25 सात गर्जनाएं सिंहासन से निकलती हैं

सिंहासन से सात गर्जनें निकलती हैं, वे ब्रह्मांड को हिला देती हैं, स्वर्ग और पृथ्वी को उलट-पुलट कर देती हैं, और आकाश में गूँजती हैं!

1 यह आवाज़ इतनी भेदक है कि लोग न तो इससे बचकर भाग सकते हैं, और न ही इससे छिप सकते हैं। बिजली की चमक और गरज की गूँजें भेजी जाती हैं, एक क्षण में स्वर्ग और पृथ्वी दोनों रूपांतरित हो जाते हैं, और लोग मृत्यु की कगार पर हैं। फिर, आकाश से बरसता एक प्रचंड तूफ़ान बिजली की रफ़्तार से समस्त ब्रह्माण्ड को अपनी लपेट में ले लेता है! बिजली की सर्द चकाचौंध की तरह ही, उसके गर्जन की गड़गड़ाहट, मनुष्यों को भय से थरथरा देती है। तेज दुधारी तलवार विद्रोह के पुत्रों को मार गिराती है। जब गर्जन होती है, रोने-चीखने की आवाज़ें फूट निकलती हैं। कुछ अपनी नींद से जगा दिए जाते हैं, और, बहुत घबड़ा कर, वे अपने आत्माओं में गहरी खोज करते हैं और सिंहासन के सामने वापस भाग आते हैं। वे चालाकी, धोखेबाज़ी और अपराध करना रोक देते हैं, और ऐसे लोगों के जाग जाने में अभी देर नहीं हुई है।

2 मैं सिंहासन से देखता हूँ। मैं लोगों के दिलों में गहराई से झाँकता हूँ। मैं उन लोगों को बचाता हूँ जो मुझे नेकी और उत्कंठा से चाहते हैं, और मैं उन पर दया करता हूँ। मैं अनंत काल तक उन लोगों को बचाऊँगा जो अपने दिलों में मुझे सब से अधिक प्यार करते हैं, जो मेरी इच्छा को समझते हैं, और जो मार्ग के अंत तक मेरा अनुसरण करते हैं। महान श्वेत सिंहासन का न्याय लोगों के सामने सार्वजनिक रूप से प्रकट किया जाता है और सभी लोगों के सामने यह घोषणा की जाती है कि न्याय शुरू हो गया है! यह बात संदेह से परे है कि जिनकी बात दिल से नहीं निकलती है, वे जो अनिश्चित महसूस करते हैं और निश्चित होने की हिम्मत नहीं रखते हैं, जो अपने समय को आलस में बर्बाद करते हैं, जो मेरी इच्छाओं को समझते तो हैं लेकिन उन्हें अभ्यास में लाने के इच्छुक नहीं हैं, उनका न्याय किया जाना चाहिए। सिंहासन से लेकर पूरे ब्रह्मांड के सिरों तक, सात गर्जनें गूँज उठती हैं। लोगों का एक बड़ा समूह बचाया जाएगा और मेरे सिंहासन के सामने समर्पित होगा।

3 जीवन के इस प्रकाश के बाद, लोग जीवित रहने के साधनों को तलाशते हैं और वे स्वयं को मेरे पास आने से सम्मान में घुटने टेकने से रोक नहीं पाते हैं, उनके मुंह सर्वशक्तिमान सच्चे परमेश्वर के नाम को पुकारते हैं। पृथ्वी के सिरों पर रहने वालों को देखने दो कि मैं धर्मी हूँ, मैं वफ़ादार हूँ, मैं प्रेम हूँ, मैं करुणा हूँ, मैं प्रताप हूँ, मैं प्रचंड अग्नि हूँ, और अंततः मैं निर्मम न्याय हूँ। सभी मनुष्य ईमानदारी से आश्वस्त हैं और फिर से कोई भी मेरा विरोध, मेरी आलोचना करने की, या मेरी निंदा करने की हिम्मत नहीं करता है। सभी लोगों को जान लेने दो, ब्रह्मांड के सिरों को ज्ञात होने दो और प्रत्येक व्यक्ति ये जान जाये: सर्वशक्तिमान परमेश्वर एकमात्र सच्चा परमेश्वर है। सभी राष्ट्र और समस्त लोग अनंत काल के लिए मेरे सामने समर्पण कर देंगे!

— "वचन देह में प्रकट होता है" में आरम्भ में मसीह के कथन के "अध्याय 35" से रूपांतरित

पिछला: 24 वह जो सात गर्जनाओं को खोलता है

अगला: 26 परमेश्वर की सात तुरहियाँ फिर से बज रही हैं

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें