740 जो परमेश्वर का सम्मान करते हैं केवल वही परीक्षाओं में गवाह बन सकते हैं

1 परमेश्वर के प्रति अय्यूब का भय और आज्ञाकारिता मनुष्यजाति के लिए एक उदाहरण है, और उसकी सिद्धता और खराई मानवता की पराकाष्ठा थी जो मनुष्य के द्वारा अवश्य धारण की जानी चाहिए। यद्यपि उसने परमेश्वर को नहीं देखा था, फिर भी उसने यह एहसास किया कि परमेश्वर सचमुच में अस्तित्व में है, और इस एहसास की वजह से वह परमेश्वर का भय मानता था—और परमेश्वर के अपने इसी भय के कारण, वह परमेश्वर का आज्ञा पालन करने में समर्थ था। जो कुछ उसके पास है उसे लेने की उसने परमेश्वर को खुली छूट दी, फिर भी उसने कोई शिकायत नहीं की, और वह परमेश्वर के सामने गिर गया और उसने परमेश्वर से कहा कि, इसी समय, भले ही परमेश्वर उसके प्राण ले ले, फिर भी वह, बिना किसी शिकायत के, प्रसन्नता से उसे ऐसा करने देगा। उसका सम्पूर्ण आचरण उसकी सिद्धता और सच्ची मानवता के कारण था।

2 अपनी निर्दोषता, ईमानदारी, और उदारता के परिणामस्वरूप, अय्यूब परमेश्वर के अस्तित्व के बारे में अपने एहसास और अनुभव में अटल था, और इस बुनियाद पर उसने स्वयं के बारे में माँगें की तथा अपनी सोच, व्यवहार, आचरण और परमेश्वर के सामने कार्यों के सिद्धान्तों को उसके लिए परमेश्वर के मार्गदर्शन और परमेश्वर के कर्मों के अनुसार मानकीकृत किया जिन्हें उसने सभी चीज़ों के बीच देखा था। समय बीतने के साथ, उसके अनुभवों ने उसमें परमेश्वर का सच्चा और वास्तविक भय उत्पन्न किया और उसे दुष्टता से दूर रखा। यह ईमानदारी का वही स्रोत था जिसे अय्यूब ने दृढ़ता से थामा।

3 अय्यूब ने ईमानदार, निर्दोष, और उदार मानवता को धारण किया था, और उसे परमेश्वर का भय मानने का, परमेश्वर का आज्ञापालन का, और दुष्टता से दूर रहने का, और साथ ही उस ज्ञान का वास्तविक अनुभव था कि "यहोवा ने दिया और यहोवा ही ने लिया।" केवल इन्हीं चीज़ों की वजह से ही वह शैतान के ऐसे भयंकर हमलों के बीच डटे रहने और गवाही देने में समर्थ था, और केवल उन्हीं की वजह से वह उस वक्त परमेश्वर को निराश नहीं करने और परमेश्वर को एक संतोषजनक उत्तर देने में समर्थ था जब परमेश्वर की परीक्षाएँ उसके ऊपर आ पड़ी थीं।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर II" से रूपांतरित

पिछला: 739 परमेश्वर के प्रति श्रद्धा रखने वाले लोग सभी चीज़ों में उसका गुणगान करते हैं

अगला: 742 वही मनुष्य खुश है जो परमेश्वर का सम्मान करता है

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है अंत के दिनों के मसीह के कथन (संकलन) अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप अंत के दिनों के मसीह के लिए गवाहियाँ परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें