647 हम बचाए गए हैं क्योंकि हमें परमेश्वर ने चुना है

1

हालाँकि पैदा होकर रहते मलिन धरती पर हम,

ईश्वर राह दिखाता, बचाता, और जीत लेता हमें।

आज़ाद कर लिया ख़ुद को शैतान के असर से हमने।

हमारे आज्ञापालन की वजह हमारी नेकी या ईश्वर-प्रेम नहीं है।

वजह है: परमेश्वर ने चुना है, नियत किया है हमें,

आज जीत लिए गए हैं, गवाही दे सकते हैं हम,

उसकी गवाही दे सकते हैं हम, उसकी सेवा कर सकते हैं हम।

परमेश्वर ने चुना और रक्षा की, तभी बचाया गया हमें,

और अब शैतान के कब्ज़े से छुड़ाया है हमें।

उसने बचाया हमें, मलिनता को त्याग सकते हैं हम,

शुद्ध हो सकते हैं बड़े लाल अजगर के देश में हम।

हम बचाए गए हैं, क्योंकि परमेश्वर ने चुना है हमें।

2

हाँ, इंसानों में सबसे भ्रष्ट हैं हम।

ये सच है, ईश्वर का आदेश है, इसे नकारा नहीं जा सकता।

मगर असर से बच गए हम, त्याग दिया उसे,

घृणा है अपने पुरखों से हमें, मुँह मोड़ लेते हैं उनकी ओर से हम।

ईश्वर की व्यवस्थाओं का पालन करने को तैयार हैं हम।

ईश्वर की इच्छा के मुताबिक काम करके, उसे संतुष्ट करना चाहेंगे हम।

उसकी अपेक्षाओं को पूरा करने को तैयार हैं हम।

परमेश्वर ने चुना और रक्षा की, तभी बचाया गया हमें,

और अब शैतान के कब्ज़े से छुड़ाया है हमें।

उसने बचाया हमें, मलिनता को त्याग सकते हैं हम,

शुद्ध हो सकते हैं बड़े लाल अजगर के देश में हम।

हम बचाए गए हैं, क्योंकि परमेश्वर ने चुना है हमें।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'विजय के कार्य की आंतरिक सच्चाई (2)' से रूपांतरित

पिछला: 646 इंसानों के बीच सबसे सुंदर चीज

अगला: 648 सत्य का अभ्यास करो तो तुम बदल सकते हो

2022 के लिए एक खास तोहफा—प्रभु के आगमन का स्वागत करने और आपदाओं के दौरान परमेश्वर की सुरक्षा पाने का मौका। क्या आप अपने परिवार के साथ यह विशेष आशीष पाना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें