70 परमेश्वर से प्रेम करने वाले दिल से उसकी स्तुति करो

1

ईश्वर के वचनों को मिल-जुल कर खाते-पीते हम,

पवित्र आत्मा के कार्य का सच में आनंद लेते हम।

हम प्रार्थना पढ़ें, संगति करें, ध्यान करें ईश्वर का,

चिंतन-खोज करें ईश्वर की।

ईश्वर के वचनों का अभ्यास करते, हम सत्य जानते और मधुरता का एहसास करते हैं।

भ्रष्टता से मुक्त होकर, हम उसके सच्चे प्यार को चखें।

है अच्छा कलीसिया जीवन; स्तुति लेती कई रूप।

ईश्वर की स्तुति में हम जी भरकर नाचें-गाएँ।

नहीं कोई नियम-बंधन हमारी स्तुति में।

सच्ची स्तुति देती सदा आनंद हमें।

ईश्वर का साथ देता सच्चा आनंद हमें।

हम प्रेम करेंगे, आज्ञा मानेंगे ईश्वर की सदा।

देखकर ईश्वर के उद्धार की महानता,

ईश्वर के लिए प्रेम से भरे दिल से करें हम स्तुति उसकी।

2

हम सत्य पर संगति करते, पवित्र आत्मा के कार्य का आनंद लेते;

हम अनुभव साझा करते, जीवन में विकास करते।

ईश्वर के लिए हमारे दिलों में प्रेम है,

और हम एक दिल, एक मन से अपना कर्तव्य निभाते हैं।

हम सत्य का अभ्यास करते और ईमानदार हैं,

हम ईश्वर की आशीषों का, अगुवाई का अवलोकन करते।

शुद्ध करता न्याय हमें, हम ईश्वर की धार्मिकता देखते।

हम अपनी भ्रष्टता दूर करते, नये बनते।

हम सच्चे मानव की तरह जीवन जीते।

है राज्य का जीवन, करना आराधना ईश्वर की सच्चे मन से।

ईश्वर का साथ देता सच्चा आनंद हमें।

हम प्रेम करेंगे, आज्ञा मानेंगे ईश्वर की सदा।

देखकर ईश्वर के उद्धार की महानता,

ईश्वर के लिए प्रेम से भरे दिल से करें हम स्तुति उसकी।

3

हमने निरंतर ईश्वर का अनुसरण किया है,

और कितने ही उतार-चढ़ाव से गुज़रे हम।

है दमन घिनौना सरकारी,

सभी मुश्किलों में मसीह हमारे साथ है।

उसने हर सुख-दुख का अनुभव किया है।

परमेश्वर के वचन हमारा मार्गदर्शन करते हैं, उसके लिए हमारा प्रेम हमेशा अटल रहेगा।

हो जाए उद्धार हमारा इसकी ख़ातिर,

अनमोल कीमत अदा की है ईश्वर ने।

साथ रहकर, राह दिखाता सदा ईश्वर हमें।

ये सुंदर वक्त, और जीवन, कभी न भूलेंगे।

ईश्वर का साथ देता सच्चा आनंद हमें।

हम प्रेम करेंगे, आज्ञा मानेंगे ईश्वर की सदा।

देखकर ईश्वर के उद्धार की महानता,

ईश्वर के लिए प्रेम से भरे दिल से करें हम स्तुति उसकी।

ईश्वर का साथ देता सच्चा आनंद हमें।

हम प्रेम करेंगे, आज्ञा मानेंगे ईश्वर की सदा।

देखकर ईश्वर के उद्धार की महानता,

ईश्वर के लिए प्रेम से भरे दिल से करें हम स्तुति उसकी।

ईश्वर के लिए प्रेम से भरे दिल से करें हम स्तुति उसकी।

ईश्वर के लिए प्रेम से भरे दिल से करें हम स्तुति उसकी।

पिछला: 69 परमेश्वर के लिए अपने दिल के प्रेम को गाकर सुनाओ

अगला: 71 परमेश्वर को सच्चा प्रेम करना ही सबसे बड़ी ख़ुशी है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें