649 ईश्वर की इच्छा को निराश नहीं कर सकते तुम

1

ईश-वचनों के न्याय को, शुद्धिकरण और

आज्ञाओं को, स्वीकार कर पाते हो तुम।

पूर्वनियत किया इन्हें ईश्वर ने शुरू में ही।

जब ताड़ना दी जाए तो, ज़्यादा दुखी मत होना।

तुम लोगों पर हुए काम को कोई ले न पाए,

न ही तुम लोगों को मिले आशीष कोई ले पाए।

जो तुम लोगों को मिला उसे कोई न ले पाए।

धर्म के लोग तुलना तुमसे कर न पाएँ।

माहिर नहीं तुम लोग बाइबल में, न धार्मिक सिद्धांत हैं तुम लोगों में;

फिर भी सर्वाधिक मिला तुम लोगों को ईश-कार्य से।

तुम लोगों का महानतम आशीष यही है।

2

ईश्वर के प्रति अधिक समर्पित हो जाओ,

उसके प्रति अधिक निष्ठावान बन जाओ।

ईश्वर उन्नत करता है तुम्हें, सो और अधिक प्रयास करो,

ईश-आज्ञा स्वीकारने को आध्यात्मिक कद तैयार करो।

जो जगह दी तुमको ईश्वर ने वहाँ अटल रहो,

ईश-जन बनने का प्रयास करो, राज्य की तालीम स्वीकारो,

ईश्वर द्वारा प्राप्त हो जाओ, और उसकी शानदार गवाही बनो।

अगर है ये संकल्प तुम्हारा, तो अंत में ईश्वर द्वारा प्राप्त हो जाओगे,

और यकीनन ईश्वर की शानदार गवाही बन जाओगे।

सबसे अहम आज्ञा है कि तुम ईश्वर द्वारा प्राप्त हो जाओ,

ईश्वर की शानदार गवाही बन जाओ।

यही दरअसल इच्छा है ईश्वर की।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर के सबसे नए कार्य को जानो और उसके पदचिह्नों का अनुसरण करो' से रूपांतरित

पिछला: 648 सत्य का अभ्यास करो तो तुम बदल सकते हो

अगला: 650 तुम्हें अपनी वर्तमान पीड़ा का अर्थ समझना होगा

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें