695 परीक्षाओं के प्रति पतरस का रवैया

1

पतरस ने सही परीक्षाएं, अनगिनत परीक्षाएं ईश्वर के द्वारा।

इन परीक्षाओं ने उसे अधमरा कर दिया,

पर उसकी आस्था कभी कम न हुई।

तब भी जब ईश्वर ने कहा वो उसे सराहेगा नही,

और शैतान के हाथों में दे देगा, और कहा उसने छोड़ दिया है उसे,

वो बिलकुल भी हताश ना हुआ।

वो ईश्वर को पूर्व सिद्धांतों के अनुसार,

व्यवहारिक ढंग से प्रेम करता रहा, प्रार्थना करता रहा।

ऐसी परीक्षाओं के बीच भी, जो शरीर की नहीं, बल्कि वचनों की थीं,

वो ईश्वर से प्रार्थना करता रहा।

2

हे, ईश्वर, सर्वशक्तिमान, स्वर्ग, पृथ्वी और सभी चीज़ों के बीच,

तेरे हाथों में हैं सारे प्राणी और सारे इंसान।

जब तू हो दयावान, मेरा दिल खुश होता है तेरी दया से।

जब तू मेरा न्याय करे, तो अयोग्य होकर भी,

मैं तेरे असीम कर्मों की और समझ पाऊँ,

क्योंकि तू बुद्धि और अधिकार से परिपूर्ण है।

मेरा शरीर पीड़ित हो भले, मेरी आत्मा को सुकून है।

तेरी बुद्धि और कर्मों की प्रशंसा कैसे न करूं?

यदि तुझको जानने के बाद मरना भी पड़े, कैसे मैं ख़ुशी ख़ुशी वो न करूं?

3

ऐसी परीक्षाओं के दौरान, पतरस पूरी तरह न समझ पाया ईश-इच्छा,

फिर भी उसके द्वारा इस्तेमाल होने पर गर्व था उसे।

अपनी निष्ठा, ईश्वर के आशीष के कारण,

हज़ारों सालों से इंसान के लिए वो आदर्श रहा है।

क्या तुम्हें ठीक इसका ही अनुसरण नहीं करना चाहिए?

सोचो क्यों ईश्वर ने पतरस का इतना ब्योरा दिया है।

ये तुम्हारे व्यवहार के सिद्धांत होने चाहिए।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन' के 'अध्याय 6' से रूपांतरित

पिछला: 694 ताड़ना और न्याय के बारे में पतरस की समझ

अगला: 696 तुम्हें पता होना चाहिए कि परमेश्वर के कार्य का अनुभव कैसे करें

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें