1014 राज्य की सुंदरता

1

ईश्वर चले सबसे ऊपर, रखे सब जगह नज़र।

नहीं कोई इंसान, कोई चीज़ पहले जैसी।

लेटकर पूरी कायनात पर ईश्वर, करे आराम अपने सिंहासन पर।

आज के ईश-कार्य का है यही अंतिम परिणाम।

ईश्वर के चुने जन पुन: पाते अपना मूल स्वरूप, दर्द से मुक्त हुए स्वर्गदूत,

जैसा कहे ईश्वर, उनकी सूरत लगे इंसान के दिल में पवित्र जन जैसी।

चूँकि स्वर्गदूत करें धरती पर सेवा ईश्वर की,

और दुनिया में फैले महिमा उसकी, स्वर्ग को धरती पर लाया जाता,

धरती को स्वर्ग तक उठाया जाता।

इंसान कड़ी बनकर जोड़े उन्हें।

अब अलग नहीं स्वर्ग और धरती; जुड़े हैं दोनों एक-दूजे से।

ईश्वर और इंसान में तालमेल रहेगा सदा।

ईश्वर और इंसान में तालमेल रहेगा सदा, न होंगे कभी जुदा।

यही है राज्य की सुंदरता। यही है राज्य की सुंदरता।

2

ईश्वर और इंसान ही हैं पूरी दुनिया में।

धूल और गंदगी से मुक्त, है सब-कुछ नया-सा।

जैसे हरी घास पर लेटा नन्हा मेमना, उठाता हो आनंद ईश्वर-अनुग्रह का।

हरियाली लाती ज़िंदगी की साँसें,

क्योंकि इंसान के संग धरती पर ईश्वर रहता सदा।

है इंसान के साथ दुनिया में डेरा उसका। ईश्वर फिर से सिय्योन में रहता।

ये दिन होगा ईश्वर के आराम का सभी इसके गुण गायेंगे, इसे मनाएँगे।

धरती पर उसके काम का अंत होगा, जब तख़्त पर वो आराम करेगा।

इसी पल उसके रहस्य ज़ाहिर होते हैं।

अब अलग नहीं स्वर्ग और धरती; जुड़े हैं दोनों एक-दूजे से।

ईश्वर और इंसान में तालमेल रहेगा सदा।

ईश्वर और इंसान में तालमेल रहेगा सदा, न होंगे कभी जुदा।

यही है राज्य की सुंदरता। यही है राज्य की सुंदरता।

ईश्वर चले सबके ऊपर, रखे सब जगह नज़र।

नहीं कोई इंसान, कोई चीज़ पहले जैसी।

फैलकर पूरी कायनात पर ईश्वर, करे आराम अपने सिंहासन पर।

आज के ईश-कार्य का है यही अंतिम परिणाम।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचनों के रहस्य की व्याख्या' के 'अध्याय 16' से रूपांतरित

पिछला: 1013 परमेश्वर दुष्टों को नहीं बचाता है

अगला: 1015 सबसे बड़ी आशीष जो ईश्वर मानव को प्रदान करता है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें