1016 जब राज्य पूरी तरह उतरेगा

जब राज्य धरती पर पूरी तरह उतरेगा,

हर जन अपने मूल स्वरूप को पा लेगा।

1

परमेश्वर अपने सिंहासन से आनंद लेता है,

वह सितारों के बीच रहता है।

स्वर्गदूत उसे नये गीत अर्पित करते हैं,

वे पूरे दिल से नये नृत्य प्रस्तुत करते हैं।

जब राज्य धरती पर पूरी तरह उतरेगा।

अब उनकी अपनी नश्वरता से, आँसू नहीं बहते उनकी आँखों से।

अब परमेश्वर के आगे स्वर्गदूत विलाप नहीं करते।

अब लोग कष्टों की शिकायत नहीं करते।

अब लोग कष्टों की शिकायत नहीं करते।

परमेश्वर जब अपनी सारी महिमा हासिल करता है,

उस दिन इंसान विश्राम का सुख लेता है।

शैतान की गड़बड़ी के कारण इंसान बेवजह दौड़ता नहीं है।

दुनिया का विकास रुक जाता है, इंसान विश्राम में रहता है।

जब राज्य धरती पर पूरी तरह उतरता है।

जब राज्य धरती पर पूरी तरह उतरता है।

2

आकाश में अनगिनत सितारे पूरी तरह नये हो जाते हैं।

स्वर्ग और धरती पर नदियाँ और पहाड़,

सूरज और चाँद, सब बदल जाते हैं।

जब राज्य धरती पर पूरी तरह उतरता है।

इंसान बदल गया, परमेश्वर बदल गया, इसलिये बदलेगी हर चीज़।

परमेश्वर की ये महान योजना सफल होगी।

यही है परम लक्ष्य उसका। यही है परम लक्ष्य उसका।

परमेश्वर जब अपनी सारी महिमा हासिल करता है,

उस दिन इंसान विश्राम का सुख लेता है।

शैतान की गड़बड़ी के कारण इंसान बेवजह दौड़ता नहीं है।

दुनिया का विकास रुक जाता है, इंसान विश्राम में रहता है।

जब राज्य धरती पर पूरी तरह उतरता है।

जब राज्य धरती पर पूरी तरह उतरता है।

जब राज्य धरती पर पूरी तरह उतरता है।

जब राज्य धरती पर पूरी तरह उतरता है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचनों के रहस्य की व्याख्या' के 'अध्याय 20' से रूपांतरित

पिछला: 1015 सबसे बड़ी आशीष जो ईश्वर मानव को प्रदान करता है

अगला: 1017 इंसान से परमेश्वर का आखिरी वादा

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें