164 मुश्किलों से गुज़रकर परमेश्वर के प्रति मेरा प्रेम और मज़बूत हुआ है

1 मुझे हैवानी सीसीपी ने उठाकर जेल में ठूँस दिया, जहाँ मैंने खून से सने यातना के उपकरण देखे। पुलिस के ख़ूँखार और पैशाचिक चेहरों को सामने पाकर मैंने ख़ुद को डरा हुआ और कमज़ोर महसूस किया। मैं इस बात से भी अनजान था कि मैं क्रूर यातना सह पाऊँगा या नहीं, परमेश्वर की गवाही दे पाऊँगा या नहीं। मुझे डर था कि मेरा आध्यात्मिक कद बहुत छोटा है, और मैं परमेश्वर के साथ विश्वासघात करके यहूदा बन जाऊँगा। मैंने सच्चे मन से परमेश्वर को पुकारा, उससे प्रार्थना की कि वह मुझे शैतान के फंदे से बचाए। शैतान की भयंकर क्रूरता के बावजूद, मेरी नियति परमेश्वर के हाथ में थी। जब मैंने सत्य को समझा, तो परमेश्वर में मेरी आस्था जागी, और मेरे अंदर से उनके क्रूर अत्याचारों का भय समाप्त हो गया। चाहे जिऊँ या मरूँ, मैं परमेश्वर की व्यवस्थाओं का पालन करूँगा। मैं अपनी जान के ख़तरे के बावजूद, परमेश्वर के लिये ज़ोरदार गवाही दूँगा।

2 शैतानी सीसीपी क्रूर भी है और घिनौनी भी, उसने मुझे परमेश्वर से दगा करने पर मजबूर करने के लिए अच्छे-बुरे हर तरह के हथकण्डे अपनाए। जब मुझे बिजली के झटके दिए गए, तो मुझे लगा मेरा दम घुट जाएगा। जब मेरी उँगलियों में सुइयाँ चुभाई गईं, तो मुझे लगा इस असहनीय दर्द से तो मौत भली। पीड़ा की इस घड़ी में, परमेश्वर के वचनों ने मुझे विश्वास और शक्ति दी, और इन सारी यातनाओं को सहने का धीरज दिया। मैंने सोचा कि पहले मैं किस तरह परमेश्वर में पूरी निष्ठा से प्रेम नहीं रखता था, और मुझे बहुत पछतावा हुआ। उस पल मैं बस यही चाहता था कि मैं अपने हृदय को परमेश्वर को समर्पित कर दूँ। अगर परमेश्वर मुझे स्वीकार कर ले, तो मेरे दिल को शांति और सुकून मिल जाएगा। सीसीपी मुझे जितना चाहे सताए, मैं फिर भी परमेश्वर से प्रेम करूँगा और परमेश्वर की गवाही दूँगा। अगर कल को मुझे अवसर मिला, तो मैं निश्चित रूप से जी-जान से सत्य का अनुसरण करूँगा और परमेश्वर से अधिक गहराई से प्रेम करूँगा।

3 जब तक मौत के कगार पर नहीं पहुँच गया, दरिंदे मुझे यातना देते रहे, परमेश्वर ने गुप्त रूप से मेरी रक्षा की ताकि मुझे कोई गंभीर नुकसान न हो। मुश्किल हालात मुझे परमेश्वर के और करीब ले आए। परमेश्वर के साथ होने से, पीड़ा मधुरता में बदल गई। कठिन परिस्थितियों में, मैं परमेश्वर के रूबरू आ गया, परमेश्वर ने मुझे शुद्ध किया और बचा लिया। सीसीपी के घोर अत्याचारों को झेलते हुए, मैंने शैतान का घिनौना चेहरा साफ़-साफ़ देखा। मैं न्याय और अन्याय के बीच साफ़ अंतर कर पाया, मैंने इस बात को और भी गहराई से जाना कि केवल परमेश्वर ही प्रेम है। मुझे बड़े लाल अजगर से और भी अधिक घृणा हो गई है। मैं उसके आगे झुकने के बजाय, मर जाना पसंद करूँगा। अब मैं परमेश्वर का अनुसरण फ़ौलादी इच्छा से करता हूँ। स्वर्ग का रास्ता काँटों और चट्टानों से भरा है, प्रलोभन और ख़तरे से भरा है। परमेश्वर के वचनों के मार्गदर्शन के संग, मेरी इच्छा है कि मैं सदा परमेश्वर की शरण में रहूँ, उनके प्रति मेरा प्रेम कभी न बदले।

पिछला: 163 युगों भर के संतों का पुनर्जन्म हुआ है

अगला: 165 गहरा दाग

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर धर्मोपदेश और संगति अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें