141 सर्वशक्तिमान परमेश्वर के लिये तरसना

1 हे परमेश्वर, हे परमेश्वर! हम तेरे लिए तरसते हैं। तू देहधारी बनकर, मनुष्य का पुत्र बनकर, कलीसियाओं में विचरण करता है। तेरे वचन हमारा सिंचन और पोषण करते हैं, तू सही समय पर हमारी अगुवाई और हमारा समर्थन करता है। हम हर दिन तेरे वचनों का आनंद लेते हैं, तेरे सामने रहते हैं, हमारे दिल में सुकून और शांति है। हे परमेश्वर, हे परमेश्वर! हमारे प्रिय सर्वशक्तिमान परमेश्वर। तेरे वचनों के न्याय और प्रकाशन हमें खुद को जानने देते हैं, शैतान द्वारा किए जाने वाले नुकसान से बचकर जीवन में सही मार्ग पर कदम रख सकते हैं। तेरे उद्धार के अनुग्रह को भुलाया नहीं जा सकता, यह हमारे दिलों में छप गया है। हम तेरे लिए तरसते हैं!

2 हे परमेश्वर, हे परमेश्वर! हम तेरे लिए तरसते हैं। तू हर रोज़ अपने वचन बोलता है और हमारे बीच रहकर कार्य करता है। तू वचनों का उपयोग करके हमें याद दिलाता है और प्रेरित करता है, कठोरता से हमारा न्याय करता है और हमें प्रकट करता है, हममें बेहद पश्चाताप है, हमारे लिए कहीं मुँह छिपाने लायक जगह नहीं है, हमारे मन में तेरे लिए श्रद्धा बढ़ रही है। हे परमेश्वर, हे परमेश्वर! हमारे प्रिय सर्वशक्तिमान परमेश्वर। तूने हर संभव वचन बोला है, जी-जान से काम किया है ताकि हम जीवन में आगे बढ़ सकें। तू हमारा न्याय और शुद्धिकरण करता है ताकि हम बचाए जा सकें और तेरे समस्त प्रेम को प्राप्त कर सकें। यह हमारा आशीष है, हमें तुझसे और भी अधिक लगाव हो रहा है।

3 हे परमेश्वर, हे परमेश्वर! हम तेरे लिए तरसते हैं। तू सीसीपी द्वारा किए जाने वाले उत्पीड़न के दौरान लगातार हमारे साथ रहा है, तेरे वचन सही समय पर हमारा मार्गदर्शन करते हैं। हम अब डरे हुए या भीरु नहीं रहे। राह दिखाने आर सहारा देने को तेरे वचन साथ हैं तो हम अपनी दुख-तकलीफों के बीच डटकर खड़े रहते हैं। हम तेरी गवाही देते हैं और तेरा गौरवगान करते हैं। हे परमेश्वर, हे परमेश्वर! हमारे प्रिय सर्वशक्तिमान परमेश्वर। तेरे वचन शत्रु शैतान को हराने के लिए हमारा मार्गदर्शन करते हैं। कठिनाइयों और परीक्षणों में हम तेरे प्रेम को महसूस करते हैं, हमारे दिल तेरे और करीब आ रहे हैं। हम तेरी पवित्रता, धार्मिकता, सर्वशक्तिमत्ता और बुद्धि के दर्शन करते हैं, हम सदा तेरी स्तुति करेंगे।

4 हे परमेश्वर, हे परमेश्वर! हम तेरे लिए तरसते हैं। तूने बरसों हमारे साथ रहकर काम किया है। हँसी-ख़ुशी से भरपूर वो लम्हे खूबसूरत याद बन गए हैं। हम तेरे सच्चे प्रेम को नहीं भूल सकते, हमारे दिल में तेरे लिए प्रेम बहुत पहले ही भर गया था; हमने संकल्प लिया है कि हम सदा तेरे प्रति निष्ठावान रहेंगे। हे परमेश्वर, हे परमेश्वर! हमारे प्रिय सर्वशक्तिमान परमेश्वर। हम तेरे उपदेशों को ध्यान में रखते हैं, तेरे वचनों का अभ्यास करते हैं, तेरी गवाही देने और तेरा गौरवगान करने के लिये पूरी निष्ठा से अपने कर्तव्यों को निभाते हैं। धरती पर हम हमेशा तेरा आज्ञापालन और तेरी आराधना करेंगे। हम हमेशा तेरे साथ घनिष्टता से जुड़े रहेंगे, हम तुझसे कभी अलग नहीं हो सकते।

पिछला: 140 हे परमेश्वर, मुझे तेरी याद आती है

अगला: 142 मैं परमेश्वर का प्रेम सदा मन में रखूँगा

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें