1015 सबसे बड़ी आशीष जो ईश्वर मानव को प्रदान करता है

1

परमेश्वर के शब्दों के समापन के साथ, उसका साम्राज्य है बन रहा।

फिर से मानव के होने से सामान्य, प्रभु का साम्राज्य बना।

साम्राज्य में रहते परमेश्वर के जन, फिर पाओगे तुम मनुष्योचित जीवन।

आज, तुम जीते हो प्रभु के समक्ष; उसके साम्राज्य में जिओगे तुम कल।

आनंद–सौहार्द से भरी धरती सारी।

धरती पर प्रभु का साम्राज्य बना। धरती पर प्रभु का साम्राज्य बना।

2

बर्फीले ठण्ड के स्थान पर है ऐसी एक दुनिया, जहां है बहारें साल भर,

जब इंसां ना झेलेगा इस दुनिया के दर्द-ओ-ग़म को।

ना होंगें झगड़े इंसानों में, ना तो जंग होंगे मुल्कों में,

ना होगी हिंसा, ना ही खून।

उसके साम्राज्य में जिओगे तुम कल।

आनंद–सौहार्द से भरी धरती सारी।

धरती पर प्रभु का साम्राज्य बना। धरती पर प्रभु का साम्राज्य बना।

3

प्रभु विचरता है इस जग में, रस लेता अपने सिंहासन से।

रहता है वो सितारों में, फरिश्ते उसके लिए नाचें-गाएं।

फरिश्ते अब रोते नहीं, अपनी कमजोरियों पर।

फरिश्ते उसके लिए नाचें-गाएं। फरिश्ते उसके लिए नाचें-गाएं।

अब ना प्रभु कभी, सुनेगा रोना फरिश्तों का।

फरिश्ते उसके लिए नाचें-गाएं। फरिश्ते उसके लिए नाचें-गाएं।

4

तकलीफों की फरियाद करेगा ना कोई।

आज, तुम जीते हो प्रभु के समक्ष; उसके साम्राज्य में जिओगे तुम कल।

क्या नहीं, आशीष ये सबसे बड़ी है प्रभु ने दी जो इंसानों को?

साम्राज्य में रहते परमेश्वर के जन, फिर पाओगे तुम मनुष्योचित जीवन।

आज, तुम जीते हो प्रभु के समक्ष; उसके साम्राज्य में जिओगे तुम कल।

आनंद–सौहार्द से भरी धरती सारी।

धरती पर प्रभु का साम्राज्य बना। धरती पर प्रभु का साम्राज्य बना।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन' के 'अध्याय 20' से रूपांतरित

पिछला: 1014 राज्य की सुंदरता

अगला: 1016 जब राज्य पूरी तरह उतरेगा

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें