1017 इंसान से परमेश्वर का आखिरी वादा

1

जब इंसान पाता है धरती पर सच्चा जीवन,

शैतान की सभी शक्तियां जाती हैं बंध।

इंसान जिएगा पृथ्वी पर आराम से। उलझनें हो जाएंगी ग़ायब।

इंसानी, सामाजिक और पारिवारिक बंधन कर सकते हैं परेशान,

हो सकते हैं दर्द से भरे।

पर एक बार जब इंसान जीत लिया जाएगा पूरी तरह से, पूरी तरह से,

तो बदल जाएगा उसका दिल और दिमाग़।

एक बार जब इंसान जीत लिया जाएगा पूरी तरह से,

बदल जाएगा उसका दिल और दिमाग़।

2

इंसान का दिल करेगा परमेश्वर का आदर।

इंसान का दिल करेगा परमेश्वर से प्रेम।

दुनिया के सभी लोग जो चाहते हैं करना परमेश्वर से प्रेम, परमेश्वर से प्रेम,

एक बार जब उन पर जीत हासिल कर ली जाएगी,

एक बार जब शैतान हरा दिया जाएगा, हरा दिया जाएगा,

एक बार जब अंधेरी शक्तियों को दिया जाएगा बांध,

तो पृथ्वी पर इंसान का जीवन होगा परेशानियों से आज़ाद।

जिएगा वो आज़ादी से इस धरती पर, देह की उलझनें हो जाएंगी ग़ायब।

इंसान हो जाएगा शैतान की शक्तियों से आज़ाद, हो जाएगा आज़ाद।

3

अगर परिवार में सबके प्रति तुम्हारा बर्ताव हो एकसमान,

और कलीसिया के भाइयों और बहनों के लिए भी,

चिंता करने की कोई ज़रूरत नहीं, तुम्हारी तकलीफ़ें हो जाएगीं आधी।

इंसान बिता पाएगा एक सामान्य जीवन, फ़रिश्ते की तरह खड़ा रहेगा वो।

और यह होगा अंतिम वादा जो परमेश्वर देगा इंसान को।

एक बार जब इंसान जीत लिया जाएगा पूरी तरह से, पूरी तरह से,

बदल जाएगा उसका दिल और दिमाग़।

एक बार जब इंसान जीत लिया जाएगा पूरी तरह से,

बदल जाएगा उसका दिल और दिमाग़।

इंसान का दिल करेगा परमेश्वर का आदर।

इंसान का दिल करेगा परमेश्वर से प्रेम।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'मनुष्य के सामान्य जीवन को बहाल करना और उसे एक अद्भुत मंज़िल पर ले जाना' से रूपांतरित

पिछला: 1016 जब राज्य पूरी तरह उतरेगा

अगला: 1018 परमेश्वर की विजय के प्रतीक

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2023 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें