742 वही मनुष्य खुश है जो परमेश्वर का सम्मान करता है

1

एक धार्मिक इंसान था, नाम उसका अय्यूब था,

ईश्वर का भय मानता था, बुराई से दूर रहता था,

ईश्वर उसके कर्मों को सराहता था, इंसान उसे याद करता था।

अय्यूब का जीवन कीमती था, सार्थक था।

ईश्वर का आशीष था उस पर, मगर उसका

इम्तहान लिया शैतान ने, परीक्षण लिया ईश्वर ने।

ईश्वर की गवाही दी अय्यूब ने, वो धार्मिक इंसान कहलाने लायक था।

तमाम अनुभवों से गुज़रकर भी, उसका जीवन ख़ुश था, कोई दुख न था।

अय्यूब सिर्फ़ इसलिए ख़ुश न था

कि ईश्वर ने उसे सराहा था या वो आशीषित था,

बल्कि अनुसरण के कारण भी,

क्योंकि वो अनुसरण कर रहा था ईश्वर के प्रति श्रद्धा का।

अय्यूब ख़ुश था।

2

इम्तहान के बाद के कुछ दशकों में,

ज़्यादा ठहराव था, अर्थ था अय्यूब के जीवन में।

उसने अनुसरण किया आस्था का, मान्यता का,

ईश्वर-प्रभुता के प्रति समर्पण का।

अय्यूब के जीवन के हर ज़रूरी मोड़ का हिस्सा थे ये लक्ष्य और मकसद।

जीवन के आख़िरी बरसों में वो उनके साथ सुकून से जिया,

अंत का उसने ख़ुशी से स्वागत किया।

तमाम अनुभवों से गुज़रकर भी, उसका जीवन ख़ुश था, कोई दुख न था।

अय्यूब सिर्फ़ इसलिए ख़ुश न था

कि ईश्वर ने उसे सराहा था या वो आशीषित था,

बल्कि अनुसरण के कारण भी,

क्योंकि वो अनुसरण कर रहा था ईश्वर के प्रति श्रद्धा का।

अय्यूब ख़ुश था।

3

ईश्वर से भय मानने, बुराई से दूर रहने की कोशिश में,

अय्यूब ने ईश्वर-प्रभुता को जान लिया था।

ईश्वर के कर्म कितने अद्भुत हैं

इस बात को उसने अपने अनुभव से पहचाना।

अय्यूब ख़ुश था क्योंकि ईश्वर उसके संग था,

ईश्वर से उसका परिचय था, ईश्वर और उसमें तालमेल था।

अय्यूब ख़ुश था।

अय्यूब सिर्फ़ इसलिए ख़ुश न था

कि ईश्वर ने उसे सराहा था या वो आशीषित था,

बल्कि अनुसरण के कारण भी,

क्योंकि वो अनुसरण कर रहा था ईश्वर के प्रति श्रद्धा का।

अय्यूब ख़ुश था।

अय्यूब उस सुख और आनंद के कारण ख़ुश था

जो उसे ईश्वर-इच्छा को जानने से मिला था,

उस भय के कारण ख़ुश था जब देखा उसने

ईश्वर कितना महान, अद्भुत, प्यारा, और निष्ठावान है।

अय्यूब ख़ुश था।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III' से रूपांतरित

पिछला: 741 सुरक्षा पाने की ख़ातिर भय मानो परमेश्वर का

अगला: 743 गरिमा है उसमें जो करता है आदर परमेश्वर का

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें