हों काबिल सज़ा पाने या तबाही के,

उन्हें लगे कि कभी-कभी झूठ बोलना ठीक है,

कि वे पहले से ज़्यादा बेहतर हैं। लेकिन वे तो मानकों के पास भी नहीं हैं।

सत्य को अभ्यास में न लाने से,

लोगों के कुछ ही काम ऐसे हैं जो सत्य का विरोध न करें।

परमेश्वर ने इंसान की प्रकृति प्रकट की,

लेकिन लोग जानें कि वास्तव में गलत है

उनके काम करने और बोलने का तरीका,

इसलिए उन्हें सत्य का अभ्यास कठिन लगे।

— "अंत के दिनों के मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'अपनी प्रकृति को समझना और सत्य को व्यवहार में लाना' से रूपांतरित

पिछला: 557 क्या तुम अपनी प्रकृति जानते हो?

अगला: 559 स्वयं को समझने के लिए अपनी वास्तविक मनोदशा को समझें

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें