26 ईश्वर की सात तुरहियाँ फिर बजती हैं

1

सात तुरहियाँ बजकर, सोए हुओं को जगाएँ।

जल्दी उठो! ज्यादा देर नहीं हुई!

अपने जीवन पर ध्यान दो। देखो, क्या समय हुआ है।

तुम क्या खोजते? सोचने के लिए क्या रखा है?

क्या नहीं देखा तुमने अंतर

ईश-जीवन पाने में और जिनसे तुम चिपके रहते, उनमें?

जानबूझकर खेलना बंद करो! ये अवसर मत चूको।

ऐसा अच्छा समय फिर न आएगा!

शैतान के छल को समझो, विजय पाओ, उस पर विजय पाओ!

ईश्वर का अनुसरण करो, मजबूत बनो, बढ़ते चलो, अंत तक।

स्वर्ग और धरती मिट जाएँगे, पर ईश-वचन रहेगा!

स्वर्ग और धरती मिट जाएँगे, पर ईश-वचन रहेगा!

स्वर्ग और धरती मिट जाएँगे, पर ईश-वचन रहेगा!

स्वर्ग और धरती मिट जाएँगे, पर ईश-वचन रहेगा!

2

जब तुरहियाँ फिर बजेंगी, तो ये न्याय की पुकार होगी।

बागी, देश, लोग सब झुक जाएँगे।

ईश्वर का मुखमंडल सभी देशों, लोगों के सामने होगा।

पूरे आश्वस्त होकर सब उसका नाम पुकारेंगे।

ईश्वर और उसके पुत्र महिमा पाएँगे, मिलकर राज करेंगे,

सभी देशों का न्याय करेंगे, बुराई को दंडित करेंगे,

ईश्वर के लोगों को बचाएँगे, उन पर दया दिखाएँगे, राज्य में स्थिरता लाएँगे।

सात तुरहियों से बहुत, बहुत लोग बचाए जाएँगे,

ईश-पूजा और स्तुति के लिए लौट आएँगे,

ईश-पूजा और स्तुति के लिए लौट आएँगे!

स्वर्ग और धरती मिट जाएँगे, पर ईश-वचन रहेगा!

स्वर्ग और धरती मिट जाएँगे, पर ईश-वचन रहेगा!

स्वर्ग और धरती मिट जाएँगे, पर ईश-वचन रहेगा!

स्वर्ग और धरती मिट जाएँगे, पर ईश-वचन रहेगा!

3

जब सात तुरहियाँ एक बार फिर बजेंगी,

ये शैतान पर विजय होगी, एक युग का अंत होगा।

ये धरती पर राज्य के जीवन की शुरुआत को सलामी है!

ये तूर्यनाद स्वर्ग और धरती को हिलाता हुआ,

सिंहासन के चारों ओर गूँजता है।

ये ईश-प्रबंधन-योजना की विजय का संकेत है।

ये शैतान के साथ किया गया न्याय, पुरानी दुनिया के लिए मौत की सजा है।

इसका अर्थ है, अनुग्रह का द्वार बंद हो रहा,

राज्य का जीवन शुरू होगा धरती पर, जो है सही और उचित।

ईश्वर बचाता उन्हें, जो उसे प्रेम करते।

उनके लौटने पर धरती वालों का अकाल से होगा सामना।

ईश्वर की सात विपत्तियाँ और कटोरे प्रभावी होंगे, प्रभावी होंगे।

स्वर्ग और धरती मिट जाएँगे, पर ईश-वचन रहेगा!

स्वर्ग और धरती मिट जाएँगे, पर ईश-वचन रहेगा!

स्वर्ग और धरती मिट जाएँगे, पर ईश-वचन रहेगा!

स्वर्ग और धरती मिट जाएँगे, पर ईश-वचन रहेगा!

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'आरंभ में मसीह के कथन' के 'अध्याय 36' से रूपांतरित

पिछला: 25 सिंहासन से आती हैं सात गर्जनाएँ

अगला: 27 जब पूरब से बिजली चमके

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें