27 जब पूरब से बिजली चमके

1

जब हर इंसान ध्यान दे, हर चीज़ नयी और जीवित हो जाए,

हर कोई बिना शक ईश्वर की आज्ञा माने, ईश्वर का बोझ उठाए,

तब पूरब से बिजली आए, पूरब से पश्चिम तक सब चमकाए,

डराए पूरी धरती को इस रोशनी से। ऐसे में ईश्वर नवजीवन शुरू करे।

ईश्वर धरती पर नया काम शुरू करे, और कायनात के लोगों से कहे :

जब पूरब से बिजली आए, तो उस वक्त ईश्वर बोलना शुरू करे।

जैसे ही बिजली आए, आसमान रोशन हो जाए,

तारे बदल जाएँ, हाँ बदल जाएँ।

2

ईश्वर की गवाही से लेकर कार्य के आरंभ तक,

पूरी धरती पर दिव्यता के शासन तक,

यह पूर्वी बिजली की किरण है, जो चमके पूरी कायनात में।

धरती के राज्य सारे, मसीह के हो जाते तब पूरी कायनात रोशन हो।

ये समय है पूर्वी बिजली के चमकने का :

देहधारी ईश्वर बोले और करे काम दिव्यता से।

जब ईश्वर धरती पर बोलना शुरू करे, तो चमकती पूर्वी बिजली आए।

जब सिंहासन से जीवन जल बहे, जब सिंहासन से वाणी की शुरुआत हो,

उसी समय सात आत्माओं के वचन शुरू हों।

3

ये समय है पूरब की बिजली के चमकने का :

समय के अंतर के कारण, रोशनी का स्तर बदलता है,

प्रकाश का दायरा भी सीमित होता है।

पर जैसे ही उसका काम और योजना बदले,

अपने पुत्रों, लोगों पर उसका काम बदले,

रोशनी करे अपना काम, कायनात रोशन हो, कोई मैल न रहे।

ये फल है ईश्वर की छह हज़ार साल की योजना का, ईश्वर जिसका आनंद ले।

जब ईश्वर रोशन करे पूरी धरती को, तो स्वर्ग और धरती की हर चीज़ बदले।

आसमाँ के सितारे बदल जाएँगे, चाँद-सूरज नए हो जाएँगे,

तब धरती पर इंसान भी नया होगा, ये काम है ईश्वर का स्वर्ग और धरती पर।

आसमाँ के सितारे बदल जाएँगे, चाँद-सूरज नए हो जाएँगे,

तब धरती पर इंसान भी नया होगा, ये काम है ईश्वर का स्वर्ग और धरती पर।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचनों के रहस्य की व्याख्या' के 'अध्याय 12' से रूपांतरित

पिछला: 26 ईश्वर की सात तुरहियाँ फिर बजती हैं

अगला: 28 परमेश्वर की भेड़ें सुन सकती हैं उसकी वाणी

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें