602 परमेश्वर में सफल विश्वास का मार्ग

1

मंज़िल पौलुस और पतरस की मापी गई इस आधार पर कि

निभा सकें वो ईश प्राणी का कर्त्तव्य या नहीं

उनके योगदान की मात्रा पर नहीं।

मंज़िल उनकी नियत की गई उससे जो खोजते थे वे शुरू से,

इससे नहीं कि वे कितना काम करते थे या लोग क्या सोचते थे।

दिल से फ़र्ज़ निभाओ अगर तुम ईश-प्राणी के नाते तुम्हें सफलता मिले।

परमेश्वर से प्रेम करने की राह खोजना

ईश-प्राणियों के लिए सबसे सही राह है।

अपने स्वभाव में बदलाव की कोशिश करना,

ईश्वर से प्रेम करना, सफलता दिलाता है।

सफलता की ये राह, है मूल कर्तव्य और

ईश्वर के प्राणी का स्वरूप फिर पाने की।

शुरुआत से अंत तक परमेश्वर के सारे काम का लक्ष्य है यही।

दिल से फ़र्ज़ निभाओ अगर तुम ईश-प्राणी के नाते तुम्हें सफलता मिले।

परमेश्वर से प्रेम करने की राह खोजना

ईश-प्राणियों के लिए सबसे सही राह है।

अपने स्वभाव में बदलाव की कोशिश करना,

ईश्वर से प्रेम करना, सफलता दिलाता है।

2

अगर इंसान के अनुसरण में मिली हुई हैं, फिज़ूल की मागें, लालसाएँ,

तो उसका स्वभाव नहीं बदलेगा; यह पुन: प्राप्ति के काम के विपरीत है।

ये पवित्र आत्मा द्वारा किया नहीं जाता।

ये दर्शाता कि नहीं है इसे ईश्वर की मंज़ूरी।

जो न हो इसे ईश्वर की मंज़ूरी तो इसके कोई मायने नहीं।

दिल से फ़र्ज़ निभाओ अगर तुम ईश-प्राणी के नाते तुम्हें सफलता मिले।

परमेश्वर से प्रेम करने की राह खोजना

ईश-प्राणियों के लिए सबसे सही राह है।

अपने स्वभाव में बदलाव की कोशिश करना,

ईश्वर से प्रेम करना, सफलता दिलाता है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'सफलता या विफलता उस पथ पर निर्भर होती है जिस पर मनुष्य चलता है' से रूपांतरित

पिछला: 601 पतरस और पौलुस के मार्ग

अगला: 603 जब तुम सत्य का अनुसरण नहीं करते तो तुम पौलुस के रास्ते पर चलते हो

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें