280 एकमात्र परमेश्वर का प्रभुत्व है इंसान की नियति पर

1

तुम अपने जीवन में चाहे कितनी ही दूर तक चले हो,

चाहे तुम कितने ही बुज़ुर्ग हो, तुम्हारी यात्रा चाहे कितनी ही शेष हो,

तुम्हें परमेश्वर के अधिकार को पहचानना होगा,

वो तुम्हारा अद्वितीय स्वामी है, इसे पूरे ईमान से स्वीकारना होगा।

कितनी ही बड़ी हो काबिलियत किसी की,

दूसरों की नियति को कोई प्रभावित कर नहीं सकता,

आयोजित करने, बदलने या काबू करने की तो बात ही क्या।

इंसान की हर चीज़ पर प्रभुत्व है सिर्फ़ अद्वितीय परमेश्वर का,

क्योंकि इंसान की नियति पर सिर्फ़ उसी को अधिकार है शासन करने का।

इस तरह सिर्फ़ सृष्टिकर्ता ही स्वामी है इंसान का।

2

ज्ञान होना चाहिये सभी को, इंसान की नियति पर परमेश्वर के प्रभुत्व का।

कुंजी है ये इंसानी ज़िंदगी को जानने की, सत्य को पाने की,

सबक है ये हर रोज़ परमेश्वर को जानने का।

छोटा मार्ग ले नहीं सकते तुम इस लक्ष्य को पाने का।

कितनी ही बड़ी हो काबिलियत किसी की,

दूसरों की नियति को कोई प्रभावित कर नहीं सकता,

आयोजित करने, बदलने या काबू करने की तो बात ही क्या।

इंसान की हर चीज़ पर प्रभुत्व है सिर्फ़ अद्वितीय परमेश्वर का,

क्योंकि इंसान की नियति पर सिर्फ़ उसी को अधिकार है शासन करने का।

इस तरह सिर्फ़ सृष्टिकर्ता ही स्वामी है इंसान का।

3

बच नहीं सकते परमेश्वर के प्रभुत्व से तुम।

परमेश्वर एकमात्र प्रभु है इंसान का।

एकमात्र स्वामी है वो इंसान की नियति का।

इसलिये ख़ुद अपनी नियति पर इंसान हुक्म चला नहीं सकता;

ये नामुमकिन है, इंसान इसके परे जा नहीं सकता।

कितनी ही बड़ी हो काबिलियत किसी की,

दूसरों की नियति को कोई प्रभावित कर नहीं सकता,

आयोजित करने, बदलने या काबू करने की तो बात ही क्या।

इंसान की हर चीज़ पर प्रभुत्व है सिर्फ़ अद्वितीय परमेश्वर का,

क्योंकि इंसान की नियति पर सिर्फ़ उसी को अधिकार है शासन करने का।

इस तरह सिर्फ़ सृष्टिकर्ता ही स्वामी है इंसान का।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III' से रूपांतरित

पिछला: 279 परमेश्वर ने नीनवे के राजा के पश्चाताप की प्रशंसा की

अगला: 281 इंसान अपनी किस्मत पर काबू नहीं कर सकता

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें