280 एकमात्र परमेश्वर का प्रभुत्व है इंसान की नियति पर

I

तुम अपने जीवन में चाहे कितनी ही दूर तक चले हो,

चाहे तुम कितने ही बुज़ुर्ग हो,

तुम्हारी यात्रा चाहे कितनी ही शेष हो,

तुम्हें परमेश्वर के अधिकार को पहचानना होगा,

वो तुम्हारा अद्वितीय स्वामी है, इसे पूरे ईमान से स्वीकारना होगा।

कितनी ही बड़ी हो काबिलियत किसी की,

दूसरों की नियति को कोई प्रभावित कर नहीं सकता,

आयोजित करने, बदलने या काबू करने की तो बात ही क्या।

इंसान की हर चीज़ पर प्रभुत्व है सिर्फ़ अद्वितीय परमेश्वर का,

क्योंकि इंसान की नियति पर सिर्फ़ उसी को अधिकार है शासन करने का।

इस तरह सिर्फ़ सृष्टिकर्ता ही स्वामी है इंसान का।

II

ज्ञान होना चाहिये सभी को, इंसान की नियति पर

परमेश्वर के प्रभुत्व का।

कुंजी है ये इंसानी ज़िंदगी को जानने की, सत्य को पाने की,

सबक है ये हर रोज़ परमेश्वर को जानने का।

छोटा मार्ग ले नहीं सकते तुम इस लक्ष्य को पाने का।

कितनी ही बड़ी हो काबिलियत किसी की,

दूसरों की नियति को कोई प्रभावित कर नहीं सकता,

आयोजित करने, बदलने या काबू करने की तो बात ही क्या।

इंसान की हर चीज़ पर प्रभुत्व है सिर्फ़ अद्वितीय परमेश्वर का,

क्योंकि इंसान की नियति पर सिर्फ़ उसी को अधिकार है शासन करने का।

इस तरह सिर्फ़ सृष्टिकर्ता ही स्वामी है इंसान का।

III

बच नहीं सकते परमेश्वर के प्रभुत्व से तुम।

परमेश्वर एकमात्र प्रभु है इंसान का।

एकमात्र स्वामी है वो इंसान की नियति का।

इसलिये ख़ुद अपनी नियति पर इंसान हुक्म चला नहीं सकता;

ये नामुमकिन है, इंसान इसके परे जा नहीं सकता।

कितनी ही बड़ी हो काबिलियत किसी की,

दूसरों की नियति को कोई प्रभावित कर नहीं सकता,

आयोजित करने, बदलने या काबू करने की तो बात ही क्या।

इंसान की हर चीज़ पर प्रभुत्व है सिर्फ़ अद्वितीय परमेश्वर का,

क्योंकि इंसान की नियति पर सिर्फ़ उसी को अधिकार है शासन करने का।

इस तरह सिर्फ़ सृष्टिकर्ता ही स्वामी है इंसान का।

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला: 279 परमेश्वर ने नीनवे के राजा के पश्चाताप की प्रशंसा की

अगला: 281 इंसान अपनी किस्मत पर काबू नहीं कर सकता

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें