214 परमेश्वर को सेवा प्रदान करना हमारा सौभाग्य है

1

अब हम सुन सकते हैं ईश्वर की वाणी,

उसके प्रकटन और कार्य की पुष्टि कर सकते हैं।

हम ख़ुश हैं देखकर व्यावहारिक ईश्वर को,

आशीषित हैं हम, प्रभु की वापसी का स्वागत करते हैं।

हम परमेश्वर के साथ भोज में शामिल होते हैं,

हम उठाये जाते हैं स्वर्ग के राज्य में।

अब से, हम ईश्वर के वचनों का सेवन करेंगे और आनंद लेंगे।

हम उसके साथ रहकर इतने ख़ुश हैं।

हम इच्छुक हैं ईश्वर के लिए मेहनत करने को,

उसकी योजना और व्यवस्था के अधीन होने को,

जीवन भर अपने पूरे दिल से सेवा करने को,

हमेशा उसकी धार्मिकता की स्तुति करने को, स्तुति करने को।

2

हम आशीष पाने की इच्छा रखते हैं, हम सामना करते हैं

ईश्वर के वचनों के प्रकाशन और न्याय का।

हमारे दिल उसकी तलवार से बिंधे हुए हैं,

हम बहुत दर्द और यातना महसूस करते हैं।

हम हैं भ्रष्ट, ईश्वर को देखने के काबिल नहीं,

क्योंकि उस पर हमारा विश्वास

सिर्फ़ इसलिए है ताकि हम आशीष प्राप्त कर सकें

और स्वर्ग के राज्य में प्रवेश कर सकें।

लालसा के साल गुम हो चुके,

टूटे दिल के साथ, हम मुरझा रहे दर्द में।

ईश्वर के वचन जीतते हैं और हम आश्वस्त होते हैं।

हम ज़मीं पे गिरते हैं, हो कर शर्मसार।

3

केवल ईश्वर के वचनों के न्याय द्वारा

हम देख सकते हैं कि हम भ्रष्ट हैं।

आशीषित होने की इच्छा और इरादों से भरे,

हमारी भ्रष्टता नहीं शुद्ध हुई।

स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करने के अयोग्य,

ईश्वर के अनुग्रह से हम उसकी सेवा कर सकते हैं।

हम इच्छुक हैं और ये हमारी ख़ुशनसीबी है।

ये ईश्वर का महानतम प्यार और आशीष है।

हम इच्छुक हैं ईश्वर के लिए मेहनत करने को,

उसकी योजना और व्यवस्था के अधीन होने को,

जीवन भर अपने पूरे दिल से सेवा करने को,

हमेशा उसकी धार्मिकता की स्तुति करने को।

आज, हम सेवा करते हैं, खुद को अयोग्य मानते हैं,

नहीं चिंता हमें आशीष पाने की, बर्बाद होने या अपने अंत की।

ईश्वर शैतान को हराता है अपने वचनों से।

ऐसे ईश्वर उद्धार करता है अंधकार से हमारा।

पिछला: 213 एक पश्चातापी हृदय

अगला: 215 मोआब के वंशजों की ओर से परमेश्वर की स्तुति

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें