651 इस दुःख को सहने का गहरा महत्व है

1

ईश्वर को मानने वालों की आशा है ईश्वर का दिन जल्द ही आएगा,

होगा उनके दुखों का अंत;

आशा है उनकी रूप बदलेगा ईश्वर,

और उनकी सारी मुसीबतें होंगी ख़तम।

ये खयाल रहता है उनके दिल की गहराई में,

क्योंकि इंसान का शरीर दुख सहना न चाहे

बल्कि अच्छे दिनों की करे चाहत जब गुज़र रहा हो दर्द से।

ये चीज़ें सही हालात बिन सामने नहीं आयेंगी।

जब तक सही हालात न हो, हर कोई ठीक लगे;

अच्छी कद-काठी वाला लगे कि वो सत्य समझता है,

और लगता है ऊर्जा से भरपूर।

एक दिन, हालात सही होने पर, सारे विचार बाहर आ जाएंगे;

उनका मन शुरू कर देगा संघर्ष, कुछ लोगों का होगा शुरू पतन।

ऐसा नहीं कि ईश्वर राह नहीं बनाता या तुम्हें अपना अनुग्रह नहीं देता;

तुम्हारी कठिनाइयों को अनदेखा करे वो ऐसा नहीं है।

ये दर्द जो सहते हो वो है आशीर्वाद,

क्योंकि बचाये जाने और जीवित रहने के लिए ये सहना ही होगा;

ये ईश्वर के द्वारा पहले से निश्चित है।

2

ये मुसीबतें जो तुम सहते हो है तुम्हारे लिए आशीर्वाद।

ना सोचो कि साधारण है ये बात;

ये खिलवाड़ नहीं कि लोगों को मुसीबत में डाले।

इसका मतलब गहरा है।

यदि हो सही राह पे तुम, और तुम्हारी खोज भी हो सही,

अंत में तुम सारे युगों के सभी संतों से ज़्यादा पाओगे,

और जिन वादों की विरासत मिलेगी वो और बड़े होंगे।

ये दर्द जो सहते हो वो है आशीर्वाद,

बचाये जाने और जीवित रहने के लिए ये सहना ही होगा;

ये ईश्वर के द्वारा पहले से निश्चित है, ये ईश्वर के द्वारा पहले से निश्चित है।

— "अंत के दिनों के मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'सर्वाधिक जोख़िम उन्हें है जिन्होंने पवित्र आत्मा का कार्य गँवा दिया है' से रूपांतरित

पिछला: 650 तुम्हें अपनी वर्तमान पीड़ा का अर्थ समझना होगा

अगला: 652 तुम सब वो हो जो परमेश्वर की विरासत पाओगे

2022 के लिए एक खास तोहफा—प्रभु के आगमन का स्वागत करने और आपदाओं के दौरान परमेश्वर की सुरक्षा पाने का मौका। क्या आप अपने परिवार के साथ यह विशेष आशीष पाना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें