650 तुम्हें अपनी वर्तमान पीड़ा का अर्थ समझना होगा

1 अधिकांश लोग अब परमेश्वर पर विश्वास करते हैं, लेकिन अभी तक सही रास्ते पर प्रवेश नहीं किया है। वे अभी भी बहुत खाली और कमज़ोर महसूस करते हैं, कभी-कभी यह भी महसूस करते हैं कि सभी जीवित पीड़ित हैं, खालीपन महसूस करते हैं—मरने की इच्छा भी करते हैं। दर्शन से पहले व्यक्ति ऐसा ही रहता है। इस तरह के व्यक्ति ने सत्य प्राप्त नहीं किया है और अभी तक परमेश्वर को नहीं जान पाया है, इसलिए उसे अभी भी भीतरी आनंद महसूस नहीं होता है। तुम सबने, विशेष रूप से, उत्पीड़न सहा है और घर लौटने में कठिनाई का सामना किया है; तुम कष्ट उठाते हो, और तुममें मृत्यु के विचार और जीने की अनिच्छा भी है। ये देह की कमजोरियाँ हैं। कुछ लोग यह भी सोचते हैं: हम परमेश्वर पर विश्वास करते हैं, और हमें अपने भीतर आनंद महसूस करना चाहिए। आज परमेश्वर में विश्वास करना बहुत परेशान करता है।

2 तुम केवल यह जानते हो कि देह का सुख ही सब कुछ है। तुम नहीं जानते कि आज परमेश्वर क्या कर रहा है। परमेश्वर को तुम सब की देह को कष्ट उठाने की अनुमति देनी पड़ती है ताकि तुम्हारे स्वभाव को बदल सके। भले ही तुम्हारी देह कष्ट उठाती है, पर तुम्हारे पास परमेश्वर का वचन है और तुम्हारे पास परमेश्वर का आशीर्वाद है। अगर तुम चाहो तो भी तुम मर नहीं सकते हो: क्या तुम यह स्वीकार कर सकते हो कि मर जाने पर तुम परमेश्वर को नहीं जानोगे और सत्य को नहीं पाओगे? अब, मुख्य रूप से, बस इतना है कि लोगों ने अब तक सत्य नहीं पाया है, और उनके पास जीवन नहीं है। अब लोग उद्धार पाने की प्रक्रिया के बीच में हैं, इसलिए उन्हें इस अवधि के दौरान कुछ कष्ट उठाना होगा।

3 आज दुनिया भर में हर किसी की परीक्षा ली जाती है: परमेश्वर अब भी कष्ट उठा रहा है—क्या यह उचित है कि तुम सब कष्ट न उठाओ? भयानक आपदाओं के माध्यम से परिशोधन के बिना वास्तविक विश्वास उत्पन्न नहीं हो सकता, और सत्य और जीवन प्राप्त नहीं किया जा सकता। आज़माइशों और परिशोधन के बिना कुछ हासिल नहीं किया जाएगा। पतरस को अंत में सात सालों के लिए आज़माया गया था। उन सात सालों में वह सैकड़ों परीक्षणों से गुज़रा था, और केवल उन्हीं तीन और तीन और एक साल बाद ही उसने जीवन और अपने स्वभाव में परिवर्तन प्राप्त किया। तो, जब तुम वास्तव में सत्य प्राप्त करते हो और परमेश्वर को जान पाते हो, तो तुम्हें लगता है कि जीवन को परमेश्वर के लिए व्यतीत किया जाना चाहिए। परमेश्वर के लिए जीवन व्यतीत न करना बहुत अफ़सोस की बात है: तुम कड़वे पछतावे और अत्यंत पश्चाताप के साथ अपना जीवन व्यतीत करोगे।

— "मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'मनुष्य का स्वभाव कैसे जानें' से रूपांतरित

पिछला: 649 ईश्वर की इच्छा को निराश नहीं कर सकते तुम

अगला: 651 इस पीड़ा को सहन करने का गहरा महत्व है

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें