213 एक पश्चातापी हृदय

1

परमेश्वर के वचनों के न्याय के माध्यम से, मैंने स्वयं अपने भ्रष्टाचार का असली चेहरा देखा।

हालाँकि मैं परमेश्वर में विश्वास करता था और उसके वचनों को पढ़ता था, मेरा हृदय सच्चाई के लिए तरसता नहीं था।

मैंने जो दिया, मैंने जो त्याग दिया, मैंने जो खर्च किया—वह सब अधम इरादों से कलुषित हुआ करता था।

मैं केवल परमेश्वर के आशीर्वाद को पाने की कामना किया करता था; मैंने कभी भी परमेश्वर से सच्चा प्रेम नहीं किया।

परमेश्वर के कठोर न्याय और परीक्षणों ने मुझे पूरी तरह उजागर कर दिया।

मैं नकारात्मक, निष्क्रिय, आत्म-विनाशकारी था, फिर भी अपनी संभावनाओं और अपने भाग्य के साथ व्यस्त रहता था।

मैंने अपने पतन पर, अपने भ्रष्टाचार की कुरूपता पर नज़र डाली,

मेरी लोभी कामनाएँ, और मेरी झूठी शान—

मैं कैसे परमेश्वर द्वारा घृणित नहीं हो सकता था?

2

परमेश्वर के वचनों के प्रकाश में आत्म-चिंतन करते हुए, मेरा मन अचानक प्रबुद्ध हुआ:

परमेश्वर के सभी वचन सत्य हैं—बात बस इतनी है कि मैं अपनी तलाश में लापरवाह था।

मेरे स्वभाव में कोई बदलाव नहीं आया था, मैं अभी भी शैतान के ज़हर से जीता था।

मैं स्वार्थी, चालाक, धोखेबाज और अल्हड़ था—परमेश्वर से मुझे भय कहाँ था?

मैं गहराई से भ्रष्ट था, मुझमें मानव से कोई सदृशता नहीं थी, और फिर भी मैं परमेश्वर का आशीर्वाद पाने की कामना किया करता था।

मैं कितना मूर्ख था! मैं परमेश्वर की पवित्रता और धार्मिकता को नहीं जानता था।

मैंने पीछे मुड़कर उस रास्ते को देखा जिस पर मैं चला था: कहाँ थी कोई भी सच्ची गवाही?

मेरे दिल में पछतावा हुआ, मैं सचमुच परमेश्वर के सामने पश्चाताप करने लगा।

मैं केवल सत्य की तलाश करना और नए सिरे से शुरू करना चाहता था।

3

परमेश्वर के न्याय ने मुझे बचाया, इसने मेरे भ्रष्टाचार को दूर किया।

उसके वचनों ने मेरा न्याय किया, मुझे ताड़ना दी, और मेरी परीक्षा ली, आशीर्वाद पाने की मेरी मंशा को निष्कासित किया।

मैं समझ गया कि जीवन में मूल्य और अर्थ केवल तभी होते हैं जब किसी ने सत्य को हासिल किया हो।

यह विश्वास करते हुए कि परमेश्वर का किया हुआ सब कुछ धार्मिक होता है, मुझे उसकी आज्ञा का पूरी तरह से पालन करना चाहिए।

परमेश्वर ने पीड़ा और अपमान को सहा है, वह मनुष्य को बचाने के लिए सत्य को व्यक्त करता है।

फिर भी मैंने उसे कुछ नहीं चुकाया था; मेरा दिल पश्चाताप और चिंता से भर गया।

मैं कैसे परमेश्वर को उसकी तड़पती उत्कंठा और प्रतीक्षा को जारी रखने देता?

चाहे मैं धन्य हो जाऊँ या दुर्भाग्य का सामना करूँ, मैंने अपना कर्तव्य ठीक से निभाने,

अपना मिशन पूरा करने, और परमेश्वर को गवाही देने का संकल्प किया।

पिछला: 212 एक हार्दिक पश्चात्ताप

अगला: 214 परमेश्वर को सेवा प्रदान करना हमारा सौभाग्य है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें