808 पतरस जानता था परमेश्वर को सबसे अच्छी तरह

1

बरसों रहा पतरस परमेश्वर का वफ़ादार,

फिर भी दिल उसका नहीं था कभी शिकायती।

अय्यूब तक नहीं था उसके बराबर

युगयुगांतर में संत तो और भी थे पीछे।

न केवल इच्छा की परमेश्वर को जानने की उसने,

बल्कि जाना परमेश्वर को जब रचा षडयंत्र शैतान ने।

बरसों की सेवा, परमेश्वर के हृदय के मुताबिक,

शैतान कर न सका शोषण उसका।

पतरस जानता था, पतरस जानता था, परमेश्वर को सबसे अच्छी तरह।

पतरस जानता था, पतरस जानता था, परमेश्वर को सबसे अच्छी तरह।

सबसे अधिक था ज्ञान उसका परमेश्वर के बारे में।

2

पतरस ने अय्यूब की आस्था को अपनाया,

बल्कि और भी कई बातें सीखीं उसने, जो अय्यूब ने न समझी थीं।

अय्यूब की आस्था महान थी हालाँकि, आत्मिक जगत का ज्ञान उसका कम था।

कहे उसने वचन बहुत से जो ठीक सच के अनुरूप नहीं थे।

ज्ञान अभी सतही था उसका, पूर्णता में असमर्थ था, असमर्थ था।

पतरस जानता था, पतरस जानता था, परमेश्वर को सबसे अच्छी तरह।

पतरस जानता था, पतरस जानता था, परमेश्वर को सबसे अच्छी तरह।

सबसे अधिक था ज्ञान उसका परमेश्वर के बारे में।

3

पतरस सदा आत्मा की समझ को पाने की ताक में था।

आत्मिक जगत की गतिशीलता पर ध्यान था उसका।

न सिर्फ़ समझ पाया वो परमेश्वर की इच्छा को,

बल्कि शैतान की कुछ साज़िशों को भी समझ लिया उसने।

पतरस जानता था, पतरस जानता था, परमेश्वर को सबसे अच्छी तरह।

पतरस जानता था, पतरस जानता था, परमेश्वर को सबसे अच्छी तरह।

सबसे अधिक था ज्ञान उसका परमेश्वर के बारे में।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन' के 'अध्याय 8' से रूपांतरित

पिछला: 807 तुम्हें पतरस का अनुकरण करना चाहिए

अगला: 809 पतरस के पथ पर कैसे चलें

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें