71 परमेश्वर को सच्चा प्रेम करना ही सबसे बड़ी ख़ुशी है

1

आखिर हमने सुनी वाणी ईश्वर की

उठाये गए उसके सिंहासन के सामने।

खाते-पीते, आनंद लेते उसके वचनों का,

रहते उसकी रोशनी में हम।

सत्य पर सहभागिता में,

अनुभव सांझा करने में,

मिलती है बेहद ख़ुशी दिल को हमारे।

अनुभव लेकर परमेश्वर के वचनों का,

जानकर सत्य को,

रूहें हमारी मुक्त होतीं,

महसूस करते प्रसन्नता हम।

परमेश्वर के वचनों के न्याय से गुज़रकर,

शुद्ध होकर, बन गये नये इंसान हम।

पाने को नया जीवन, खोजते सत्य को हम।

करना सच्चा प्रेम परमेश्वर को, है ख़ुशी सबसे बड़ी।

2

मसीह के आसन के सम्मुख गुज़रकर न्याय से,

देख चुके इंसान की भ्रष्टता के सत्य को हम।

दुधारी तलवार हैं वचन परमेश्वर के,

भेदते हैं आत्मा और हृदय हमारे।

समझकर सत्य को, जानकर ख़ुद को,

जीवन में प्रवेश का मार्ग है पास हमारे।

देखकर शैतानी प्रकृति और सार अपना,

लिया है संकल्प हमने पश्चाताप का,

नये आरंभ का।

परमेश्वर के वचनों के न्याय से गुज़रकर,

शुद्ध होकर, बन गये नये इंसान हम।

पाने को नया जीवन, खोजते सत्य को हम।

करना सच्चा प्रेम परमेश्वर को, है ख़ुशी सबसे बड़ी।

3

परमेश्वर से सच्चा प्रेम करके,

अपना कर्तव्य निभा कर,

पाएँगे आशीष यकीनन परमेश्वर से हम।

सब त्याग देते उसके अनुसरण की ख़ातिर

और उसकी ज़ोरदार गवाही देते हम।

लेते संकल्प परमेश्वर के सम्मुख हम,

रहेंगे निष्ठावान आख़िरी साँस तक, लेते शपथ हम।

उपहास, निंदा, दमन या मुश्किलें,

रोक न पाएँगी विकास को हमारे।

परमेश्वर के वचनों के न्याय से गुज़रकर,

शुद्ध होकर, बन गये नये इंसान हम।

पाने को नया जीवन, खोजते सत्य को हम।

करना सच्चा प्रेम परमेश्वर को, है ख़ुशी सबसे बड़ी।

करना सच्चा प्रेम परमेश्वर को, है ख़ुशी सबसे बड़ी।

करना सच्चा प्रेम परमेश्वर को, है ख़ुशी सबसे बड़ी।

पिछला: 70 परमेश्वर से प्रेम करने वाले दिल से उसकी स्तुति करो

अगला: 72 परमेश्वर के लिये प्रेम-गीत सदा गाते रहेंगे हम

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें