140 हे परमेश्वर, मुझे तेरी याद आती है

1 

चुपचाप, नि:शब्द, मैं तेरे लिये तड़पती हूँ; अपने दिल में पश्चत्ताप लिए मैं तेरे वचनों को पढ़ती हूँ।

आँसुओं में डूबी मेरी आँखें, जल्दी ही फिर से तुझसे मिलने की उम्मीद करती हैं।

पहले मैं विद्रोही थी और मैंने तुझे आहत किया है; मेरी बहुत-सी सारी गलतियाँ सुधारी नहीं जा सकतीं।

तेरा चेहरा न देखूँ तो दिल में दर्द उठता है, मैं वसंत, ग्रीष्म, पतझड़ और सर्दी, हर मौसम में तेरा इंतज़ार करती हूँ।

दिन-रात ख़ुद को दोष देती रहती हूँ।

अपराधबोध के आँसू चेहरे पर बहते हैं, मैं पश्चाताप से भरी हूँ।

कितनी चाहत है कि कि मैं पिछली गलतियों को सुधारूँ, मैं तुझे अपना दिल अर्पित करने के लिए तरसती हूँ।


2

मैं ख़ुशियों भरे दिनों को याद करती हूँ; मैं अक्सर तेरी वाणी और मुस्कान के बारे में सोचती हूँ।

तूने मन लगाकर सिखाये जो सबक मेरे कानों में गूँजते हैं; जब तक ज़िंदा हूँ, उन्हें कभी न भूलूँगी।

इन लंबे बरसों ने मुझे पीड़ा दी है, मेरी तन्हाई और अस्थिरता बर्दाश्त से बाहर हैं।

मैं वक्त को पीछे करने के ख़्वाब देखती हूँ, सचमुच मेरी ख़्वाहिश है कि मैं तेरे साथ रहूँ।

कहाँ है तू, मेरे परमप्रिय?

तेरा चेहरा देखने के लिये, तेरे आलिंगन के लिये मेरा दिल जलता है। 

प्रेम का एक खूबसूरत गीत रचते हुए, मेरा दिल हमेशा तेरी समरसता में रहेगा। 

पिछला: 139 हे परमेश्वर, क्या आप जानते हैं कि मैं आपके लिए कितना लालायित हूँ?

अगला: 141 सर्वशक्तिमान परमेश्वर के लिये तरसना

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।

संबंधित सामग्री

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर धर्मोपदेश और संगति अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें